Connect with us

CTET

CTET EVS Pedagogy: सीटेट परीक्षा में आपका Score बढ़ाएंगे ‘पर्यावरण पेडागॉजी’ से जुड़े यह सवाल अभी पढ़ें!

Published

on

CTET Exam EVS Pedagogy Questions
Advertisement

EVS Pedagogy For CTET Exam: सीटेट परीक्षा की दूसरे चरण की परीक्षा 9 जनवरी 2023 से शुरू हो चुकी है। इस परीक्षा में लाखों की संख्या में अभ्यर्थी शामिल होने वाले हैं। प्रथम चरण में शामिल अभ्यर्थियों के द्वारा दिए गए फीडबैक के आधार पर इस आर्टिकल में हम पर्यावरण पेडागॉजी (EVS Pedagogy) से जुड़े महत्वपूर्ण प्रश्न लेकर आए हैं, जो कि आगामी शिफ्ट में पूछे जा सकते हैं। अगर आप भी सीटेट परीक्षा में सम्मिलित होने जा रहे हैं, तो इन प्रश्नों का अध्ययन एक बार अवश्य करें।   

केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा में पूछे जाने वाले पर्यावरण शिक्षण शास्त्र के प्रश्न—CTET Exam EVS Pedagogy Multiple Choice Question

1. Which of the following objective of teaching EVS shows the concern of education for sustainable development ? /ई.वी.एस पढ़ाने का निम्न में से कौन सा उद्देश्य शिक्षा के सतत विकास में महत्व को दर्शाता है?

1) To critically address the concern of equality, justice, peace and respect for human dignity and rights./समानता, न्याय, शान्ति तथा मानव के अधिकारों एवं मर्यादा के सम्मान के विषयों पर समालोचना करना।

Advertisement

2) To develop the technological and quantitative skills./तकनीक एवं गुणात्मक कौशलों का विकास करना।

3) To engage the child in exploratory activities./बच्चे को अन्वेषण के क्रिया कलापों में लगाना।

4) To emphasise design and fabrication skills./डिज़ाइन तथा संरचना के कौशलों पर बल देना।

Ans- 1 

2. The themes of EVS at primary level are connected and inter-related because of-/प्राइमरी स्तर पर ई.वी.एस की थीम आपस में सम्बद्ध एवं अंतः संबंधित है क्योंकि.

1) Integrated nature of EVS./ई.वी.एस का एकीकृत स्वरूप

2) Disciplinary nature of EVS./ई.वी.एस का अनुशासनीय स्वरूप 

3) Single subject nature of EVS./ई.वी.एस का एकल विषय स्वरूप

4) Topic based nature of EVS./ई.वी.एस का विषय पर आधारित स्वरूप

Ans- 1 

3. Child centred nature of EVS is because of-/ई.वी.एस का स्वरूप बाल-केन्द्रित है क्योंकि

1) its focus on learning through experience./अनुभव द्वारा सीखने पर केन्द्रित होना

2) the teaching of concepts and issues related to the EVS./ई.वी.एस के प्रत्ययों एवं विषयों का शिक्षण

3) transformation of behaviour of the student in a desired way./विद्यार्थी के व्यवहार में इच्छित बदलाव

4) the development of socio-emotional skills of the students./विद्यार्थियों का सामाजिक भावनात्मक कौशलों का विकास।

Advertisement

Ans- 1

4. Which of the following is a subtheme of the syllabus of EVS?/निम्न में से कौन सा ई.वी.एस, के पाठ्य चर्चा का उप-थीम है?

1) Food/खाद्य पदार्थ

2) Water/जल

3) Shelter/आश्रय

4) Relationships/संबंध

Ans- 4 

5. Pochampalli” chapter 23 of NCERT EVS is based on-/एन.सी.ई.आर.टी की ई.वी.एस का अध्याय 23 ‘पोचमपल्ली’ ……………..  पर आधारित है-

1) real places/वास्तविक स्थान 

2) real incidents/वास्तविक घटनाएँ

3) real people and their experiences/वास्तविक लोग व उनके अनुभव

4) real picture/वास्तविक चित्र

Ans- 1 

6. Which of the following suggested activity/activities will be suitable for addressing the question from the theme ‘Food’ “Who produces the food we eat?/निम्न में से कौन से क्रिया कलापों का सुझाव “हमारे भोजन का उत्पादन कौन करता है” थीम – खाद्य के प्रश्न को संबोधित करने के लिए उपयुक्त है?

A) Sharing of farmers narratives./किसानों के वृत्तांतों को साझा करना।

B) Visit and observation on a farm. /किसी खेत में जाना एवं अवलोकन करना । 

C) Experiment to know the condition suitable for germination./अंकुरण के लिए अनुकूल परिस्थितियों के लिए प्रयोग करना।

D) Keeping some bread or other food for few days./कुछ डबलरोटी एवं अन्य खाद्य पदार्थ को कुछ दिनों के लिए रख देना।

Advertisement

1) A, B, C

2) A, B, C and D

3) B, C and D

4) A, C and D

Ans- 1 

7. For authentic and meaningful learning of EVS through field trip a teacher can use:-/ई.वी.एस को प्रामाणिक एवं अर्थपूर्ण सीखने के लिए क्षेत्र भ्रमण के माध्यम से शिक्षक निम्न का उपयोग कर सकता है?

A) Structured worksheet/संरचनात्मक कार्य पत्रक

B) Unstructured worksheet /असंरचनात्मक कार्य पत्रक

C) Formal instructions for the visit/भ्रमण के लिए औपचारिक निर्देश 

D) Creating group of the students and their leader./छात्रों के समूह एवं उनके नेता का गठन करना

1). A, C, D

2) B, C, D

3) A and D only

4) B and D only

Ans- 1 

8. The purpose of giving Mendel’s story through the chapter 21 of class 5, “like father, like daughter” in the EVS textbook of NCERT is to-/ एन.सी.ई.आर.टी. की कक्षा 5 की ई.वी.एस पाठ्य- पुस्तक के अध्ययन में मेण्डल की कहानी देने का उद्देश्य है?

A) give the principles of genetics. /आनुवांशिकता के सिद्धांतों को प्रस्तुत करना।

B) focus on how our identity is shaped by traits we inherit from our family./हमारी व्यक्तिगत पहचान किस प्रकार परिवार से प्राप्त वंशानुगत गुणों से बनती है, इसको केन्द्रित करना।

Advertisement

C) inspiring students by the process of scientific experimentation./वैज्ञानिक प्रयोगों की प्रक्रिया द्वारा विद्यार्थियों को प्रेरित करना ।

D) focus on the perseverance character of the scientists/वैज्ञानिकों के सतत् परिश्रम की विशेषता को केन्द्रित करना।.

1) A, B, C

2) B, C and D

3) A, C and D

4) A and D only

Ans- 2 

9. Select the technique of formative assessment-/रचनात्मक आकलन की तकनीक का चुनाव कीजिए-

1) Peer assessment/ सहपाठी आकलन

2) Rating scale/क्रम निर्धारण मापनी (रेटिंग स्केल)

3) Portfolio/पोर्टफोलियो (फ़ाइल) 

4) Assignments/प्रदत्त कार्य

Ans- 1 

10. Which of the following tool is based on the technique of observation?/निम्न में से कौन सा उपकरण अवलोकन की तकनीक पर आधारित है?

1) Paper pencil test/कागज पेंसिल टेस्ट

2) Assignment/प्रदत्त कार्य

3) Worksheet/कार्यपत्रक

4) Portfolio/ पोर्टफोलियो (फाइल)

Advertisement

Ans- 4

11. Which of the following process indicators can be used for assessment in EVS to record how students are learning?/ विद्यार्थी किस प्रकार ई.वी.एस में सीख रहे हैं इसका आकलन करने के लिए निम्न में से कौन सा सूचक उपयोग किया जा सकता है?

1) Discussion/विचार-विमर्श

2) Remember/ याद

3) Recall/प्रत्याह्वान

4) State/ बता देना/स्पष्ट कर देना

Ans- 1 

12. Which is easy for a teacher in EVS classroom?/ निम्नलिखित में क्या पर्यावरण अध्ययन की कक्षा में शिक्षक के लिए आसान है ?

