Connect with us

CTET

CTET Science Practice Set: परीक्षा हॉल में जाने से पहले ‘विज्ञान’ के प्रैक्टिस सेट का अभ्यास जरूर करें!

Published

on

CTET 2022
Advertisement

CTET Exam Science Practice Set: देश की सबसे बड़ी शिक्षक पात्रता परीक्षा में एक सीटेट परीक्षा के 16 वें संस्करण का आयोजन 28 दिसंबर 2022 से 7 फरवरी 2023 तक किया जाना है। जिसके लिए बोर्ड के द्वारा एडमिट कार्ड जारी कर दिए गए हैं। इस परीक्षा में क्वालीफाई अभ्यर्थी देश में संचालित केंद्रीय विद्यालय, नवोदय विद्यालय एवं आर्मी पब्लिक स्कूलों में होने वाली शिक्षकों की नियुक्ति प्रक्रिया में आवेदन करने के पात्र होते हैं। अगर आप भी शिक्षक बनने का सपना देख रहे हैं, और इस परीक्षा में सम्मिलित होने जा रहे हैं, तो यहां पर हम आपके लिए विज्ञान पर आधारित प्रैक्टिस सेट लेकर आए हैं। जिसका अभ्यास आपको परीक्षा में बेहतर परिणाम दिलाने में मददगार साबित हो सकता है।

सीटेट परीक्षा के लिए विज्ञान से जुड़े महत्वपूर्ण बहुविकल्पीय प्रश्न—Science Practice Set For CTET Exam

Q. Select the correct statement from the following Options:/निम्नलिखित विकल्पों में से सही कथन का चयन करें:

1. Static friction is smaller than the sliding friction./स्थैतिक घर्षण सरकने वाले घर्षण से छोटा  होता है 

Advertisement

2. .Rolling friction is more than the sliding friction./रोलिंग घर्षण स्लाइडिंग घर्षण से अधिक है।

3. Static friction is smaller than the sliding friction but more than the rolling friction./स्थैतिक घर्षण फिसलने वाले घर्षण से छोटा होता है लेकिन लुढकने वाले घर्षण से अधिक होता है।

4. Sliding friction is more than the rolling friction but less than the static friction./फिसलने वाला घर्षण रोलिंग घर्षण से अधिक लेकिन स्थैतिक घर्षण से कम होता है।

Ans- 4 

Q. Consider the following statements about ozone:/ओजोन के बारे में निम्नलिखित कथनों पर विचार करें:

A. Ozone is formed at higher level of atmosphere by the action of UV rays on oxygen/ऑक्सीजन पर यूवी किरणों की क्रिया से वायुमंडल के उच्च स्तर पर ओजोन बनता है। 

B. It protects us from the harmful UV radiations which come from the sun/यह सूर्य से आने वाली हानिकारक यूवी किरणों से हमारी रक्षा करता है ।

C. Ozone is not different from oxygen /ओजोन ऑक्सीजन से अलग नहीं हैं 

D. Breaking down Ozone into oxygen is not considered a chemical change /ओजोन का ऑक्सीजन में टूटना रासायनिक परिवर्तन नहीं माना जाता है

Options:/विकल्पः 

1.B. C

2. A. C

3.A,B 

4.ALL

Ans- 3

Advertisement

Q. Out of eight planets six planets of the solar system rotate on their axis from west to east. The other two which rotate on their axes from east to west are /आठ ग्रहों में से सौरमंडल के छह ग्रह अपनी धुरी पर पश्चिम से पूर्व की ओर घूमते हैं। अन्य दो जो अपनी धुरी पर पूर्व से पश्चिम की ओर घूमते हैं, वे हैं

Options:/विकल्पः

1. Mercury, Uranus/बुध, यूरेनस 

2. Mercury, Neptune/बुध, नेप्च्यून

3. Venus, Neptune/शुक्र, नेपच्यून

4. Venus, Uranus/शुक्र, यूरेनस

Ans- 4 

Q. The purpose of remedial teaching is to-/ उपचारात्मक शिक्षण का उद्देश्य है-

(a) introduce new items./नए आइटम पेश करना

(b) the test recently taught items/हाल ही में पढ़ाए गए आइटम 

(c) teach again the items which are not properly understood by students/उन वस्तुओं को फिर से पढ़ाना जो छात्रों द्वारा ठीक से समझ में नहीं आते हैं। 

