Connect with us

CTET

CTET Exam: परीक्षा हॉल में बहुत काम आने वाले हैं ‘हिंदी पेडागॉजी’ के यह प्रश्न!

Published

on

Advertisement

Hindi Pedagogy For CTET Exam: केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के द्वारा 28 दिसंबर 2022 से 7 फरवरी 2023 तक सीटेट परीक्षा का आयोजन किया जा रहा है। यदि आपने भी इस परीक्षा के लिए अपना आवेदन किया है, और आने वाले दिनों में आप की परीक्षा होने वाली है, तो यहां पर हम आपके लिए हिंदी पेडगॉजी से जुड़े कुछ ऐसे महत्वपूर्ण प्रश्न लेकर आए हैं, जो की परीक्षा की दृष्टि से बेहद ही महत्वपूर्ण है। अभ्यर्थियों को परीक्षा हॉल में जाने से पहले इन प्रश्नों का अध्ययन एक बार अवश्य कर लेना चाहिए। जिससे कि अच्छे अंकों के साथ परीक्षा में सफलता हासिल की जा सके।

सेंट्रल टीचर एलिजिबिलिटी टेस्ट में पूछे जाने वाले हिंदी पेडगॉजी के संभावित प्रश्न—CTET Hindi Pedagogy objective Questions

1 हिन्दी मातृभाषा विषय में उसकी वास्तविक विषय-वस्तु होती है ?

1) वैचारिक अनुशीलन

Advertisement

2) भाषा तात्विक अनुशीलन

3) पाठ का विशिष्ट स्थल

4) जीवन-मूल्य

Ans- 2 

2. विद्यालयी पाठ्यक्रम में मातृभाषा का स्वरूप है

1) प्रथम स्वरूप में यह स्वयं का विषय है।

2) द्वितीय स्वरूप में यह विषयों को पढ़ाने का माध्यम

3) ‘1’ और ‘2’ दोनों ही सही हैं।

4) ‘1’ तथा ‘2’ दोनों ही कथन त्रुटिपूर्ण हैं

Ans- 3 

3. भाषा के बारे में कौन-सा कथन उचित है?

1) भाषा व्याकरण का अनुसरण करती है.

2) भाषा और बोली में कभी भी कोई भी संबंध नहीं होता 

3) भाषा अनिवार्यतः लिखित होती है।

4) भाषा एक नियमबद्ध व्यवस्था है

Advertisement

Ans- 4 

4. प्राथमिक स्तर पर ‘भाषा सिखाने’ से तात्पर्य है ?

1) उच्चस्तरीय साहित्य पढ़ाना

2) भाषा का प्रयोग सिखाना

3) भाषावैज्ञानिक तथ्य स्पष्ट करना

4) भाषा का व्याकरण सिखाना

Ans- 2 

5. घर की भाषा और विद्यालय में पढ़ाई जाने वाली भाषा-

1) समान हो सकती हैं।

2) सदैव अलग होती है

3) सदैव टकराहट से गुज़रती हैं।

4) सदैव समान होती हैं।

Ans- 1 

6. प्राथमिक स्तर पर हिंदी भाषा शिक्षण’ के लिए सबसे अधिक महत्त्वपूर्ण है ?

1) उच्चस्तरीय तकनीकी यन्त्र 

2) व्याकरणिक नियमों का स्मरण

3) भाषा प्रयोग के अवसर

4) पाठ्य-पुस्तक

Advertisement

Ans- 3 

7. प्राथमिक स्तर पर भाषा-शिक्षण की प्राथमिकता होनी चाहिए ?

