Connect with us

CTET

CTET Maths Pedagogy: कुछ ही दिनों बाद आयोजित होने वाली सीटेट परीक्षा के लिए महत्वपूर्ण है ‘गणित पेडागोजी’ के यह 15 सवाल!

Published

on

Advertisement

CTET Math Pedagogy Model MCQ: सीटेट परीक्षा 2022, सीबीएसई द्वारा दिसंबर से कई चरणों में आयोजित कराई जाएगी। आवेदन की प्रक्रिया अभी जारी है, अभ्यर्थियों के पास आवेदन करने के लिए 5 दिन का समय  शेष बचा हुआ है अतः शीघ्र ही अपना आवेदन करे। टीचिंग के क्षेत्र में करियर बनाने की इच्छा रखने वाले अभ्यर्थियों के लिए यहां हमने गणित शिक्षा शास्त्र से पूछे जाने वाले अत्यंत महत्वपूर्ण सवालों को शेयर किया है,  जिन्हें आप अपनी बेहतर तैयारी हेतु परीक्षा हॉल में जाने से पूर्व एक नजर अवश्य पढ़ लेवे। 

बता दे सीबीएससी में परीक्षा की तिथि अभी घोषित नहीं की है संभावना कि 15 दिसंबर से परीक्षा आयोजित की जा सकती है। इसके लिए आवेदन की प्रक्रिया की शुरुआत 31 अक्टूबर से की गई, जो कि 24 नवंबर 2022 तक चलेगी।

केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा में पूछे जा सकते हैं गणित शिक्षण शास्त्र के यह प्रश्न—CTET Maths Pedagogy Important Questions

1. Which of the following is the most appropriate example of a constructivist mathematics classroom? / निम्नलिखित में से कौन-सा एक रचनात्मक’ गणित की कक्षा का अति उपयुक्त उदाहरण है?

Advertisement

1. Teacher is going to every student and helps him/her to use the algorithm to solve the problem / शिक्षक प्रत्येक विद्यार्थी के पास जाकर कलनविधि के उपयोग से समस्या को हल करने में उसकी सहायता कर रहा है।

2. Teacher is solving the question on the blackboard / शिक्षक श्यामपट्ट पर प्रश्न को हल कर रहा है।

3. Students are engaged in exploration while finding a solution to a problem / एक समस्या के समाधान को खोजते समय विद्यार्थी अन्वेषण में व्यस्त (संलग्न) हैं।

4. Students are reciting tables collectively in a rhythm / विद्यार्थी सामूहिक रूप से पहाड़ों को एक लय में गा रहे हैं।

Ans- 3 

2. A fraction can be used in which of the following ways / भिन्न का उपयोग निम्नलिखित में से किन तरीकों से हो सकता है? 

a. To represent a part of a whole / एक पूर्ण के अंश को निरूपित करने के लिए।

b. To visualize a point on a number line of objects / संख्या रेखा पर एक बिंदु को अभिकल्पित करने के लिए

c. To represent a part of a collection / वस्तुओं के संग्रह के एक अंश को निरूपित करने के लिए।

d. To introduce a division problem / विभाजन पर आधारित समस्या के परिचय के लिए।

1. (a), (b) and (c)

2. (a) and (d)

3. (c) and (d)

4. (a), (b) and (d)

Ans- 1 

Advertisement

3. Which of the following is NOT an appropriate reason for fear of mathematics / निम्नलिखित में से कौन-सा गणित के प्रति भय का उपयुक्त कारण नहीं है?

1. Cumulative nature of mathematics / गणित की संचयी प्रकृति ।

2. Symbolic language of mathematics / गणित की प्रतीकात्मक भाषा।

3. Methods of assessment and language used in the textbook / आकलन की पद्धतियाँ एवं पाठ्यपुस्तक में उपयोग की गई गणित की भाषा। 

4. Mathematical Inabilities of learners / अधिगमकर्ताओं की गणितीय अक्षमताएँ |

Ans- 4 

4. Which of the following is NOT a process in Geometry / निम्नलिखित में से कौन-सी ज्यामिति में एक प्रक्रिया नहीं है?

1. Measurement / मापन

2. Representation / निरूपण

3. Procedural fluency / प्रक्रियात्मक प्रवाह

4. Reasoning and proof तार्किक क्षमता और उपपत्ति 

Ans- 3 

5. Which of the following statements is NOT appropriate with regard to the nature of mathematics / निम्नलिखित में से कौन-सा कथन गणित की प्रकृति के संदर्भ में उपयुक्त नहीं है?

1. It is hierarchical in nature / इसकी प्रकृति पदानुक्रमिक है।

2. Mathematical concepts are abstract in nature / गणितीय अवधारणाओं की प्रकृति अमूर्त होती है।

3. It is like science which is based on observation / यह विज्ञान की तरह है जोकि अवलोकन पर आधारित है। 

4. It reveals the hidden patterns / यह निहित प्रतिमानों को उजागर करता है

Ans- 3 

Advertisement

6. Which of the statements about mathematical games is/are correct / निम्नलिखित कथनों में से कौन-सा से कथन गणितीय खेलों के बारे में सही है?

