Connect with us

CTET

CTET Exam: बाल विकास एवं शिक्षाशास्त्र से जुड़े परीक्षा में पूछे जाने वाले संभावित प्रश्न यहां पढ़े!

Published

on

CDP Score Booster MCQ For CTET
Advertisement

CTET CDP Top 15 Expected MCQ: सीटेट परीक्षा का आयोजन केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के द्वारा साल में दो बार किया जाता है। इस परीक्षा में क्वालिफाई अभ्यर्थी केंद्रीय विद्यालयों में होने वाली सरकारी शिक्षकों की नियुक्ति प्रक्रिया में आवेदन करने के पात्र होते हैं। इसके साथ ही नवोदय विद्यालय एवं आर्मी पब्लिक स्कूल एवं राज्य में होने वाली शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया में भी इस परीक्षा में सफल अभ्यर्थियों को आवेदन करने का मौका मिलता है।

अगर आप भी शिक्षक के रूप में कैरियर बनाना चाहते हैं, तो आपके लिए सीटेट परीक्षा को क्वालीफाई करना बेहद आवश्यक हो जाता है। इस आर्टिकल में हम परीक्षा में शामिल होने वाले अभ्यर्थियों के लिए बाल विकास एवं शिक्षाशास्त्र के ऐसे प्रश्न लेकर आए हैं, जो की परीक्षा में पूछे जा रहे हैं। इन प्रश्नों के माध्यम से अभ्यर्थी परीक्षा में अच्छे अंक प्राप्त कर सकते हैं।

सीटेट परीक्षा में शामिल होने से पहले सीडीपी पर कि इन सवालों को जरूर पढ़ें-Child Development and Pedagogy Questions For CTET Exam

1. वो विद्यार्थी जिन्हें वाच वैकल्य हैं, उनके सफल समावेशन हेतु निम्न में से किसे वर्जित करना चाहिए?/Which of the following should be excluded for the successful inclusion of students who are speech impaired?

Advertisement

(A) बहु-संवेदी शिक्षाशास्त्रीय उपागम/Multi-sensory Pedagogical Approach

(B) मानकीकृत आकलन/Standardized Assessment

(C) व्यक्तिगत लक्ष्य समुच्चय/Personal goal set

(D) लचीला पाठ्यक्रम/flexible curriculum

Ans- B

2. निम्न में से कौन-सा विद्यार्थियों के समस्या समाधान कौशलों के लिए बाधक है?/Which of the following hinders the problem solving skills of the students?

(A) प्रकार्यात्मक आबद्धता / स्थिरता/Functional Consistency / Stability

(B) अनुरूपकों का प्रयोग/Use of analogs

(C) कारण प्रभाव संबंध स्थापित करना/to establish cause-effect relationship

(D) साधन-लक्ष्य विश्लेषण/Means-end analysis

Ans- A 

3. दिव्यांग विद्यार्थियों के समावेशन के लिए क्या जरूरी है?/What is needed for the inclusion of students with disabilities?

(A) अगम्य मूलभूत संरचनाएँ/Inaccessible infrastructure

(B) अवसरों की असमानता/Inequality of opportunities

(C) सहभागिता में अवरोध/Barriers to participation

Advertisement

(D) गैर-भेदभाव/Non-discrimination

Ans-  D

4. पठन में कठिनाइयाँ जैसे कि अक्षरों का दर्पण छवि भ्रम और उत्क्रमण, निम्न में से किसके अभिलक्षण हैं?/Difficulties in reading such as mirror image confusion and reversal of letters are characteristics of which of the following?

(A) अवधान न्यूनता अतिक्रियाशीलता विकार/Attention deficit hyperactivity disorder

(B) गुणज वैकल्य/multiple choice

(C) वाचन वैकल्य/reading option

(D) स्वलीनता/Autism 

Ans- C 

5. ………… उन्मुखी लक्ष्य विद्यार्थियों को लम्बे समय तक आंतरिक प्रेरणा देंगे।/ ………….. Goal oriented will give intrinsic motivation to the students in the long run.