1) Give information to students /विद्यार्थियों को सूचना देना

2) Addressing students’ ideas/ विद्यार्थियों के विचारों को महत्व देना 

3) Providing opportunities to students for learning/विद्यार्थियों को सीखने के अवसर प्रदान करना

4) Engaging students/ विद्यार्थियों को व्यस्त रखना

Ans- 1 

13.  Which is the effective resource for the learning of EVS?/निम्नलिखित में से क्या पर्यावरण अध्ययन के सीखने का प्रभावशाली संसाधन है?

1) Narratives/ किस्से

2) Worksheets/ कार्यपत्रक

3) Models/ मॉडल

4) Charts/चार्ट

Advertisement

Ans- 1 

14. Which one of the following will be liked by the students in EVS class?/निम्नलिखित में से क्या पर्यावरण अध्ययन की कक्षा में विद्यार्थियों द्वारा पसंद किया जाएगा?

1) Arts and crafts/चित्रकला और शिल्पकला

2) Individual work/एकल कार्य

3) Assessment of home work/गृहकार्य का आकलन

4) Black board summary of the lesson/पाठ का स्पष्ट सारांश

Ans- 1 

15. In an EVS class, students get opportunities to-/पर्यावरण अध्ययन की कक्षा में विद्यार्थियों को अवसर मिलता है?

1) ask questions /प्रश्न पूछने का

2) learn definitions/परिभाषा सीखने का

3) state concepts/अवधारणाओं का कथन देने का

4) give descriptions/वर्णन करने का

Ans- 1  

Read More:-

CTET 2022-23: ‘पर्यावरण NCERT’ पर आधारित इन रोचक सवालों से करें सीटेट परीक्षा की फाइनल तैयारी!

CTET Exam 2022-23: ‘गणित शिक्षण से संबंधित इस प्रैक्टिस सेट के माध्यम से, चेक! करें अपनी तैयारी

यहाँ हमने आगामी सीटीईटी परीक्षा की तैयारी कर रहे अभ्यर्थीयो के लिए ”पर्यावरण पेडागॉजी” से जुड़े महत्वपूर्ण सवाल (EVS Pedagogy For CTET Exam) विषय के महत्वपूर्ण सवालों का अध्ययन किया है CTET सहित सभी शिक्षक पात्रता परीक्षा की बेहतर तैयारी के लिए आप हारे TELEGRAM CHANNEL के सदस्य जरूर बने Join Link नीचे दी गई है?

Advertisement

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

CTET

UP Teacher Vacancy 2023: योगी सरकार का तोहफा, 51 हजार शिक्षक भर्ती जल्द, CTET-UPTET क्वालीफाई को मिलेगी एंट्री

Published

on

By

Advertisement

UP Shikshak Bharti 2023 (UPDATED): उत्तर प्रदेश में लंबे समय से शिक्षक भर्ती परीक्षा का इंतजार कर रहे अभ्यर्थियों के लिए अच्छी खबर है. उत्तर प्रदेश बेसिक शिक्षा परिषद (UPBEB) जल्द ही शिक्षक के 51 हजार से अधिक रिक्त पदों पर बंपर भर्ती निकालने वाला है. नवभारत टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक लोकसभा चुनाव से पहले योगी सरकार प्रदेश में  माध्यमिक व राजकीय विद्यालयों में रिक्त शिक्षकों के पदों पर भर्ती करने जा रही है.

इतने पदों पर होगी भर्ती

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक बेसिक शिक्षा विभाग में टीजीटी/ पीजीटी शिक्षकों के लगभग 51 हजार से अधिक पद रिक्त हैं, इसके अलावा राजकीय विद्यालयों में शिक्षकों के 7 हजार 471 पद रिक्त हैं. तो वही बात करें प्रवक्ता तथा सहायक अध्यापकों के पदों कि तो बताया जा रहा है प्रवक्ता के 2115 जबकि सहायक अध्यापक के 5256 पद खाली हैं जिनपर भर्ती की जानी है.

इन उम्मीदवारों को मिलेगी एंट्री

Advertisement

उत्तर प्रदेश के प्राइमरी तथा अपर प्राइमरी सरकारी स्कूलों में शिक्षकों की भर्ती सुपर टेट परीक्षा (SUPER TET) के माध्यम से की जाती है, जिसका आयोजन उत्तर प्रदेश बेसिक एजुकेशन बोर्ड द्वारा किया जाता है. सुपर टेट परीक्षा में केवल वे अभ्यर्थी ही शामिल हो सकते हैं जिन्होंने यूपी टेट परीक्षा (Uttar Pradesh Teacher Eligibility TestUPTET) पास की हो.  बहुत से अभ्यर्थियों के मन में यह सवाल भी रहता है कि क्या सीटेट परीक्षा क्वालीफाई अभ्यर्थी यूपी शिक्षक भर्ती परीक्षा में शामिल हो सकते हैं? 

आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश शिक्षक भर्ती परीक्षा यानी सुपर टेट में शामिल होने के लिए उम्मीदवार को किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से स्नातक डिग्री तथा टीचिंग ट्रेनिंग कोर्स (D.El.Ed, BTC, B.Ed. आदि) पास किया होना चाहिए साथ ही UPBEB द्वारा आयोजित यूपी टेट परीक्षा पास होना जरूरी है. इसके अलावा पेपर -1 के लिए सीटेट पास अभ्यर्थी भी सुपर टेट परीक्षा देने के पात्र होते हैं. 

यदि बात करें आयु सीमा की तो न्यूनतम 21 वर्ष से लेकर अधिकतम 40 वर्ष की आयु वाले अभ्यर्थी सुपर टेट परीक्षा के लिए आवेदन कर सकते हैं हालांकि उत्तर प्रदेश के मूल निवासी अभ्यर्थियों को कैटेगरी वाइज अधिकतम आयु में छूट का प्रावधान है अधिक जानकारी के लिए आधिकारिक नोटिफिकेशन पढ़ें.

इच्छुक उम्मीदवार आधिकारिक वेबसाइट ctet.nic.in पर जाकर अपना आवेदन सबमिट कर सकते हैं. सीटेट परीक्षा पास करने पर उम्मीदवार सुपर टेट के साथ ही केंद्र सरकार द्वारा संचालित केंद्रीय विद्यालय, नवोदय विद्यालय तथा आर्मी पब्लिक स्कूल आदि में निकलने वाली शिक्षकों की भर्ती में भी शामिल हो सकते हैं.

कब आएगा यूपीटीईटी नोटिफ़िकेशन? (UPTET 2023 Notification Update)

उत्तर प्रदेश में शिक्षक बनने की चाह रखने वाले लाखों अभ्यर्थी उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा यानी यूपीटीईटी के नोटिफिकेशन का इंतजार कर रहे हैं नवीनतम मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक यूपीटीईटी परीक्षा का नोटिफिकेशन फ़रवरी 2023 के अंतिम सप्ताह या मार्च के पहले सप्ताह तक जारी किया जा सकता है। नोटिफिकेशन जारी होने के बाद अभ्यर्थी आधिकारिक वेबसाइट updeled.gov.in पर जाकर आवेदन कर पाएंगे.

अधिक जानकारी के लिए अभ्यर्थी लगातार शिक्षा विभाग की वेबसाइट पर विजिट करते रहें बता दें कि यूपीटीईटी परीक्षा में शामिल होने के लिए अभ्यर्थी की उम्र 18 साल या उससे अधिक होनी चाहिए इसके साथ ही बैचलर डिग्री या समकक्ष डिप्लोमा होना जरूरी है।

Read More:

CTET Exam 2023: ‘अल्बर्ट बंडूरा के सिद्धांत’ से जुड़े कुछ ऐसे सवाल ही पूछे जा रहे हैं सीटेट परीक्षा की सभी शिफ्टों में

Advertisement

Continue Reading

CTET

CTET 2023: ‘पक्षियों’ से जुड़े बेहद रोचक सवाल, जो सीटेट की सभी शिफ्ट में पूछे जा रहे हैं!

Published

on

By

EVS MCQ on Birds For CTET
Advertisement

EVS MCQ on Birds For CTET: शिक्षक के रूप में कैरियर बनाने की चाहत लिए लाखों अभ्यर्थी प्रतिवर्ष सीबीएसई के द्वारा संचालित सिटी परीक्षा में शामिल होते हैं। इस वर्ष किस परीक्षा का आयोजन 28 दिसंबर से किया जा रहा है। अगर आप भी इस परीक्षा में शामिल होने जा रहे हैं, तो यहां पर हम आपके लिए पर्यावरण अध्ययन के अंतर्गत पक्षियों पर आधारित परीक्षा में पूछे जाने वाले संभावित प्रश्न लेकर आए हैं। इस टॉपिक से पेपर में एक से दो प्रश्न पूछे जा रहे हैं अभ्यर्थियों को इन प्रश्नों का अध्ययन एक बार अवश्य कर लेना चाहिए।

Read More:- UP Teacher Vacancy 2023: योगी सरकार का तोहफा, 51 हजार शिक्षक भर्ती जल्द, CTET-UPTET क्वालीफाई को मिलेगी एंट्री

CTET Environment MCQ on Birds—पर्यावरण अध्ययन के अंतर्गत पक्षियों पर आधारित परीक्षा में पूछे जाने वाले संभावित प्रश्न

1) किस प्रकार के पक्षी की चोंच मीट को काटने और खाने के काम आती है?

Advertisement

1. तिकोने आकार की चोंच

2. सीधी और पतली चोंच

3. हुक जैसी चोंच

4. लम्बी पतली सुई जैसी चोंच

Ans- 3

2) पक्षियों की एक स्पीशीज (प्रजाति) ऐसी है, जिसका नर पक्षी सुन्दर सुन्दर घोंसले बुनता है। मादा पक्षी उन सभी पोसलों को देखती है। उनमें से वह उसे चुनती है जो उसे सबसे अच्छा लगता है और उसी में अंडे देती है। पक्षियों की इस स्पीशीज का नाम है.

1. कोयल

2. वीवर पक्षी

3. शक्कर खोरा

4. वसंत गौरी

Ans- 2

3) अपनी गर्दन को पीछे तक घुमा सकने वाला पक्षी है.

1. कबूतर 

2. तोता

3. उल्लू 

Advertisement

4. मैना

Ans- 3

4) अपनी गर्दन को झटके से आगे पीछे कर सकने वाला पक्षी है.

1. कबूतर (कपोत)

2. तोता

3. उल्लू

4. मैना

Ans- 4

5) तीन पक्षियों का वह समूह जिसका प्रत्येक सदस्य वस्तुओं को हमारी तुलना में, चार गुना अधिक दूरी स्पष्ट देख सकता है, जो वस्तु हमें दो मीटर की दूरी से दिखाई देती है उसे ही ये पक्षी आठ मीटर दूरी से देख लेते हैं) कौन सा है

1 बाज़, कौआ, कबूतर

2 बाज़, चील, गिद्ध

3 कबूतर, तोता, चील 

4 कोआ, चील, बुलबुल

Ans- 2

6) पक्षियों की उस प्रजाति का नाम क्या है जिसमें नर पक्षी अनेक सुन्दर घोंसले बनाते हैं और मादा पक्षी उनमें से केवल एक घोंसला चुनते हैं और उसमें अण्डे देते हैं? 

1. कलचिड़ी

2. शकरखोरा

3. दर्जिन चिड़िया 

Advertisement

4. बया (वीवर)

Ans- 4

7. उस पक्षी का नाम जिसकी आंखें मानवों की तरह सामने की तरफ होती हैं:

1. चील

2. बाज

3. गिद्ध

4. उल्लू

Ans- 4

8) तीन पक्षियों का वह समूह जिसका प्रत्येक सदस्य वस्तुओं को हमारी तुलना में, चार गुना अधिक दूरी स्पष्ट देख सकता है, जो वस्तु हमें दो मीटर की दूरी से दिखाई देती है उसे ही ये पक्षी आठ मीटर दूरी से देख लेते हैं) कौन सा है

1 बाज़, कौआ, कबूतर

2 बाज़, चील, गिद्ध 

3 कबूतर, तोता, चील 

4 कोआ, चील, बुलबुल

Ans- 2

9) निम्नलिखित में से कौन सा सबसे छोटा प्रवासी पक्षी है जो उत्तरध्रुवीय क्षेत्र से भारत आता है:

1. सीखपर बत्तख (पिनटेल डक)

2. छोटी मतस्यकुररी (ऑस्प्रे) 

3. हंसावर (फ्लेमिंगो) 

Advertisement

4. छोटी जलरंक (स्टिंट)

Ans- 4

10) एक छोटे से पेड़ या झाड़ी की शाखा से लटकने वाला घोंसला बनाने वाला पक्षी है। 

1. सूर्यपक्षी / शक्कर खोरा

2. कौवा 

3. बारबेट / बसंतगौरी

4. भारतीय रॉबिन / कलचिड

Ans- 1

Read More:-

CTET 2023: ‘बाल विकास एवं शिक्षाशास्त्र’ के इस लेवल के सवाल पूछे जा सकते हैं आने वाली शिफ्ट में अभी पढ़ें!