(a) Mathematical games must be like open ended play / गणितीय खेलों को आम दिनचर्या वाले खेलों की तरह होना चाहिए। 

(b) Mathematical games provide non-didactic feedback to the child. / गणितीय खेल बच्चे को अनुपदेशात्मक प्रतिपुष्टि प्रदान करते हैं। 

(c) Mathematical games promote processes of anticipation and planning in children. / गणितीय खेल बच्चे में अनुमान पूर्वज्ञान और योजना तैयार करने को बढ़ावा देते हैं। 

1. (b) and (c)

2. (a) and (c)

3. only (a) 

4. (a) and (b)

Ans- 1 

7. Which of the following is the most appropriate example of mathematical modeling / निम्नलिखित में से कौन-सा गणितीय निदर्शन (मॉडलिंग) का अति उपयुक्त उदाहरण है?

1. Using a cartoon story in the mathematics classroom / गणित कक्षा में कार्टून वाली कहानी का उपयोग करना ।

2. Calculating the area of the rectangle by using the formula length x breadth. / लम्बाई × चौड़ाई सूत्र के उपयोग द्वारा आयत के क्षेत्रफल का परिकलन करना। 

3. Constructing a mathematical model for estimation of number of trees in a dense forest. / एक घने वन में वृक्षों की संख्या का अनुमान लगाने के लिए गणितीय निदर्श (मॉडल) का निर्माण करना ।

4. Using a concrete model to comprehend a mathematical concept / एक गणितीय अवधारणा को समझने के लिए मूर्त मॉडल का उपयोग करना

Ans- 3 

8. Which of the following is are NOT appropriate for enhancing the mathematics learning in primary grade students / निम्नलिखित में से कौन-सा से, प्राथमिक कक्षा के विद्यार्थियों में गणित अधिगम को प्रोत्साहित करने के लिए उपयुक्त नहीं है?

(a) Relate the concepts with their daily life experiences./ अवधारणाओं को उनके दैनिक जीवन के अनुभवों से जोड़ना।

(b) Focus on product rather than process / प्रक्रिया की बजाय उत्पाद पर बल देना।

Advertisement

(c) Using teaching aids to teach abstract concepts / शिक्षण सामग्रियों का उपयोग करके अमूर्त अवधारणाएं पढ़ाना

Ans- 4 

9. Which of the following is NOT a characteristic of geometrical reasoning levels as given by Van Hieles / निम्नलिखित में कौन-सा वैन हैले द्वारा दिए गए ज्यामितीय विवेचन के स्तरों की विशेषता का लक्षण नहीं है?

1. Experience-dependent / अनुभव आश्रित 

2. Developmental / विकासात्मक

3. Sequential / अनुक्रमिक

4. Age-dependent / आयु आश्रित

Ans- 4 

10. On seeing a samosa a child calls it as a triangle. According to Van Hieles theory of geometrical development, the child is at ————–  level of geometric reasoning / एक समोसे को देखकर, एक बच्चा उसे त्रिभुज कहता है। वैन-हैले के ज्यामितीय विकास के सिद्धांत के अनुसार, वह बच्चा ज्यामितीय विवेचन के ——– स्तर पर है।

1. Visualization / दृश्वीकरण

2. Relationships / संबंध पहचानना

3. Analysis / विश्लेषण

4. Deduction / निगमन

Ans- 1 

11. The phrase “Mathematics learning begins at home” means / सूक्ति “गणित अधिगम का प्रारंभ घर से होता है’ का अर्थ है

1. Parents are responsible for teaching mathematics to their children. / बच्चों को गणित पढ़ाने का उत्तरदायित्व अभिभावकों का है।

2. Plenty of learning resources are available at home and it’s environment which can be used effectively for learning mathematics / घर और वातावरण में प्रचुरता में संसाधन उपलब्ध होते हैं जिनका उपयोग गणित के अधिगम में प्रभावी ढंग से किया जा सकता है।

3. Homework is an important part of learning mathematics / गृहकार्य, गणित अधिगम का महत्वपूर्ण हिस्सा है।

Advertisement

4 Home tutors can help learners to enhance mathematical skills / अधिगमकर्ताओं के गणितीय कौशलों में वृद्धि के लिए घर में निजी शिक्षक सहायता कर सकते हैं। 

Ans- 2 

12. Which of the following is/are important processes in geometry? / निम्नलिखित में से कौन-सी ज्यामिति की महत्वपूर्ण प्रक्रिया(एँ) हैं हैं)?

(a) Visualization / दृश्यीकरण

(b) Transposition / पक्षांतरण

(c) Transformation / रूपांतर

Ans- 1 

13. Which among the following is/are correct / निम्न में से कौन-सा से सही है हैं?

a: Development of mental computation skill among primary school children needs to be encouraged. / प्राथमिक कक्षा के छात्रों में मानसिक परिकलन कौशल के विकास को प्रोत्साहन दिया जाना चाहिए।

b: The only way to improve the mental computation skill is through drill and practice / केवल ड्रिल और अभ्यास के द्वारा मानसिक परिकलन कौशल को सुधारा जा सकता है। 

c: Mental computation skill encourages the use of formal and informal strategies to solve a problem ‘/ मानसिक परिकलन कौशल, प्रश्न को हल करने के लिए औपचारिक और अनौपचारिक रणनीतियों के प्रयोग को प्रोत्साहित करता है।

Ans- 1 

14. According to National Curriculum Framework 2005, which of the following aims of teaching mathematics is least appropriate for primary classes / राष्ट्रीय पाठ्यचर्या रूपरेखा 2005 के अनुसार, निम्नलिखित में से कौन सा गणित शिक्षण का उद्देश्य, प्राथमिक कक्षाओं के लिए न्यूनर उपयुक्त है? 