(A) प्रदर्शन/performance

(B) प्रतियोगिता/competition

(C) दक्षता/Efficiency

(D) परिहार/avoidance

Ans- C 

6. समावेशीकरण की सफलता के लिए आवश्यक है/Successful inclusion needs

(A) समुदाय का अहस्तक्षेप/no interference of society

(B) अलगाव/segregation

(C) क्षमता निर्माण का अभाव/lack of capacity building

Advertisement

(D) संवेदनशीलता/sensitization

Ans- D 

7. अधिगम की सर्वोत्तम अवस्था कौन सी है ?/Best state of learning is

(a) कोई उत्तेजना नहीं, कोई भय नहीं/no arousal, no fear.

(b) उच्च उत्तेजना, उच्च भय/high arousal, high fear.

(c) निम्न उत्तेजना, उच्च भय/low arousal, high fear.

(d) संतुलित उत्तेजना, कोई भय नहीं/moderate arousal, no fear.

Ans- D

8. लॉरेंस कोलबर्ग के सिद्धांत के अनुसार, “किसी कार्य को इसीलिए करना, क्योंकि दूसरे इसे स्वीकृति देते हैं”, नैतिक विकास के ………….. चरण को दर्शाता है।/According to Lawrence Kohlberg’s theory, “Performing an act and doing something because others approves it”, represents ………. stage of morality.

(A) अमूर्त संक्रियात्मक/Formal conventional

(B) प्रथा- पूर्व/Pre-conventional

(C) प्रथागत/Conventional

(D) उत्तर- प्रथागत/ Post-conventional

Ans-  C

9. अधिगम की अभिप्रेरणा को किस प्रकार कायम रखा जा सकता है ?/Motivation to learn can be sustained

(A) प्रर्दशन उन्मुखी/focusing on Performance goal

(B) बच्चे को दंड देकर ।/punishing the child

(C) प्रवीणता – अभिमुखी लक्ष्यों पर जोर देकर ।/ focusing on mastery-oriented goals.

Advertisement

(D) बच्चों को आसान क्रियाकलाप देकर जिनमें वो सहज हो।/giving easy tasks to children in which they are comfortable

Ans- C 

10. एक अध्यापिका समाज के वंचित वर्गों से आए बच्चों की आवश्यकताओं के प्रति प्रभावशाली तरीके से प्रतिक्रिया निम्नलिखित द्वारा कर सकती है :/A teacher can effectively respond to the needs of children from ‘disadvantaged sections’ of society by –

(A) ‘अन्य बच्चों’ को ‘वंचित वर्ग से आए बच्चों के साथ सहयोग करने के लिए कहना तथा विद्यालय के तरीकों को सीखने में उनकी सहायता करने के लिए कहना/telling the ‘other children’ to co- operate with the ‘disadvantaged children’ and help them learn the ways of the school.

(B) विद्यालयी व्यवस्था तथा स्वयं के उन तौर- तरीकों के बारे में विचार करना जिनसे पक्षपात एवं रूढ़िवद्धताएँ झलकती हैं।/reflecting on the school system and herself about various ways in which biases and stereotypes surface.

(C) उनके प्रताड़ित होने के अवसरों को कम करने के लिए यह सुनिश्चित करना कि बच्चे आपस में अन्योन्यक्रिया करने का मौका न पाएँ/ensuring that the children do not get a chance to interact with each other to minimize the chances of their being bullied.

(D) वंचित वर्ग से आए बच्चों को विद्यालय के नियमों एवं अपेक्षाओं के प्रति संवेदनशील बनाना ताकि वे उनका अनुपालन करें/sensitizing the disadvantaged children to the norms and strictures of schools so that they can comply with those.