CTET Exam: परीक्षा हॉल में बहुत काम आने वाले हैं ‘हिंदी पेडागॉजी’ के यह प्रश्न!

यहाँ हमने आगामी सीटीईटी परीक्षा की तैयारी कर रहे अभ्यर्थीयो के लिए ”पक्षियों” से जुड़े महत्वपूर्ण सवाल (EVS MCQ on Birds For CTET) विषय के महत्वपूर्ण सवालों का अध्ययन किया है CTET सहित सभी शिक्षक पात्रता परीक्षा की बेहतर तैयारी के लिए आप हारे TELEGRAM CHANNEL के सदस्य जरूर बने Join Link नीचे दी गई है?

Advertisement

Continue Reading

CTET

CTET Exam 2023: ‘अल्बर्ट बंडूरा के सिद्धांत’ से जुड़े कुछ ऐसे सवाल ही पूछे जा रहे हैं सीटेट परीक्षा की सभी शिफ्टों में

Published

on

By

Albert Bandura's Social Learning Theory for CTET AND TET Exams
Advertisement

Albert Bandura Theory Based Questions CTET: केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा का आयोजन सीबीएसई बोर्ड के द्वारा 28 दिसंबर 2022 से किया जा रहा है। परीक्षा वर्तमान समय में जारी है, जो कि 7 फरवरी 2023 तक जारी रहेगी। अगर आप भी इस परीक्षा में शामिल होने वाले हैं, तो यहां पर हम आपके लिए अल्बर्ट बंडूरा के द्वारा दिए गए सिद्धांत पर आधारित परीक्षा में पूछे जाने वाले संभावित प्रश्न लेकर आए हैं। जो कि आपको परीक्षा में बेहद काम आने वाले हैं। विगत शिफ्ट में इस टॉपिक से प्रश्न पूछे जा रहे हैं। ऐसे में आगामी चरण में भी यहां से प्रश्न पूछे जाने की प्रबल संभावना है।

केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा के लिए अल्बर्ट बंडूरा के सिद्धांत से जुड़े महत्वपूर्ण प्रश्न—MCQ on Albert Bandura Social Learning Theory For CTET Exam

1. अल्बर्ट बंडूरा ने प्रयोग किया?

A- कुत्ते पर

Advertisement

B-गुड़िया पर

C-जोकर पर

D-B और C दोनों पर

Ans- D 

2. सामाजिक अधिगम का सिद्धांत किसने दिया?

A- वाइगोत्सकी

B-जीन पियाजे

C- अल्बर्ट बंडूरा

D-कोहलबर्ग

Ans- C 

3. बंडूरा के अनुसार अनुकरण की प्रक्रिया के कितने चरण हैं?

A- पांच

B- सात

C- चार

D-दस

Advertisement

Ans- C 

4. अल्बर्ट बंडूरा ने अपना सिद्धान्त कब दिया?

A-1994

B-1977

C-1897

D-1920

Ans- B 

5. जिस माध्यम से बच्चा अनुकरण के द्वारा सीखता है उसे अल्बर्ट बंडूरा ने क्या कहा?

A-उत्पाद

B-मॉडल

C-स्की मा

D- पुनर्बलन

Ans- B

6. Social Foundations of Thought and Action पुस्तक किसकी है

A- जीन पियाजे

B-अरस्तू

C- अल्बर्ट बंडूरा

D-कोहलबर्ग

Advertisement

Ans- C 

7. …………… के अनुसार, बच्चों के चिंतन के बारे में सामाजिक प्रक्रियाओं तथा सांस्कृतिक संदर्भ के प्रभाव को समझना आवश्यक है।

A-लॉरेंस कोलबर्ग

B-जीन पियाजे

C-लेब वायगोट्स्की

D-अलबर्ट बैन्डुरा

Ans- C 

8. – बच्चों को संकेत देना तथा आवश्यकता पड़ने पर सहयोग प्रदान करना निम्नलिखित में से किसका उदाहरण है?

A-प्रबलन

B-अनुबंधन

C-मॉडलिंग

D-पाड़ (ढाँचा)

Ans- D

9. अल्बर्ट बैन्ड्यूरा के सामाजिक अधिगम सिद्धांत के अनुसार निम्न में से कौन-सा सही है?

A-बच्चों के सीखने के लिए प्रतिरूपण (मॉडलिंग) एक मुख्य तरीका है

B-अनसुलझा संकट बच्चे को नुकसान पहुंचा सकता है

C-संज्ञानात्मक विकास सामाजिक विकास से स्वतंत्र है

D-खेल अनिवार्य है और उसे विद्यालय में प्राथमिकता दी जानी चाहिए

Advertisement

Ans- A 

10. कोहलबर्ग के अनुसार, शिक्षक बच्चों में नैतिक मूल्य का विकास कर सकता है-

A-” कैसे व्यवहार किया जाना चाहिए ” इस पर कठोर निर्देश देकर

B-धार्मिक शिक्षा को महत्त्व देकर

C- व्यवहार के स्पष्ट नियम बनाकर

D-नैतिक मुद्दों पर आधारित चर्चाओं में उन्हें शामिल करके

Ans- D

11. लारिंस कोहलबर्ग विकास के क्षेत्र में शोध के लिए जाने जाते हैं।

A-संज्ञानात्मक

B-शारीरिक

C-नैतिक

D- गामक

Ans- C 

12. कोहलबर्ग के अनुसार सही और गलत प्रश्नों के बारे में निर्णय लेने में शामिल चिंतन प्रक्रिया को कहा जाता है

A-सहयोग की नैतिकता

B-नैतिक तर्कणा

C-नैतिक यथार्थवाद

D-नैतिक दुविधा

Advertisement

Ans- B

13. लॉरेंस कोहलबर्ग के द्वारा प्रस्तावित निम्नलिखित चरणों में से प्राथमिक विद्यालयों के बच्चे किन चरणों का अनुसरण करते हैं?

(1) आज्ञापालन और दंड – – उन्मुखीकरण

(2) वैयक्तिकता और विनिमय

(3) अच्छे अंत : वैयक्तिक संबंध

(4) सामाजिक अनुबंध और व्यक्तिगत अधिकार

A-2 और 1

B-2 और 4

C-1 और 4

D-1 और 3

Ans- A 

14. करनैल सिंह कानूनी कार्यवाही तथा खर्चों के बावजूद आय कर नहीं देते। वे सोचते हैं कि वे एक भ्रष्ट सरकार को समर्थन नहीं दे सकते, जो अनावश्यक बाँधों के निर्माण पर लाखों रुपये खर्च करती हैं । वे संभवतः कोहलबर्ग के नैतिक विकास की किस अवस्था में हैं?

A-परंपरागत

B-पश्च परंपरागत

C-पूर्व परंपरातगत

D-परा-परंपरागत

Ans- B

15. एक शिक्षिका अपनी कक्षा से कहती है, ‘सभी प्रकार के प्रदत्त’ कार्यों का निर्माण इस प्रकार किया गया है कि प्रत्येक विद्यार्थी अधिक प्रभावशाली ढंग से सीख सके, अतः सभी विद्यार्थी बिना किसी अन्य की सहायता से अपना कार्य पूर्ण करें। वह कोहलबर्ग के किस नैतिक विकास के चरण की ओर संकेत दे रही है?

Advertisement

A-पूर्व औपचारिक चरण 2 वैयक्तिकता और विनिमय

B-औपचारिक चरण 4 कानून और व्यवस्था

C-पर – औपचारिक चरण 5 सामाजिक संविदा

D- पूर्व – औपचारिक चरण 1 दंड परिवर्जन

Ans- B

Read More:-

CTET 2023: ‘बाल विकास एवं शिक्षाशास्त्र’ के इस लेवल के सवाल पूछे जा सकते हैं आने वाली शिफ्ट में अभी पढ़ें!

CTET Exam 2023: ‘पर्यावरण’ के इन सवालों को परीक्षा हॉल में जाने से पहले एक बार जरूर पढ़ें!

Advertisement

Continue Reading

Trending