khan sir Lallantop Interview: लल्लन टॉप इंटरव्यू मे आए खान सर, बिहार की शिक्षा व्यवस्था पर बोले ये बात

Advertisement

Khan Sir Lallantop Interview : खान सर को तो आप सभी जानते ही होंगे । उनके देश मे 1 करोड़ से ज्यादा फैंस है वे अपने अलग अन्दाज़ में पढ़ाने के लिए जाने जाते है। हाल ही में पोपुलर लल्लन टॉप यूट्यूब चैनल पर खान सर ने बताया कि केसे उन्होंने अपनी कोचिंग संस्थान कई शुरुआत की तथा उनके संस्थान मे क्यों हुआ था हमला, इसके अलावा इंटरवीयू मे उन्होंने सोशल मीडिया मे फैंस द्वारा कई सवालों के जबाव भी दिए।

आपके बता दें कि खान सर का यूट्यूब चैनल है जो कि देश का नंबर 1 एजुकेशनल चैनल है, यूट्यूब पर उनके 18 मिलियन के करीब सब्सक्राइबर्स है। उनका एक कोचिंग संस्थान भी है हर छात्र उनसे ही पढ़ने के लिए हमेशा उत्सुक रहते है क्योंकि वे छात्रों को बहुत कम फीस मे पढ़ाते है।

बिहार की शिक्षा व्यवस्था पर खान सर ने कही ये बड़ी बात-

खान सर ने बिहार की शिक्षा व्यवस्था की आलोचना करते हुए कहा कि अगर इंसान को अपनी जिंदगी बर्बाद करनी है तो जरूरी नहीं कि आप सिर्फ दिल लगाए, वल्कि बिहार मे आकर ग्रेजुएशन भी कर सकते है। दोनों से आप सामान्य रूप से बर्बाद हो जाते है। उन्होंने कहा कि एक शिक्षक होने के नाते वे बिहार के भागहलपुर यूनिवर्सिटी, वीर कुवर यूनिवर्सिटी जैसे विद्यालयों के लिए रीस्पेक्ट की फीलिंग ही नहीं आती है। वे कहते है कि विहार के कॉलेजो बड़ी संख्या मे शिक्षकों की कुर्सिया खाली है। 

Advertisement

इस वजह से हुआ उनकी कोचिंग संस्थान मे हमला 

खान सर का मकसद था कि गरीब से गरीब लड़का पढ़ाई करें, इसलिए उन्होंने गरीबों के लिए अपना कोचिंग संस्थान बहुत ही काम फीस के रूप मे प्रारंभ किया। वे बोले इसी सिलसिले मे उनकी कोचिंग के वह पर बम फोड़ दिया, जब वे पढ़ रहे थे उनके कोचिंग मे बहुत सारे लड़के थे उनको कुछ समझ नहीं आया अचानक से बाहर लगातार बम गिरने लगे। सारे कोचिंग बाले डरके भागने लगे। एक बम तो खान सर के पैरों के नीचे या गया लेकिन वो फूटा नहीं। इस पर खान सर अपने फनी अंदाज मे बोलते है कि बम को पता था कि टीचर की इज्जत करनी चाहिए।

लल्लन टॉप इंटरव्यू में खान सर से कई सवाल पूछे गए जिनका जबाब उन्होंने अपने ख़ास अन्दाज़ में दिया-

प्रश्न- छात्र अपने स्कूल कॉलेज के बाद खान सर के पास पढ़ने क्यों जा रहा है?

जबाब- खान सर कहते है कि स्कूल कॉलेज खत्म होने के बाद युवा हमारे पास इसीलिए आ रहे है क्योंकि जितना नॉलेज उनको स्कूल कॉलेज में मिलना चाहिए वहा नही मिलता है, और दूसरा कारण यह है कि पटना यूनिवर्सिटी मे 50 फीसदी टीचर की शीट खाली है।

प्रश्न- कोचिंग का नाम खान सर ही क्यों रखा गया। 

जबाव- खान सर ने जबाब देते हुए कहा कि इंसान जब किसी चीज का नाम रखता है तो उसे नहीं पता होता है कि क्या नाम रखना है, कुछ भी नाम रख सकते है। 

प्रश्न- आप शादी कब करेंगे। 

जबाब- इस सवाल का जवाब बड़ी गंभीरता से देते हुए कहते है कि न जाने किसने ये तोहफें लेने और देने का दस्तूर शुरू किया है, वे कहते है कि अमीरी ने इस एक ऐसा आडंबर रचा है जिससे कि गरीबों का जीना हराम हो गया है। वो अपनी बच्ची की पढ़ाई का पैसा दिखाबट और स्टेज,प्रोग्राम मे खर्च कर देता है, इस बात पर हमे ध्यान देना चाहिए कि आप अपने पैसों को खर्च कीजिये, लेकिन उस पैसों के जरिए किसी गरीब का जीना हराम कर देंगे ये अधिकार किसी ने नहीं दिया है। 

प्रश्न- क्या आपने अपने छात्रों को कभी पीटा है। 

जबाव- खान सर मज़ाक़िया अन्दाज़ में कहते है, हाँ मे तो बहुत बढ़िया से पीटता हूँ और वो भी पुलिस वाले डंडे से। एक बच्चे को पीटा था तो उसकी तबीयत खराब हो गई थी। रिपोर्टर उनसे बीच मे कहते है कि स्कूलों मे बच्चों को पीटना नहीं चाहिए। इस पर उन्होंने कहा कि छोटे बच्चे को नहीं पीटा जाता है हमारे पास तो बड़े-बड़े लड़के पढ़ने आते है।  

Read More:

Success Story: अपनी बड़ी बहन से प्रेरित होकर रिया डाबी ने उत्तीर्ण की यूपीएससी की परीक्षा , जाने उनकी जीवनी

Success Story: यूपीएससी की परीक्षा मे पहली ही कोशिश मे दूसरी रैंक लाने वाली आईएएस रेनू की कहानी सुनिए, यहा

Advertisement

Advertisement

Leave a Comment