Ans- B 

11. अ, ब, स तीन शिक्षार्थी हैं जो अंग्रेजी पढ़ते हैं। ‘अ’ को यह विषय रोचक लगता है और वह सोचता है कि यह उसके भविष्य में सहायक होगा। ‘ब’ अंग्रेज़ी इसलिए पढ़ती है, क्योंकि वह कक्षा में पहला स्थान प्राप्त करना चाहती है। ‘स’ अंग्रेजी विषय इसलिए पढ़ता है, क्योंकि उसका प्राथमिक सरोकार उत्तीर्ण होने वाले ग्रेड्स प्राप्त करना है। अ, ब और स के उद्देश्य क्रमशः ……………. हैं |/A, B and C are three students studying English. ‘A’ finds it interesting and thinks it will be helpful for her in future. ‘B’ studies English as she wants to secure first rank in the class. ‘C’ studies it as she is primarily concerned to secure passing grades. The goals of A. B and C respectively are

(A) निष्पादन- उपेक्षा, निपुणता, निष्पादन/Performance Avoidance, Mastery, Performance

(B) निपुणता, निष्पादन- उपेक्षा, निष्पादन/Mastery, Performance Avoidance, Performance

(C) निपुणता, निष्पादन, निष्पादन उपेक्षा/Mastery, Performance, Performance-Avoidance

(D) निष्पादन, निष्पादन- उपेक्षा, निपुणता/Performance, Performance: Avoidance Mastery

Ans-  C 

12. ……………. के द्वारा निपुणता अभिविन्यास को प्रोत्साहित किया जा  सकता है -/Mastery orientation can be encouraged by

(A) गृह-कार्य के रूप में बहुत अधिक अभ्यास सामग्री देकर/assigning lot of practice material as home assignments.

(B) अनपेक्षित परीक्षा लेकर/taking unexpected tests

(C) शिक्षार्थियों के व्यक्तिगत प्रयासों पर ध्यान केंद्रित करने/focusing on students’ individual effort.

Advertisement

(D) शिक्षार्थियों की सफलता की परस्पर तुलना करने/comparing students’ successes with each other.

Ans- C 

13. करनैल सिंह कानूनी कार्यवाही तथा खर्चे के बावजूद आयकर नहीं देते। वे सोचते हैं कि वे एक भ्रष्ट सरकार को समर्थन नहीं दे सकते जो अनावश्यक बाँधों के निर्माण पर लाखों रुपए खर्च करती है। वे संभवतः कोहलबर्ग के नैतिक विकास की किस अवस्था में है ?/Karnail Singh does not pay income tax despite legal proceedings and expenses. They think that they cannot support a corrupt government which spends lakhs of rupees on building unnecessary dams. What stage of Kohlberg’s moral development are they likely in?

(A) पूर्व-परंपरागत – स्वं अनुमोदित नैतिकता/Pre-conventional – self approved morality

(B) परा-परंपरागत (Para Conventional) अनैतिकता /Para-conventional immorality

(C) परंपरागत – बाहरी अनुमोदित नैतिकता/Conventional – External – Approved ethics

(D) पश्च-परंपरागत – स्व-अनुमोदित नैतिकता/Post-conventional – Self-approved ethics

Ans- D 

14. ………… के अतिरिक्त निम्नलिखित सभी सीखने के रूप में आकलन को बढ़ावा देते हैं।/All of the following assessment as learning except promote

(A) पढ़ाए गए विषय पर मनन करने के लिए शिक्षार्थियों को कहना |/tell students to reflect on the topic taught.

(B) जितनी संभावना हो शिक्षार्थियों का लगातार परीक्षण लेना ।/testing students as frequently as possible

(C) शिक्षार्थियों को आंतरिक पृष्ठपोषण लेने के लिए कहना ।/telling students to take internal feedback.

(D) अवसर लेने हेतु शिक्षार्थियों के लिए एक सुरक्षित वातावरण का निर्माण करना ।/generating a safe environment for students to take chances.

Ans- B

15. अंतरपरक अनुदेशन है/Differentiated instruction is

(A) अव्यवस्थित अथवा स्वच्छंद शिक्षार्थी गतिविधियाँ/disorderly or undisciplined student activity.

(B) ऐसे समूहों का प्रयोग जो कभी नहीं बदलते/using groups that never change.

(C) शिक्षार्थियों की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए समूहीकरण के विविध रूपों का प्रयोग करना ।/using a variety of groupings to meet student needs.

Advertisement

(D) कक्षा में प्रत्येक शिक्षार्थी के लिए कुछ अलग करना ।/doing something different for every student in

Ans- C 

Read More:-

CTET 2023: केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा में आपके स्कोर को बढ़ाएंगे ‘EVS NCERT’ पर आधारित यह प्रश्न

CTET 2023: सीटेट परीक्षा में पूछे जाने लगे हैं ‘EVS’ के कुछ ऐसे प्रश्न अभी पढ़ें!

यहाँ हमने आगामी सीटीईटी परीक्षा की तैयारी कर रहे अभ्यर्थीयो के लिए बाल विकास एवं शिक्षाशास्त्रसे जुड़े महत्वपूर्ण सवाल (CTET CDP Top 15 Expected MCQ) विषय के महत्वपूर्ण सवालों का अध्ययन किया है CTET सहित सभी शिक्षक पात्रता परीक्षा की बेहतर तैयारी के लिए आप हारे TELEGRAM CHANNEL के सदस्य जरूर बने Join Link नीचे दी गई है?

Advertisement

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

CTET

UP Teacher Vacancy 2023: योगी सरकार का तोहफा, 51 हजार शिक्षक भर्ती जल्द, CTET-UPTET क्वालीफाई को मिलेगी एंट्री

Published

on

By

Advertisement

UP Shikshak Bharti 2023 (UPDATED): उत्तर प्रदेश में लंबे समय से शिक्षक भर्ती परीक्षा का इंतजार कर रहे अभ्यर्थियों के लिए अच्छी खबर है. उत्तर प्रदेश बेसिक शिक्षा परिषद (UPBEB) जल्द ही शिक्षक के 51 हजार से अधिक रिक्त पदों पर बंपर भर्ती निकालने वाला है. नवभारत टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक लोकसभा चुनाव से पहले योगी सरकार प्रदेश में  माध्यमिक व राजकीय विद्यालयों में रिक्त शिक्षकों के पदों पर भर्ती करने जा रही है.

इतने पदों पर होगी भर्ती

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक बेसिक शिक्षा विभाग में टीजीटी/ पीजीटी शिक्षकों के लगभग 51 हजार से अधिक पद रिक्त हैं, इसके अलावा राजकीय विद्यालयों में शिक्षकों के 7 हजार 471 पद रिक्त हैं. तो वही बात करें प्रवक्ता तथा सहायक अध्यापकों के पदों कि तो बताया जा रहा है प्रवक्ता के 2115 जबकि सहायक अध्यापक के 5256 पद खाली हैं जिनपर भर्ती की जानी है.

इन उम्मीदवारों को मिलेगी एंट्री

Advertisement

उत्तर प्रदेश के प्राइमरी तथा अपर प्राइमरी सरकारी स्कूलों में शिक्षकों की भर्ती सुपर टेट परीक्षा (SUPER TET) के माध्यम से की जाती है, जिसका आयोजन उत्तर प्रदेश बेसिक एजुकेशन बोर्ड द्वारा किया जाता है. सुपर टेट परीक्षा में केवल वे अभ्यर्थी ही शामिल हो सकते हैं जिन्होंने यूपी टेट परीक्षा (Uttar Pradesh Teacher Eligibility TestUPTET) पास की हो.  बहुत से अभ्यर्थियों के मन में यह सवाल भी रहता है कि क्या सीटेट परीक्षा क्वालीफाई अभ्यर्थी यूपी शिक्षक भर्ती परीक्षा में शामिल हो सकते हैं? 

आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश शिक्षक भर्ती परीक्षा यानी सुपर टेट में शामिल होने के लिए उम्मीदवार को किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से स्नातक डिग्री तथा टीचिंग ट्रेनिंग कोर्स (D.El.Ed, BTC, B.Ed. आदि) पास किया होना चाहिए साथ ही UPBEB द्वारा आयोजित यूपी टेट परीक्षा पास होना जरूरी है. इसके अलावा पेपर -1 के लिए सीटेट पास अभ्यर्थी भी सुपर टेट परीक्षा देने के पात्र होते हैं. 

यदि बात करें आयु सीमा की तो न्यूनतम 21 वर्ष से लेकर अधिकतम 40 वर्ष की आयु वाले अभ्यर्थी सुपर टेट परीक्षा के लिए आवेदन कर सकते हैं हालांकि उत्तर प्रदेश के मूल निवासी अभ्यर्थियों को कैटेगरी वाइज अधिकतम आयु में छूट का प्रावधान है अधिक जानकारी के लिए आधिकारिक नोटिफिकेशन पढ़ें.

इच्छुक उम्मीदवार आधिकारिक वेबसाइट ctet.nic.in पर जाकर अपना आवेदन सबमिट कर सकते हैं. सीटेट परीक्षा पास करने पर उम्मीदवार सुपर टेट के साथ ही केंद्र सरकार द्वारा संचालित केंद्रीय विद्यालय, नवोदय विद्यालय तथा आर्मी पब्लिक स्कूल आदि में निकलने वाली शिक्षकों की भर्ती में भी शामिल हो सकते हैं.

कब आएगा यूपीटीईटी नोटिफ़िकेशन? (UPTET 2023 Notification Update)

उत्तर प्रदेश में शिक्षक बनने की चाह रखने वाले लाखों अभ्यर्थी उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा यानी यूपीटीईटी के नोटिफिकेशन का इंतजार कर रहे हैं नवीनतम मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक यूपीटीईटी परीक्षा का नोटिफिकेशन फ़रवरी 2023 के अंतिम सप्ताह या मार्च के पहले सप्ताह तक जारी किया जा सकता है। नोटिफिकेशन जारी होने के बाद अभ्यर्थी आधिकारिक वेबसाइट updeled.gov.in पर जाकर आवेदन कर पाएंगे.

अधिक जानकारी के लिए अभ्यर्थी लगातार शिक्षा विभाग की वेबसाइट पर विजिट करते रहें बता दें कि यूपीटीईटी परीक्षा में शामिल होने के लिए अभ्यर्थी की उम्र 18 साल या उससे अधिक होनी चाहिए इसके साथ ही बैचलर डिग्री या समकक्ष डिप्लोमा होना जरूरी है।

Read More:

CTET Exam 2023: ‘अल्बर्ट बंडूरा के सिद्धांत’ से जुड़े कुछ ऐसे सवाल ही पूछे जा रहे हैं सीटेट परीक्षा की सभी शिफ्टों में

Advertisement

Continue Reading

CTET

CTET 2023: ‘पक्षियों’ से जुड़े बेहद रोचक सवाल, जो सीटेट की सभी शिफ्ट में पूछे जा रहे हैं!

Published

on

By

EVS MCQ on Birds For CTET
Advertisement

EVS MCQ on Birds For CTET: शिक्षक के रूप में कैरियर बनाने की चाहत लिए लाखों अभ्यर्थी प्रतिवर्ष सीबीएसई के द्वारा संचालित सिटी परीक्षा में शामिल होते हैं। इस वर्ष किस परीक्षा का आयोजन 28 दिसंबर से किया जा रहा है। अगर आप भी इस परीक्षा में शामिल होने जा रहे हैं, तो यहां पर हम आपके लिए पर्यावरण अध्ययन के अंतर्गत पक्षियों पर आधारित परीक्षा में पूछे जाने वाले संभावित प्रश्न लेकर आए हैं। इस टॉपिक से पेपर में एक से दो प्रश्न पूछे जा रहे हैं अभ्यर्थियों को इन प्रश्नों का अध्ययन एक बार अवश्य कर लेना चाहिए।

Read More:- UP Teacher Vacancy 2023: योगी सरकार का तोहफा, 51 हजार शिक्षक भर्ती जल्द, CTET-UPTET क्वालीफाई को मिलेगी एंट्री

CTET Environment MCQ on Birds—पर्यावरण अध्ययन के अंतर्गत पक्षियों पर आधारित परीक्षा में पूछे जाने वाले संभावित प्रश्न

1) किस प्रकार के पक्षी की चोंच मीट को काटने और खाने के काम आती है?