(d) teach again the items already learned/पहले से सीखी गई वस्तुओं को फिर से पढ़ाना

Ans- c 

Q. A photo essay is to enable a student /एक छात्र को सक्षम करने के लिए एक फोटो निबंध है 

(a) To learn about a particular situation through reading visuals/दृश्य पढ़ने के माध्यम से किसी विशेष स्थिति के बारे में जानने के लिए

(b) To learn about the technique of photography/फोटोग्राफी की तकनीक के बारे में जानने के लिए

(c) To understand the importance of the proof /सबूत के महत्व को समझने के लिए

(d) None of the above/उपरोक्त में से कोई नहीं

Advertisement

Ans- a 

Q. स्थानीय / नगरीय / राज्य स्तरीय वैज्ञानिक प्रतिस्पर्धी गतिविधियों को आयोजित करना महत्वपूर्ण है क्योंकि/It is important to organize local/urban / state level scientific competitive activities because

(a) यह शिक्षकों का मनोरंजन करता है/It entertains the teachers 

(b) यह आयोजकों को वित्तीय सहायता देता है /It gives financial assistance to the organizers

(c) यह बच्चों के बीच वैज्ञानिक प्रतिभा को उजागर करता है /it exposes the scientific talent among the children 

(d) इससे छात्र अपने समय का सदुपयोग कर सकते हैं./This allows students to make good use of their time

Ans- c 

Q. निम्नलिखित में से कौन विज्ञान के मॉडल का एक घटक नहीं है?/Which of the following is not a component of the model of science?

(a) गोंद/Gum

(b) विवरण/Description

(c) पूर्वानुमान/forecast

(d) निर्माण का स्पष्टीकरण/Explanation of construction

Ans- b 

Q. Which of the following can be assessed when Gita is using only MCQs as a tool to assess “Nutrition in Humans”?/ जब गीता “मनुष्यों में पोषण” का A आकलन करने के लिए एक उपकरण के रूप में केवल MCQ का उपयोग कर रही है तो निम्नलिखित में से किसका मूल्यांकन किया जा सकता है ? 

(a) Analytical ability to classify food items and make a poster/खाद्य पदार्थों को वर्गीकृत करने और एक पोस्टर बनाने की विश्लेषणात्मक क्षमता

(b) Misconceptions related to food and drink/खान-पान से जुड़ी गलतफहमी

(c) the learner’s ability to use the knowledge acquired and present it in the morning assembly in a role play /प्राप्त ज्ञान का उपयोग करने और सुबह की सभा में प्रस्तुत करने के लिए एक भूमिका निभाने के लिए शिक्षार्थी की क्षमता

(d) Ability of the learner to understand the importance of components of food and write a long essay/भोजन के घटकों के महत्व को समझने और एक लंबा निबंध लिखने के लिए शिक्षार्थी की क्षमता

Advertisement

Ans- c 

Q. From among the following, identify the set of Vitamins which are stored in liver and are not required by our body on everyday basis.

निम्न में से विटामिनों के उस सेट की पहचान करो जो यकृत में भंडारित रहतें हैं और हमारे शरीर की दैनिक आवश्यकता नहीं है।

1. A, C and E

2. B and C

3. A, D, B and K

4. A, D, E and K

Ans- 4 

Q. When an acid reacts with a base, which of the following is/are produced?/जब किसी अम्ल को क्षार में मिलाया जाता है, तब निम्न में से क्या उत्पन्न होता है?

1. Only salt/केवल लवण

2. Only waterकेवल जल

3. Salt, water and heat /लवण, जल तथा ऊष्मा

4. Salt and water/लवण तथा जल

Ans- 3 

Q. According to the NCF-2005 position paper on teaching of Science, which of the following is not true about science ?/विज्ञान की शिक्षा पर NCF-2005 के अनुसार, विज्ञान के विषय में निम्न में से क्या सत्य नहीं है?

1. The predicative and explanatory power of science helps in understating systems of nature/विज्ञान की भविष्यवाची और समझ की क्षमता प्रकृति के रेखीय तंत्र को समझने के लिए उत्तम है। 

2. Science is completely objective and value-neutral/विज्ञान पूर्णतया विषमपरक और मूल्य-उदासीन है।

3. Science has the potential to be emancipative or oppressive, beneficial or harmful /विज्ञान में स्वाधीन होने की अवसादी होने की, लाभदायक और हानिकारक होने की क्षमता है।

Advertisement

4. The methodology of science and its demarcation from other fields is a matter of philosophical debate./विज्ञान में प्रयोग की जाने वाली विधि और दूसरे क्षेत्रों में प्रयोग की जाने वाली विधियों के बीच का अंतर दार्शनिक स्तर पर बहस का मुद्दा है।

Ans- 2 

Q. निम्नलिखित में से कौन सा युग्म एसिड-बेस इंडिकेटर (अम्ल-क्षार संकेतक) के रूप में उपयोग में लाया जा सकता है?/Which of the following pairs can be used as an acid-base indicator?

Options:

1. लाल बंदगोभी का पत्ता और हल्दी/ Red cabbage leaf and turmeric 

2. नमक और हल्दी /Salt and Turmeric

3. केले की पत्नियाँ और बंदगोभी की पत्तियाँ/Banana leaves and cabbage leaves 

4. नींबू का रस और हल्दी/Lemon Juice and Turmeric.

Ans- 1 

Q. निम्नलिखित में से कौन सा सिंथेटिक सूचक है? /Which of the following is a synthetic indicator?

1. हल्दी का घोल/Turmeric solution

2. लिटमस विलयन/Litmus solution

3. मिथाइल ऑरेंज विलयन /Methyl orange solution

4. चीन गुलाब समाधान/China rose solution

Ans- 3 

Read More:-

CTET 2022-23: सीटेट एग्जाम में बेहतर परिणाम के लिए ‘संस्कृत पेडागोजी’ के इन सवालों को एक बार अवश्य पढ़ें!

CTET EVS Pedagogy: सीटेट परीक्षा में आपका score बढ़ाएंगे ‘पर्यावरण पेडागॉजी’ से जुड़े यह सवाल अभी पढ़ें!

Advertisement

यहाँ हमने आगामी सीटीईटी परीक्षा की तैयारी कर रहे अभ्यर्थीयो के लिए ”विज्ञान” से जुड़े महत्वपूर्ण सवाल (CTET Exam Science Practice Set) विषय के महत्वपूर्ण सवालों का अध्ययन किया है CTET सहित सभी शिक्षक पात्रता परीक्षा की बेहतर तैयारी के लिए आप हारे TELEGRAM CHANNEL के सदस्य जरूर बने Join Link नीचे दी गई है?

Advertisement

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

CTET

UP Teacher Vacancy 2023: योगी सरकार का तोहफा, 51 हजार शिक्षक भर्ती जल्द, CTET-UPTET क्वालीफाई को मिलेगी एंट्री

Published

on

By

Advertisement

UP Shikshak Bharti 2023 (UPDATED): उत्तर प्रदेश में लंबे समय से शिक्षक भर्ती परीक्षा का इंतजार कर रहे अभ्यर्थियों के लिए अच्छी खबर है. उत्तर प्रदेश बेसिक शिक्षा परिषद (UPBEB) जल्द ही शिक्षक के 51 हजार से अधिक रिक्त पदों पर बंपर भर्ती निकालने वाला है. नवभारत टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक लोकसभा चुनाव से पहले योगी सरकार प्रदेश में  माध्यमिक व राजकीय विद्यालयों में रिक्त शिक्षकों के पदों पर भर्ती करने जा रही है.

इतने पदों पर होगी भर्ती

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक बेसिक शिक्षा विभाग में टीजीटी/ पीजीटी शिक्षकों के लगभग 51 हजार से अधिक पद रिक्त हैं, इसके अलावा राजकीय विद्यालयों में शिक्षकों के 7 हजार 471 पद रिक्त हैं. तो वही बात करें प्रवक्ता तथा सहायक अध्यापकों के पदों कि तो बताया जा रहा है प्रवक्ता के 2115 जबकि सहायक अध्यापक के 5256 पद खाली हैं जिनपर भर्ती की जानी है.

CTET-UPTET पास कर सकेंगें आवेदन

Advertisement

उत्तर प्रदेश के प्राइमरी तथा अपर प्राइमरी सरकारी स्कूलों में शिक्षकों की भर्ती सुपर टेट परीक्षा (SUPER TET) के माध्यम से की जाती है, जिसका आयोजन उत्तर प्रदेश बेसिक एजुकेशन बोर्ड द्वारा किया जाता है. सुपर टेट परीक्षा में केवल वे अभ्यर्थी ही शामिल हो सकते हैं जिन्होंने यूपी टेट परीक्षा (Uttar Pradesh Teacher Eligibility TestUPTET) पास की हो.  बहुत से अभ्यर्थियों के मन में यह सवाल भी रहता है कि क्या सीटेट परीक्षा क्वालीफाई अभ्यर्थी यूपी शिक्षक भर्ती परीक्षा में शामिल हो सकते हैं? 

आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश शिक्षक भर्ती परीक्षा यानी सुपर टेट में शामिल होने के लिए उम्मीदवार को किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से स्नातक डिग्री तथा टीचिंग ट्रेनिंग कोर्स (D.El.Ed, BTC, B.Ed. आदि) पास किया होना चाहिए साथ ही UPBEB द्वारा आयोजित यूपी टेट परीक्षा पास होना जरूरी है. इसके अलावा पेपर -1 के लिए सीटेट पास अभ्यर्थी भी सुपर टेट परीक्षा देने के पात्र होते हैं. 

यदि बात करें आयु सीमा की तो न्यूनतम 21 वर्ष से लेकर अधिकतम 40 वर्ष की आयु वाले अभ्यर्थी सुपर टेट परीक्षा के लिए आवेदन कर सकते हैं हालांकि उत्तर प्रदेश के मूल निवासी अभ्यर्थियों को कैटेगरी वाइज अधिकतम आयु में छूट का प्रावधान है अधिक जानकारी के लिए आधिकारिक नोटिफिकेशन पढ़ें.

इच्छुक उम्मीदवार आधिकारिक वेबसाइट ctet.nic.in पर जाकर अपना आवेदन सबमिट कर सकते हैं. सीटेट परीक्षा पास करने पर उम्मीदवार सुपर टेट के साथ ही केंद्र सरकार द्वारा संचालित केंद्रीय विद्यालय, नवोदय विद्यालय तथा आर्मी पब्लिक स्कूल आदि में निकलने वाली शिक्षकों की भर्ती में भी शामिल हो सकते हैं.

कब आएगा यूपीटीईटी नोटिफ़िकेशन? (UPTET 2023 Notification Update)

उत्तर प्रदेश में शिक्षक बनने की चाह रखने वाले लाखों अभ्यर्थी उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा यानी यूपीटीईटी के नोटिफिकेशन का इंतजार कर रहे हैं नवीनतम मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक यूपीटीईटी परीक्षा का नोटिफिकेशन फ़रवरी 2023 के अंतिम सप्ताह या मार्च के पहले सप्ताह तक जारी किया जा सकता है। नोटिफिकेशन जारी होने के बाद अभ्यर्थी आधिकारिक वेबसाइट updeled.gov.in पर जाकर आवेदन कर पाएंगे. जिसके बाद अप्रैल महीने में ऑनलाइन मोड में UPTET परीक्षा आयोजित की जाएगी.

अधिक जानकारी के लिए अभ्यर्थी लगातार शिक्षा विभाग की वेबसाइट पर विजिट करते रहें बता दें कि यूपीटीईटी परीक्षा में शामिल होने के लिए अभ्यर्थी की उम्र 18 साल या उससे अधिक होनी चाहिए इसके साथ ही बैचलर डिग्री या समकक्ष डिप्लोमा होना जरूरी है।

Read More:

CTET Exam 2023: ‘अल्बर्ट बंडूरा के सिद्धांत’ से जुड़े कुछ ऐसे सवाल ही पूछे जा रहे हैं सीटेट परीक्षा की सभी शिफ्टों में

Advertisement

Continue Reading

CTET

CTET Answer Key 2023: शिक्षक पात्रता परीक्षा की आंसर की करें डाउनलोड, जानें कब तक आयेगा परीक्षा परिणाम 

Published

on

By

Advertisement

CTET Answer Key 2023: केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड याने CBSE द्वारा आयोजित की जाने वाली CTET परीक्षा आज 7 फ़रवरी को पूरी हो चुकी है, यह परीक्षा 28 दिसंबर अग़ल-अलग दिन दो शिफ्ट में आयोजित की जा रही है जिसमें शिक्षक बनने की चाह रखने वाले लाखों अभ्यर्थी शामिल हुए है। अब परीक्षा की समाप्ति के बाद अभ्यर्थी अपनी आंसर की जारी होने का इंतज़ार कर रहे है, बता दें कि परीक्षा समाप्ति के कुछ दिन के भीतर ही CBSE द्वारा आंसर की जारी कर दी जाती है।

