Success Story: जाने केसे रीतिका जिंदल बनी मात्र 22 साल की उम्र मे IAS ऑफिसर 

Advertisement

Succes Story: आज के इस लेख मे हम बात करने वाले है, आईएएस ऑफिसर रीतिक जिंदल की, जिन्होंने मात्र 22 साल की उम्र में अपनी मेहनत के दम पर यूपीएससी ग्रेट कर एक आईएस ऑफिसर का पद प्राप्त किया। रितिका जिंदल की बात करें तो वे बचपन से ही पढ़ाई में अधिक रूचि रखती थी उन्होंने अपने बचपन में ही ठान लिया था कि वह एक आईएएस ऑफिसर बन के दिखाएगी। 

आपको बता दें कि उनका आईएस ऑफिसर बनने तक का सफर बिल्कुल आसान नहीं रहा, उनको इस मुकाम पर पहुंचने के लिए कई समस्या का सामना करना पड़ा। रितिका जिंदल की लाइफ की पूरी स्टोरी जानने के लिए लेख को अंत तक पढ़े। 

बचपन से ही था सिविल सर्विस में जाने का सपना

रितिका जिंदल का जन्म पंजाब के मोगा जिले मे हुआ था वे पंजाब में बचपन से ही भगत सिंह और लाला लाजपत राय की कहानी सुनकर बड़ी हुई थी। इन कहानी को सुनने के बाद उनके मन में देश तथा लोगों के प्रति कुछ करने के लिए ख्याल आया और उन्होंने एक आईएएस ऑफिसर बनने का विकल्प चुना तथा उन्होंने अपनी पढ़ाई  पूरी लगन से की और आईएस बनने के लिए सही समय आने पर यूपीएससी परीक्षा के लिए तैयारी में लग गई।

Advertisement

कक्षा 12वीं में टॉपर रही थी रितिका जिंदल 

रितिका जिंदल अपने स्कूल टाइम से ही आईएएस ऑफिसर बनने का सपना लिए हुए अपनी पढ़ाई को और अधिक फोकस के साथ करने लगी। वे सीबीएसई बोर्ड मे 12वीं में 96% अंकों के साथ पूरे इंडिया में टॉपर रही। उनको रिपब्लिक डे में प्रधानमंत्री मोदी के द्वारा सम्मानित भी किया गया। लेकिन उनके 12वीं में टॉप करना इतना आसान नहीं रहा जब वे कक्षा 12वीं में थी तो उनके पिताजी हॉस्पिटल में भर्ती थे उन्होंने बड़ी ही मुश्किलों के साथ अपनी पढाई पर ध्यान दिया था।

12वीं के बाद उन्होंने श्री राम यूनिवर्सिटी ऑफ कॉलेज से ग्रेजुएशन कंप्लीट किया तथा अपने ग्रेजुएशन में भी 95% के साथ तीसरे स्थान के साथ टॉपर रही ।

अपनी पहली कोशिश मे मिली थी असफलता 

रितिका जिंदल ने 12वीं क्लास के बीकॉम करने का फैसला लिया क्योंकि उन्होंने यह सोचा था, कि अगर वे B.Tech करती तो उनको 4 साल लगते हैं लेकिन बीकॉम में मात्र 3 साल में ही उनका ग्रेजुएशन कंप्लीट हो जाएगा और वह यूपीएससी के लिए परीक्षा दे पाएगी ।उनके लिए यह फैसला बिल्कुल ठीक रहा उन्होंने कॉलेज में अपनी यूपीएससी की पढ़ाई जारी रखी। रितिका जिंदल ने अपनी 21 साल की उम्र में पहली बार यूपीएससी की परीक्षा दी, लेकिन कुछ कम मार्क्स होने की वजह से उनको पहली बाहर में असफलता मिली।

जोश टॉक के यूट्यूब चैनल पर अपने स्टोरी सुनाते वक्त उन्होंने यह कहा था कि यूपी से परीक्षा में मिली उनकी यह असफलता पहली असफलता थी क्योंकि वह शुरुआत से ही स्कूलों तथा कॉलेज में टॉपर रही थी। इसके बाद उन्होंने 22 साल की उम्र में ही अपनी दूसरी कोशिश पर यूपीएससी के तीनों चरण (प्रिलिम, मैंस, इंटरव्यू) सफलता प्राप्त कर ली। ऋतिका जिंदल वर्तमान मे कुनु मनाली मे SDM के पद पर सेवारत है।

ritika jindal IAS

ये भी पढ़े

Success Story: जानिए केसे एक सब्जी बेचने वाला बना सरकारी अधिकारी 

Advertisement

Leave a Comment