Advertisement

1. तिकोने आकार की चोंच

2. सीधी और पतली चोंच

3. हुक जैसी चोंच

4. लम्बी पतली सुई जैसी चोंच

Ans- 3

2) पक्षियों की एक स्पीशीज (प्रजाति) ऐसी है, जिसका नर पक्षी सुन्दर सुन्दर घोंसले बुनता है। मादा पक्षी उन सभी पोसलों को देखती है। उनमें से वह उसे चुनती है जो उसे सबसे अच्छा लगता है और उसी में अंडे देती है। पक्षियों की इस स्पीशीज का नाम है.

1. कोयल

2. वीवर पक्षी

3. शक्कर खोरा

4. वसंत गौरी

Ans- 2

3) अपनी गर्दन को पीछे तक घुमा सकने वाला पक्षी है.

1. कबूतर 

2. तोता

3. उल्लू 

Advertisement

4. मैना

Ans- 3

4) अपनी गर्दन को झटके से आगे पीछे कर सकने वाला पक्षी है.

1. कबूतर (कपोत)

2. तोता

3. उल्लू

4. मैना

Ans- 4

5) तीन पक्षियों का वह समूह जिसका प्रत्येक सदस्य वस्तुओं को हमारी तुलना में, चार गुना अधिक दूरी स्पष्ट देख सकता है, जो वस्तु हमें दो मीटर की दूरी से दिखाई देती है उसे ही ये पक्षी आठ मीटर दूरी से देख लेते हैं) कौन सा है

1 बाज़, कौआ, कबूतर

2 बाज़, चील, गिद्ध

3 कबूतर, तोता, चील 

4 कोआ, चील, बुलबुल

Ans- 2

6) पक्षियों की उस प्रजाति का नाम क्या है जिसमें नर पक्षी अनेक सुन्दर घोंसले बनाते हैं और मादा पक्षी उनमें से केवल एक घोंसला चुनते हैं और उसमें अण्डे देते हैं? 

1. कलचिड़ी

2. शकरखोरा

3. दर्जिन चिड़िया 

Advertisement

4. बया (वीवर)

Ans- 4

7. उस पक्षी का नाम जिसकी आंखें मानवों की तरह सामने की तरफ होती हैं:

1. चील

2. बाज

3. गिद्ध

4. उल्लू

Ans- 4

8) तीन पक्षियों का वह समूह जिसका प्रत्येक सदस्य वस्तुओं को हमारी तुलना में, चार गुना अधिक दूरी स्पष्ट देख सकता है, जो वस्तु हमें दो मीटर की दूरी से दिखाई देती है उसे ही ये पक्षी आठ मीटर दूरी से देख लेते हैं) कौन सा है

1 बाज़, कौआ, कबूतर

2 बाज़, चील, गिद्ध 

3 कबूतर, तोता, चील 

4 कोआ, चील, बुलबुल

Ans- 2

9) निम्नलिखित में से कौन सा सबसे छोटा प्रवासी पक्षी है जो उत्तरध्रुवीय क्षेत्र से भारत आता है:

1. सीखपर बत्तख (पिनटेल डक)

2. छोटी मतस्यकुररी (ऑस्प्रे) 

3. हंसावर (फ्लेमिंगो) 

Advertisement

4. छोटी जलरंक (स्टिंट)

Ans- 4

10) एक छोटे से पेड़ या झाड़ी की शाखा से लटकने वाला घोंसला बनाने वाला पक्षी है। 

1. सूर्यपक्षी / शक्कर खोरा

2. कौवा 

3. बारबेट / बसंतगौरी

4. भारतीय रॉबिन / कलचिड

Ans- 1

Read More:-

CTET 2023: ‘बाल विकास एवं शिक्षाशास्त्र’ के इस लेवल के सवाल पूछे जा सकते हैं आने वाली शिफ्ट में अभी पढ़ें!