इस दिन जारी होगी आंसर की 

CTET परीक्षा में शामिल हुए अभ्यर्थियों का इंतज़ार जल्द ही ख़त्म होने वाला है मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक़ CBSE द्वारा 11 फ़रवरी 2023 को आधिकारिक वेबसाइट ctet.nic.in पर CTET पेपर 1 तथा पेपर 2 की आंसर की जारी कर दी जाएगी। इसके बाद मार्च माह में फाइनल आंसर-की तथा परीक्षा परिणाम जारी किया जा सकता है।

बता दें आंसर की लिंक ऐक्टिव होने के बाद उम्मीदवार अपने रजिस्ट्रेशन नंबर तथा जन्म तारीख़ की सहायता से आधिकारिक वेबसाइट पर लॉगिन कर अपनी उत्तर कुंजी डाउनलोड कर पाएँगें।

Advertisement

परीक्षा में लागू होगा नॉर्मलिज़ेशन

सीबीएसई द्वारा दिसंबर 2021 में पहली बार CTET परीक्षा ऑनलाइन आयोजित की गई थी, तथा इस बार भी यह परीक्षा ऑनलाइन ही आयोजित हुई है। चुकी परीक्षा का आयोजन अलग- अगल दिन कई शिफ़्टों में किया गया है लिहाज़ा परीक्षार्थियों के मध्य समान प्रतिस्पर्द्धा क़ायम रखने के लिए नॉर्मलिज़ेशन व्यवस्था को लागू किया गया है। बता दें कि परीक्षा में नॉर्मलिज़ेशन होने की जानकारी CBSE द्वारा नोटिफिकेशन जारी कर पहले ही दे दी गई थी। 

CTET Exam Cut Off 2023

सीटीएटी परीक्षा में कैटेगरी वाइज कटऑफ़ निर्धारित किया गया है। पेपर 1 तथा पेपर 2 के लिए कट ऑफ अंक समान है। सामान्य वर्ग के अभ्यर्थी को इस परीक्षा में पास होने के लिए 60 प्रतिशत अंक याने 150 नंबर के पेपर में 90 अंक लाना होगा, जबकि आरक्षित वर्ग के अभ्यर्थियों को 55 प्रतिशत अंक यानें 150 अंक के पेपर में 82 अंक लाना होगा।

CategoryMinimum qualifying percentageMinimum qualifying Marks
Schedule Caste (SC)55%82 out of 150
Schedule Tribe (ST)55%82 out of 150

CTET Exam 2023 Important FAQs

क्या सीटीईटी परीक्षा में नेगेटिव मार्किंग होती है?

नहीं, CBSE द्वारा आयोजित सीटीईटी परीक्षा में किसी भी प्रकार की नकारात्मक मार्किंग नहीं की जाती है।

सीटीईटी सर्टिफिकेट की वैद्यता कितने वर्ष होती है?

आजीवन, CTET परीक्षा पास करने वालों अभ्यर्थियों को मिलने वाले सर्टिफिकेट की वैद्यता लाइफ टाइम कर दी गई है जो पहले 7 वर्ष थी।

सीटीईटी परीक्षा में शामिल होने के लिए आयु सीमा क्या है?

इस परीक्षा में शामिल होने के लिए अधिकतम उम्र सीमा निर्धारत नहीं है, हालाकि न्यूनतम आयु 18 वर्ष होना चाहिए।

सीटीईटी परीक्षा कितने बार दे सकते है?

उम्मीदवार जीतने बार चाहे उतने बार सीटीईटी परीक्षा में शामिल हो सकते है, जो अभ्यर्थी इस परीक्षा में पास हो चुके है वे अपने स्कोर को सुधार के लिए दुबारा परीक्षा दे सकते है।

Advertisement

Continue Reading

CTET

CTET 2022-23: लेव वाइगोत्सकी के सिद्धांत से परीक्षा में पूछे जा रहे है ये सवाल, अभी पढ़ें

Published

on

Lev Vygotsky's Theories Based MCQ For CTET
Advertisement

Lev Vygotsky’s Theories Based MCQ For CTET: शिक्षक बनने के लिए जरूरी सीटेट यानी केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा का आयोजन 7 फरवरी 2023 तक ऑनलाइन सीबीटी मोड में किया  जा रहा है.  यह परीक्षा 29 दिसंबर 2023 से शुरू हुई थी तथा अब 3, 4, 6  तथा 7 फरवरी को परीक्षा का आयोजन होना बाकी है.  यदि आप भी आगामी सीटेट परीक्षा में शामिल होने जा रहे हैं तो इस आर्टिकल में दी गई जानकारी आपके लिए बेहद महत्वपूर्ण हैं.

