जाने! हिंदी मुहावरे का अर्थ और प्रयोग || Muhavare In Hindi With Sentences

Advertisement

Hindi Muhavare With Meanings And Sentences Class 10

 इस आर्टिकल में हम जानेंगे हिंदी के प्रमुख मुहावरे तथा उनका अर्थ इसके साथ ही मुहावरों का वाक्य में कैसे प्रयोग किया जाता है तो आइए जाने हिंदी भाषा में प्रयुक्त होने वाले प्रमुख मुहावरे जो इस प्रकार है।

  •  अँचरा पसारना (माँगना, याचना करना) – हे देवी मैया, अपने बीमार बेटे के लिए आपके आगे अँचरा पसारती हूँ। उसे भला-चंगा कर दो, माँ!
  •  अंगार बनना (लाल होना, क्रुद्ध होना) – कमजोर लोग ही छोटी बात पर अंगार हो उठते हैं या बनते हैं, सयाने नहीं।
    अंगारों पर पैर रखना (जान-बूझकर हानिकारक कार्य करना) – अपने बाप के अकेले बेटे हो। इस तरह अंगारों पर पैर न रखो।
  • आँखें चुराना (नजर बचाना, अपने को छिपाना) – मुझे देखते ही वह आँखें चुराने लगा।
  • आँखों में खून उतरना (अधिक क्रोध करना) – बेटे के कुकर्म की बात सुनकर पिता की आँखों में खून उतर आया।
  • आँखों में गड़ना (किसी वस्तु को पाने की उत्कट लालसा) – उसकी कलम मेरी आँखों में गड़ गई है।
  •  आँखें फेर लेना (उदासीन हो जाना) – मतलब निकल जाने के बाद उसने मेरी ओर से बिलकुल आँखें फेर ली है।
  •  आँख मारना (इशारा करना) – उसने आँख मारकर मुझे बुलाया।
  •  सिर पीटना (शोक करना) – चोर उस बेचारे की पाई-पाई ले गए। सिर पीटकर रह गया वह।
  • सिर पर भूत सवार होना (एक ही रट लगाना, धुन सवार होना) – मालूम होता है कि धनश्याम के सिर पर भूत सवार हो गया है, जो वह जी-जान से इस काम में लगा है।
  • मुँह उतरना (उदास होना) – परीक्षा में असफल होने पर श्याम का मुँह उत्तर आया।
    ‘वात’ पर मुहावरे
  • बात का धनी (वायदे का पक्का) – मैं जानता हूँ, वह बात का धनी है।
  • बात की बात में (अतिशीघ्र) – बात की बात में वह चलता बना।
  • सफेद झूठ (सरासर झूठ) – यह सफेद झूठ है कि मैंने उसे गाली दी।
  • मोटा असामी (मालदार) – रामलाल को बहुत दिनों बाद आज मोटा असामी हाथ लगा है।
  • मुट्ठी गरम करना (घूस देना) – पुलिस की मुट्ठी गरम करो, तो काम होगा।
  • बाँसों उछलना (बहुत खुशी होना) – परीक्षा में सफलता का समाचार पाकर वह बाँसों उछल रहा है।
    बाजी ले जाना या मारना (जीतना, आगे निकल जाना) – देखें, दौड़ में कौन बाजी ले जाता या मारता है।
  • तीन तेरह होना (तितर-बितर होना) – यों तो आपसी मतभेद था ही, श्रीकृष्ण के आँखे मूँदते ही रहा-सहा यदुकुल और भी तीन-तेरह हो गया।
  • तिल का ताड़ करना (बात को तूल देना) – मैंने उसे सिर्फ बेहूदा कहा, मगर मुहल्लेवालों ने यह तिल का ताड़ कर दिया कि मैंने उसे दुनियाभर की गालियाँ दीं।
  •  जल-भुनकर खाक हो जाना (क्रोध से पागल होना) – तुम तो जरा-सी बात पर जल-भुनकर खाक हुए जा रहे हो।
  • बात चलाना (चर्चा चलाना) – कृपया मेरी बेटी के ब्याह की बात चलाइएगा।
  • बात तक न पूछना (निरादर करना) – मैं विवाह के अवसर पर उसके यहाँ गया, पर उसने बात तक न पूछी।
  • बात बढ़ाना (बहस छिड़ जाना) – देखो, बात बढ़ाओगे तो ठीक न होगा।
  • आँखों में धूल झोंकना (धोखा देना) – वह बड़ों-बड़ो की आँखों में धूल झोंक सकता है।
  • आँखें बिछाना (प्रेम से स्वागत करना) – मैंने उनके लिए अपनी आँखें बिछा दीं।
  • आँखों का काँटा होना (शत्रु होना) – वह मेरी आँखों का काँटा हो रहा है।
  • अंधेरखाता (अन्याय) – मुँहमाँगा दो, फिर भी चीज खराब। यह कैसा अंधेरखाता है।
  •  सिर से पैर तक (आदि से अंत तक) – तुम्हारी जिंदगी सिर से पैर तक बुराइयों से भरी है।
  •  सिर पीटना (शोक करना) – चोर उस बेचारे की पाई-पाई ले गए। सिर पीटकर रह गया वह।
  • सिर पर भूत सवार होना (एक ही रट लगाना, धुन सवार होना) – मालूम होता है कि धनश्याम के सिर पर भूत सवार हो गया है, जो वह जी-जान से इस काम में लगा है
  • सिर फिर जाना (पागल हो जाना) – धन पाकर उसका सिर फिर गया है।
  • नाक-भौं चढ़ाना (क्रोध अथवा घृणा करना) – तुम ज्यादा नाक-भौं चढ़ाओगे, तो ठीक न होगा।
  •  नाक में दम करना (परेशान करना) – शहर में कुछ गुंडो ने लोगों की नाक में दम कर रखा है।

ये भी पढे : प्रगतिवादी कवियों की प्रमुख रचनाए

For Latest Update Join Our Social Media Handles:

       

Advertisement

Advertisement

Leave a Comment