1) बच्चों की रचनात्मकता और मौलिकता को पोषित करना

2) बच्चों की चित्रांकन क्षमता का विकास करना

3) केवल बोलकर पढ़ने की क्षमता विकसित करना 

4) कविता और कहानी के द्वारा केवल श्रवण-कौशल का विकास करना

Ans- 1 

8. बच्चे विद्यालय आने से पहले

1) सभी भाषाएँ पढ़ सकते हैं।

2) सब कुछ लिख सकते हैं।

3) अपनी बोल-चाल की भाषा के अनुभवों से लैस होते हैं 

4) कोई भी भाषा बोल नहीं सकते।

Ans- 3 

9. किस तरह के परिवेश में बच्चों का भाषा विकास अपेक्षाकृत बेहतर होगा?

1) संयुक्त परिवार जहाँ परिवार के सभी सदस्य बच्चों के साथ निरंतर अंतः क्रिया करते हैं।

2) आधुनिक तकनीक से लैस कक्षा जहाँ भाषा प्रयोगशाला का निरंतर प्रयोग होता है।

3) शिक्षक द्वारा मानक भाषा का प्रयोग करना।

4) एकल परिवार जहाँ माता-पिता मानक भाषा का प्रयोग करते हैं।

Advertisement

Ans- 1

10. कक्षा ‘एक’ के बच्चे अपने  ………… की एवं ………… से प्राप्त बोलचाल भाषा के अनुभवों को लेकर ही विद्यालय आते हैं?

1) घर-परिवार, दोस्तों

2) घर-परिवार, टी० वी०

3) पड़ोसी

4) घर-परिवार, परिवेश

Ans- 4 

11. भाषा …………. और ……………… का एक उत्तम साधन है ?

1) सोचने, महसूस करने, चीज़ों से जुड़ने

2) पढ़ने, लिखने, समझने

3) सुनने, बोलने, सोचने

4) पढ़ने, लिखने, सम्प्रेषण

Ans- 1 

12. प्राथमिक स्तर की शिक्षा में सम्प्रेषण का माध्यम ………….. ही होनी चाहिए क्योंकि इसी भाषा में ही बच्चे का मस्तिष्क सबसे पहले क्रियाशील होता है ?

1) प्रदेश की भाषा

2) अंग्रेजी

3) हिन्दी

4) मातृभाषा

Advertisement

Ans- 4 

13. प्राथमिक स्तर पर बच्चों के शुरुआती भाषा विकास में सर्वाधिक योगदान दे सकते / सकती है/है?

1) एफ0 एम0 पर पन्द्रह मिनट सुने जाने वाले समाचार

2) परिवार में होने वाली परस्पर गुणवत्तापूर्ण बातचीत 

3) टी0 बी0 पर देखे जाने वाले पंद्रह मिनट के कार्टून कार्यक्रम

4) गृहकार्य पर व्यय किए जाने वाले तीस मिनट

Ans- 2 

14. विद्यालय आने से पूर्व बच्चों के पास-

1) अपनी भाषा का सम्पूर्ण बाल साहित्य होता है। 

2) पाँच हजार शब्द होते हैं।

3) पाँच हजार वाक्य होते हैं

4) अपनी भाषा की जटिल और समृद्ध संरचनाएँ होती हैं

Ans- 4 

15. हिन्दी भाषा शिक्षक करें यह स्वीकार करना चाहिए कि-

1) बच्चों को उनकी गलतियाँ समझाना उनके भाषा विकास में महान बाधा है

2) बच्चों को भाषा सिखाना जरूरी नहीं है

3) गलतियाँ सीखने-सिखाने की प्रक्रिया का अभिन्न हिस्सा है। 

4) गलतियों पर बिल्कुल ध्यान न देने से वे सुधर जाती हैं

Advertisement

Ans-  3

Read More:-

CTET Exam 2023: ‘पर्यावरण’ के इन सवालों को परीक्षा हॉल में जाने से पहले एक बार जरूर पढ़ें!

CTET 2023: ‘हिंदी पेडागॉजी’ के इन बहुविकल्पीय प्रश्नों से करें सीटेट परीक्षा की बेहतर तैयारी!

Advertisement

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *