Jean Piaget Theory One-liner Facts in Hindi for CTET/DSSSB/KVS/UP-TET

Jean Piaget Theory One-liner Facts in Hindi for CTET/DSSSB/KVS/UP-TET

 जीन पियाजे का सिद्धांत क्या है? (What is Jean Piaget Theory)

इस सिद्धांत के प्रतिपादक जीन पियाजे ,स्विट्जरलैंड के निवासी थे। जीन पियागेट एक स्विस मनोवैज्ञानिक और आनुवंशिक एपिस्टेमोलॉजिस्ट थे। वह सबसे अधिक संज्ञानात्मक विकास के अपने सिद्धांत के लिए प्रसिद्ध है जो इस बात पर ध्यान देता है कि बचपन के दौरान बच्चे बौद्धिक रूप से कैसे विकसित होते हैं।

पियागेट के सिद्धांत से पहले, बच्चों को अक्सर केवल मिनी-वयस्कों के रूप में सोचा जाता था। इसके बजाय, पियागेट ने सुझाव दिया कि जिस तरह से बच्चे सोचते हैं, वह उस तरह से अलग है, जिस तरह से वयस्क सोचते हैं।

उनके सिद्धांत का मनोविज्ञान के भीतर एक विशिष्ट उपक्षेत्र के रूप में विकासात्मक मनोविज्ञान के उद्भव पर जबरदस्त प्रभाव था और शिक्षा के क्षेत्र में बहुत योगदान दिया। उन्हें रचनावादी सिद्धांत के एक अग्रणी के रूप में भी श्रेय दिया जाता है, जो बताता है कि लोग अपने विचारों और अपने अनुभवों के बीच की बातचीत के आधार पर सक्रिय रूप से दुनिया के अपने ज्ञान का निर्माण करते हैं।

2002 के एक सर्वेक्षण में पियागेट को बीसवीं शताब्दी के दूसरे सबसे प्रभावशाली मनोवैज्ञानिक के रूप में स्थान दिया गया था।

यहा जीन पियाजे के संज्ञानात्मक सिद्धांत से संबंधित पर आधारित कुछ महत्वपूर्ण प्रश्न उत्तर (Jean Piaget Theory One-liner Facts in Hindi ) दिये गए है जो विभिन्न शिक्षक भर्ती परीक्षाओ मे बार बार पूछे जाते है। इन्हे आपको ध्यान से अध्ययन कर लेना चाहिए।

1. व्यक्ति व वातावरण के संबंध को कौन सा वाह्य  रूप में प्रभावित करता है –  अनुकूलन

2. समस्या समाधान की क्षमता का विकास किस अवस्था में होता है। –  अमूर्त/ औपचारिक संघ क्रियात्मक अवस्था

3. बुद्धि में विभिन्न ने प्रक्रिया है जैसे प्रत्यक्षीकरण, स्मृति, चिन्ह एवं तर्क सभी संगठित होकर कार्य करती है, इसका  तात्पर्य किससे है। – संगठन से

4. जीन पियाजे कौन थे। –  स्विजरलैंड की एक मनोवैज्ञानिक चिकित्सक

5. इस नियम के अनुसार बालक किसके साथ अनुकूलन करने के लिए अनेक नियमों को सीख लेता है  – पर्यावरण के साथ

6. तार्किक चिंतन की क्षमता का विकास किस अवस्था में होता है।  –  औपचारिक या अमूर्त संक्रिया तमक अवस्था

7. पियाजे के संज्ञानात्मक विकास की प्रक्रिया में मुख्यतः किन दो बातों को महत्व पूर्ण नाम माना है। –  संगठन व अनुकूलन

8. संगठन, व्यक्ति एवं वातावरण के संबंध को किस प्रकार से प्रभावित करता है –  आंतरिक रुप से

9. जीन पियाजे का जन्म कब हुआ। –  9 अगस्त 1896

10. इनकी मृत्यु कब हुई। –  16 सितंबर 1980 (उम्र 84)