CTET Exam: परीक्षा हॉल में बहुत काम आने वाले हैं ‘हिंदी पेडागॉजी’ के यह प्रश्न!

यहाँ हमने आगामी सीटीईटी परीक्षा की तैयारी कर रहे अभ्यर्थीयो के लिए ”पक्षियों” से जुड़े महत्वपूर्ण सवाल (EVS MCQ on Birds For CTET) विषय के महत्वपूर्ण सवालों का अध्ययन किया है CTET सहित सभी शिक्षक पात्रता परीक्षा की बेहतर तैयारी के लिए आप हारे TELEGRAM CHANNEL के सदस्य जरूर बने Join Link नीचे दी गई है?

Advertisement

Continue Reading

CTET

CTET Exam 2023: ‘अल्बर्ट बंडूरा के सिद्धांत’ से जुड़े कुछ ऐसे सवाल ही पूछे जा रहे हैं सीटेट परीक्षा की सभी शिफ्टों में

Published

on

By

Albert Bandura's Social Learning Theory for CTET AND TET Exams
Advertisement

Albert Bandura Theory Based Questions CTET: केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा का आयोजन सीबीएसई बोर्ड के द्वारा 28 दिसंबर 2022 से किया जा रहा है। परीक्षा वर्तमान समय में जारी है, जो कि 7 फरवरी 2023 तक जारी रहेगी। अगर आप भी इस परीक्षा में शामिल होने वाले हैं, तो यहां पर हम आपके लिए अल्बर्ट बंडूरा के द्वारा दिए गए सिद्धांत पर आधारित परीक्षा में पूछे जाने वाले संभावित प्रश्न लेकर आए हैं। जो कि आपको परीक्षा में बेहद काम आने वाले हैं। विगत शिफ्ट में इस टॉपिक से प्रश्न पूछे जा रहे हैं। ऐसे में आगामी चरण में भी यहां से प्रश्न पूछे जाने की प्रबल संभावना है।

केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा के लिए अल्बर्ट बंडूरा के सिद्धांत से जुड़े महत्वपूर्ण प्रश्न—MCQ on Albert Bandura Social Learning Theory For CTET Exam

1. अल्बर्ट बंडूरा ने प्रयोग किया?

A- कुत्ते पर

Advertisement

B-गुड़िया पर

C-जोकर पर

D-B और C दोनों पर

Ans- D 

2. सामाजिक अधिगम का सिद्धांत किसने दिया?

A- वाइगोत्सकी

B-जीन पियाजे

C- अल्बर्ट बंडूरा

D-कोहलबर्ग

Ans- C 

3. बंडूरा के अनुसार अनुकरण की प्रक्रिया के कितने चरण हैं?

A- पांच

B- सात

C- चार

D-दस

Advertisement

Ans- C 

4. अल्बर्ट बंडूरा ने अपना सिद्धान्त कब दिया?

A-1994

B-1977

C-1897

D-1920

Ans- B 

5. जिस माध्यम से बच्चा अनुकरण के द्वारा सीखता है उसे अल्बर्ट बंडूरा ने क्या कहा?

A-उत्पाद

B-मॉडल

C-स्की मा

D- पुनर्बलन

Ans- B

6. Social Foundations of Thought and Action पुस्तक किसकी है

A- जीन पियाजे

B-अरस्तू

C- अल्बर्ट बंडूरा

D-कोहलबर्ग

Advertisement

Ans- C 

7. …………… के अनुसार, बच्चों के चिंतन के बारे में सामाजिक प्रक्रियाओं तथा सांस्कृतिक संदर्भ के प्रभाव को समझना आवश्यक है।

A-लॉरेंस कोलबर्ग

B-जीन पियाजे

C-लेब वायगोट्स्की

D-अलबर्ट बैन्डुरा

Ans- C 

8. – बच्चों को संकेत देना तथा आवश्यकता पड़ने पर सहयोग प्रदान करना निम्नलिखित में से किसका उदाहरण है?