यहां पर हम नियमित रूप से सीटेट परीक्षा के लिए प्रैक्टिस सेट शेयर करते रहे हैं। इसी श्रृंखला में आज हम लेव वाइगोत्सकी के सिद्धांत पर आधारित कुछ ऐसे सवाल लेकर आए हैं, जो की परीक्षा में पूछे जा सकते हैं। तो लिए जाने इन महत्वपूर्ण सवालों को जो की इस प्रकार हैं।

Read More: CTET 2023: हर शिफ्ट में पूछे जा रहे है ‘जीन पियाजे’ के सिध्दांत से ये सवाल, इन्हें पढ़ कर पक्के करे नंबर

Advertisement

 लेव वाइगोत्सकी के सिद्धांत से जुड़े संभावित प्रश्न—CTET Exam Lev Vygotsky’s Theories Related Questions

1. लेव वाइगोत्स्की के अनुसार, निम्न में से किसके लिए “समीपस्थ विकास क्षेत्र” का इस्तेमाल करना चाहिए?

1. अध्यापन और मूल्याँकन

2. केवल अध्यापन

3. केवल मूल्यांकन

4. प्रवाही बौद्धिकता की पहचान

Ans- 1 

2. एक विशिष्ट संप्रत्यय को पढ़ाने हेतु एक अध्यापिका बच्चे को आधा हल किया हुआ उदाहरण देती है। लेव वायगोत्सकी के अनुसार अध्यापिका किस रणनीति का इस्तेमाल कर रही है?

1. अवलोकन अधिगम

2. पाड़

3. द्वंद्वात्मक अधिगम

4. अनुकूलन

Ans- 2 

3. ‘समीपस्थ विकास के क्षेत्र का संप्रत्यय किसने प्रतिपादित किया है?

1. जेरोम ब्रूनर

2. डेविड ऑसबेल

Advertisement

3. रोबर्ट एम. गायने

4 लेव व्यागोत्सकी

Ans- 4

4. रश्मि अपनी कक्षा में विद्यार्थियों के सीखने की क्षमता को ध्यान में रखकर विभिन्न प्रकार के कार्यकलापों का उपयोग करती है और सहपाठियों द्वारा अधिगम को बढ़ावा देने के लिए समूह भी बनाती है। निम्नलिखित में से कौन-सा इसका समर्थन करता है?

1. सिग्मंड फ्रॉयड का मनो यौनिक सिद्धांत

2. लेव वायगोत्सकी का सामाजिक सांस्कृतिक सिद्धांत

3. लॉरेंस कोहलबर्ग का नैतिक विकास का सिद्धांत

4. बी. एफ. स्किनर का व्यवहारवादी सिद्धांत

Ans- 2 

5. वायोगात्सकी के सिद्धांत के अनुसार ‘निजी संवाद’ 

1. बच्चों के आत्मकेंद्रीयता का घोतक है।

2. बच्चों के क्रियाकलापों और व्यवहार का अवरोधक है।

3. जटिल कार्य करते समय बच्चे को उसके व्यवहार संचालन में सहायता देता है।

4. यह संकेत देता है कि संज्ञान कभी भी आंतरिक नहीं होता।

Ans- 3 

6. कौन सा कथन लेव व्यागोत्सकी के मूल सिद्धांत को सही मायने में दर्शाता है?

1. अधिगम एक अन्तमन प्रक्रिया है।

2. अधिगम एक सामाजिक क्रिया है।

Advertisement

3. अधिगम उत्पतिमूलक क्रमादेश है। 

4. अधिगम एक अक्रमबद्ध प्रक्रिया है जिसके चार चरण है।

Ans- 2 

7. इनमें से कौन-सा अध्यापक द्वारा पाड़ का उदाहरण नहीं है?

1. अनुकरण के लिए कौशलों का प्रदर्शन करना

2. रटना

3. इशारे एवं संकेत

4. सहपाठियों संग साझा शिक्षण

Ans- 2 

8. लेव वायगोत्सकी के संज्ञानात्मक विकास के सिद्धांत को ……….. कहा जाता है क्योंकि वे तर्क देते हैं कि बच्चों का सीखना संदर्भ में होता है।

1. मनोगतिशील

2. मनोलैंगिक

3. सामाजिक सांस्कृतिक

4. व्यवहारात्मक

Ans- 3 

9. जब कोई अध्यापिका किसी विद्यार्थी को उसके विकास के निकटस्थ क्षेत्र पर पहुंचाने के लिए सहायता को उसके निष्पादन के वर्तमान स्तर के अनुरूप है, तो अध्यापिका किस नीति का प्रयोग कर रही है। कर रही है।

1. सहयोगात्मक अधिगम का प्रयोग

2. अंतर पक्षता का प्रदर्शन

Advertisement

3. पाड़

4. विद्यार्थी में संज्ञानात्मक द्वंद पैदा करना

Ans- 3

10. लेव वायगोत्सकी द्वारा दिए बच्चों के विकास का सिद्धांत किस पर आधारित है ?

1. भाषा और संस्कृति

2. भाषा और परिपक्वता

3. भाषा और भौतिक जगत

4. परिपक्वता और संस्कृति

Ans- 1

11.समीपस्थ विकास के क्षेत्र’ की संरचना किसने प्रतिपादित की थी?

1. लॉरेंस कोहल

2. लेव वायगोत्स्की

3. ज़ोरोंन ब्रूनर

4. जीन पियाजे

Ans- 2 

12. निम्न में से कौन-सा कथन बच्चों के संज्ञानात्मक विकास के विषय में जीन पियाजे और लेव वायगोत्सकी के विचारों के बीच मुख्य अंतर दर्शाता है?

1. पियाजे बच्चों के स्वतंत्र प्रयासों द्वारा जगत को अनुभव करने पर जोर देते हैं, जबकि वायगोत्स्की संज्ञानात्मक विकास को सामाजिक मध्यस्थ प्रक्रिया के रूप में देखते हैं। 

2. पियाजे बच्चों को सक्रिय स्वतंत्र जीव के रूप में देखते हैं, जबकि वायगोत्स्की उन्हें मुख्यतः वातावरण द्वारा नियंत्रित जीव के रूप में देखते हैं।

Advertisement

3. पियाजे भाषा को बच्चों के संज्ञानात्मक विकास के लिए महत्वपूर्ण मानते हैं, जबकि विकास पर बल देते हैं।

4. पियाजे के अनुसार बच्चे अपने मार्गदर्शन के लिए स्वयं से बात कर सकते हैं, जबकि वायगोत्सकी के लिए बच्चों की बात आत्मकेन्द्रीयता का द्योतक है।

Ans- 1 

13. एक अध्यापिका शिक्षण-अधिगम प्रक्रिया में विद्यार्थियों को सहपाठियों से अंतः क्रिया कराकर एवं सहारा देकर अध्यापन करती है। यह शिक्षण अधिगम की प्रक्रिया किस पर आधारित है ?

1. लॉरेंस कोहलबर्ग के नैतिक विकास सिद्धांत पर 

2. जीन पियाजे के संज्ञानात्मक विकास सिद्धांत पर

3. लेव वायगोत्स्की के सामाजिक-सांस्कृतिक सिद्धांत पर

4. हावर्ड गार्डनर के बहुआयामी बुद्धि सिद्धांत पर

Ans- 3 

14. वायगोत्स्की के सिद्धान्त के अनुसार ‘सहायक खोज’ किस में सहायक है।

1. संज्ञानात्मक द्वंद्व

2. उत्प्रेरक-प्रतिक्रिया सहचर्य

3. पुनर्बलन

4. सहपाठी- सहयोग

Ans- 4 

15. कक्षा में विद्यार्थियों को त्यौहारों को मनाने के अपने अनुभवों को साझा करने के देना और उसके आधार पर सूचना निर्मित करने को बढ़ावा देना किसका उदाहरण है। ?

1. व्यवहारवाद

2. पाठ्यपुस्तक आधारित अध्यापन

Advertisement

3. सामाजिक संरचनावाद

4. प्रत्यक्ष निर्देशन

Ans- 3

ये भी पढे:-

CTET 2022: सीटेट परीक्षा के लिए बुद्धि परीक्षण पर आधारित इन सवालों से करे अपनी अंतिम तैयारी!

CTET 2022: हिन्दी भाषा शिक्षण के इन सवालों से करे अपनी बेहतर तैयारी

Advertisement

Continue Reading

Trending