11. जीन पियाजे ने कौन सा सिद्धांत दिया था। –  संज्ञानात्मक विकास का सिद्धांत

12. पियाजे का संज्ञानात्मक सिद्धांत किससे संबंधित  है। – मानव बुद्धि की प्रकृति एवं उसके विकास से

13. पियाजे के अनुसार व्यक्ति के किस विकास में उसके जीवन के किस भाग का विशेष योगदान होता है।  – बचपन

14. पियाजे के सिद्धांत को और किस नाम से भी जाना जाता है। – विकास अवस्था सिद्धांत

15. यह सिद्धांत किस की प्रकृति के बारे में बतलाता है। –   ज्ञान की – कैसे प्राप्त व उपयोग होता है

16. विकासात्मक सिद्धांत क्या है।  – पियाजे का संज्ञानात्मक सिद्धांत

17. जीन पियाजे की प्रसिद्धि का प्रमुख कारण क्या था। –  बाल विकास पर किए गए कार्य

18. पियाजे का सिद्धांत किस पद्धति से सीखने पर बल देता है। –  खोज पद्धति से

19. बाहरी सत्ता के आधार पर नैतिक चिंतन करने वाले बच्चे किस धारणा में विश्वास करते हैं।  – तुरंत न्याय

20. जीन पियाजे ने किस उम्र के बच्चों का अवलोकन और साक्षात्कार किया था।  – 4 से 12 वर्ष

21.पियाजे के अनुसार 10 वर्ष या उससे बड़े उम्र के बच्चे किस प्रकार की नैतिकता प्रदर्शित करते हैं।  – स्वतंत्रता आधारित नैतिकता

22. संज्ञानात्मक विकास की कौन-कौन सी अवस्थाएं होती हैl 

(a)  संवेदी पेशीय अवस्था(Sensor motor) – 0 से 2

(b)  पूर्व क्रियात्मक अवस्था(Pre-operation) – 2  से 7

(c)  अमूर्त संक्रियाएंत्मक(Cocrete operation) – 7  से 11

(d)  मूर्त संक्रियाआत्मक (Formal operation ) – 11  से 18

23.संवेदी पेशीय अवस्था को कितने भागों में बांटा गया है। – 6

1  सह क्रिया अवस्था

2  प्रमुख वित्तीय अनुप्रिया ओं की अवस्था

3  गौर्ण वृत्तीय अनु क्रियाओं की अवस्था

4 गौर्ण सिकमेटा की समन्वय की अवस्था

5  तृतीय वृत्तीय अनु क्रियाओं की अवस्था

6  मानसिक सहयोग द्वारा नए साधनों की खोज की अवस्था

24. पूर्व संक्रिया अवस्था में प्रकट होने वाले लक्षण को कितने प्रकार में  विभाजित किया गया है।

दो – 1.  पूर्व प्रत्यात्मक काल-  2 से 4 वर्ष

       2. अंतःप्रत्यात्मक  काल – 4 से 7 वर्ष

25. संज्ञानात्मक विकास की कितनी अवस्थाएं होती हैं।  –  4

यहा हमने

जीन पियाजे के संज्ञानात्मक सिद्धांत से संबंधित One-liner प्रश्न (Jean Piaget Theory One-liner Facts in Hindi)  का अध्ययन किया है इसी प्रकार की अन्य महत्वपूर्ण जानकारी प्राप्त करते रहने के लिए आप हमारी वैबसाइट को visit करते रहे। सरकारी नौकरियों से संबन्धित सभी नवीनतम जानकारी प्राप्त करने के लिए आप हमारे social media handle से जरूर जुड़े जिसकी लिंक नीचे दी गई है 

Also Read: पावलव,स्किनर,थॉर्नडाइक और कोहलर से सम्बंधित अति महत्वपूर्ण प्रश्न 

Get Latest Current affairs – Click here

To Know All Daily Events Click Here

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!