A-प्रबलन

B-अनुबंधन

C-मॉडलिंग

D-पाड़ (ढाँचा)

Ans- D

9. अल्बर्ट बैन्ड्यूरा के सामाजिक अधिगम सिद्धांत के अनुसार निम्न में से कौन-सा सही है?

A-बच्चों के सीखने के लिए प्रतिरूपण (मॉडलिंग) एक मुख्य तरीका है

B-अनसुलझा संकट बच्चे को नुकसान पहुंचा सकता है

C-संज्ञानात्मक विकास सामाजिक विकास से स्वतंत्र है

D-खेल अनिवार्य है और उसे विद्यालय में प्राथमिकता दी जानी चाहिए

Advertisement

Ans- A 

10. कोहलबर्ग के अनुसार, शिक्षक बच्चों में नैतिक मूल्य का विकास कर सकता है-

A-” कैसे व्यवहार किया जाना चाहिए ” इस पर कठोर निर्देश देकर

B-धार्मिक शिक्षा को महत्त्व देकर

C- व्यवहार के स्पष्ट नियम बनाकर

D-नैतिक मुद्दों पर आधारित चर्चाओं में उन्हें शामिल करके

Ans- D

11. लारिंस कोहलबर्ग विकास के क्षेत्र में शोध के लिए जाने जाते हैं।

A-संज्ञानात्मक

B-शारीरिक

C-नैतिक

D- गामक

Ans- C 

12. कोहलबर्ग के अनुसार सही और गलत प्रश्नों के बारे में निर्णय लेने में शामिल चिंतन प्रक्रिया को कहा जाता है

A-सहयोग की नैतिकता

B-नैतिक तर्कणा

C-नैतिक यथार्थवाद

D-नैतिक दुविधा

Advertisement

Ans- B

13. लॉरेंस कोहलबर्ग के द्वारा प्रस्तावित निम्नलिखित चरणों में से प्राथमिक विद्यालयों के बच्चे किन चरणों का अनुसरण करते हैं?

(1) आज्ञापालन और दंड – – उन्मुखीकरण

(2) वैयक्तिकता और विनिमय

(3) अच्छे अंत : वैयक्तिक संबंध

(4) सामाजिक अनुबंध और व्यक्तिगत अधिकार

A-2 और 1

B-2 और 4

C-1 और 4

D-1 और 3

Ans- A 

14. करनैल सिंह कानूनी कार्यवाही तथा खर्चों के बावजूद आय कर नहीं देते। वे सोचते हैं कि वे एक भ्रष्ट सरकार को समर्थन नहीं दे सकते, जो अनावश्यक बाँधों के निर्माण पर लाखों रुपये खर्च करती हैं । वे संभवतः कोहलबर्ग के नैतिक विकास की किस अवस्था में हैं?

A-परंपरागत

B-पश्च परंपरागत

C-पूर्व परंपरातगत

D-परा-परंपरागत

Ans- B

15. एक शिक्षिका अपनी कक्षा से कहती है, ‘सभी प्रकार के प्रदत्त’ कार्यों का निर्माण इस प्रकार किया गया है कि प्रत्येक विद्यार्थी अधिक प्रभावशाली ढंग से सीख सके, अतः सभी विद्यार्थी बिना किसी अन्य की सहायता से अपना कार्य पूर्ण करें। वह कोहलबर्ग के किस नैतिक विकास के चरण की ओर संकेत दे रही है?

Advertisement

A-पूर्व औपचारिक चरण 2 वैयक्तिकता और विनिमय

B-औपचारिक चरण 4 कानून और व्यवस्था

C-पर – औपचारिक चरण 5 सामाजिक संविदा

D- पूर्व – औपचारिक चरण 1 दंड परिवर्जन

Ans- B

Read More:-

CTET 2023: ‘बाल विकास एवं शिक्षाशास्त्र’ के इस लेवल के सवाल पूछे जा सकते हैं आने वाली शिफ्ट में अभी पढ़ें!

CTET Exam 2023: ‘पर्यावरण’ के इन सवालों को परीक्षा हॉल में जाने से पहले एक बार जरूर पढ़ें!

Advertisement

Continue Reading

Trending