1. Enhancing spatial understanding / दिक्स्थान संबंधित समझ में वृद्धि करना।

2. Nurturing interest in mathematics / गणित के प्रति रुचि को पोषित करना। 

3. Connecting real life experiences to mathematics / वास्तविक जीवन के अनुभवों को गणित से जोड़ना।

4. Developing expertise of algebraic thinking / बीजीय चिंतन की कुशलता को विकसित करना।

Ans- 4 

Advertisement

15. Which of the following is/are most appropriate for games in the context of teaching-learning of mathematics / निम्नलिखित में से कौन-सा/से गणित के शिक्षण अधिगम के संदर्भ में खेलों के लिए अति उपयुक्त है हैं?

(a) We cannot perform assessment of a child while engaging in mathematical games / गणितीय खेलों में व्यस्त (संलग्न) होने के दौरान हम बच्चे का आकलन नहीं कर सकते हैं। 

(b) Mathematical games provide experiences of joyful learning in mathematics / गणितीय खेल, गणित में आनंदमयी अधिगम के अनुभवों को प्रदान करते हैं।

(c) Mathematical games are open-ended play Choose the correct option / . गणितीय खेल आम दिनचर्या वाले खेल होते हैं।

Ans- 2 

Read More:-

CTET 2022: ‘अनुवांशिकता और पर्यावरण’ पर आधारित 1 से 2 सवाल जरूर पूछे जाएंगे परीक्षा में अभी पढ़े!.

CTET 2022: सीटेट परीक्षा में  उच्चतम अंक हासिल करने मे ‘गणित पेडागोजी’ के यह सवाल आपके लिए सहयोगी सिद्ध होंगे, अवश्य पढ़ें!

यहां पर हमने दिसंबर में आयोजित होने वाली केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा के लिए ‘गणित पेडागोजी’ से संबंधित महत्वपूर्ण सवालों (CTET Math Pedagogy Model MCQ) का अध्ययन किया। केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा (CTET) से जुड़ी नवीनतम अपडेट और प्रैक्टिस सेट प्राप्त करने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल के सदस्य बने, जॉइन लिंक नीचे दी गई है

Advertisement

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

CTET

UP Teacher Vacancy 2023: योगी सरकार का तोहफा, 51 हजार शिक्षक भर्ती जल्द, CTET-UPTET क्वालीफाई को मिलेगी एंट्री

Published

on

By

Advertisement

UP Shikshak Bharti 2023 (UPDATED): उत्तर प्रदेश में लंबे समय से शिक्षक भर्ती परीक्षा का इंतजार कर रहे अभ्यर्थियों के लिए अच्छी खबर है. उत्तर प्रदेश बेसिक शिक्षा परिषद (UPBEB) जल्द ही शिक्षक के 51 हजार से अधिक रिक्त पदों पर बंपर भर्ती निकालने वाला है. नवभारत टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक लोकसभा चुनाव से पहले योगी सरकार प्रदेश में  माध्यमिक व राजकीय विद्यालयों में रिक्त शिक्षकों के पदों पर भर्ती करने जा रही है.

इतने पदों पर होगी भर्ती

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक बेसिक शिक्षा विभाग में टीजीटी/ पीजीटी शिक्षकों के लगभग 51 हजार से अधिक पद रिक्त हैं, इसके अलावा राजकीय विद्यालयों में शिक्षकों के 7 हजार 471 पद रिक्त हैं. तो वही बात करें प्रवक्ता तथा सहायक अध्यापकों के पदों कि तो बताया जा रहा है प्रवक्ता के 2115 जबकि सहायक अध्यापक के 5256 पद खाली हैं जिनपर भर्ती की जानी है.

CTET-UPTET पास कर सकेंगें आवेदन

Advertisement

उत्तर प्रदेश के प्राइमरी तथा अपर प्राइमरी सरकारी स्कूलों में शिक्षकों की भर्ती सुपर टेट परीक्षा (SUPER TET) के माध्यम से की जाती है, जिसका आयोजन उत्तर प्रदेश बेसिक एजुकेशन बोर्ड द्वारा किया जाता है. सुपर टेट परीक्षा में केवल वे अभ्यर्थी ही शामिल हो सकते हैं जिन्होंने यूपी टेट परीक्षा (Uttar Pradesh Teacher Eligibility TestUPTET) पास की हो.  बहुत से अभ्यर्थियों के मन में यह सवाल भी रहता है कि क्या सीटेट परीक्षा क्वालीफाई अभ्यर्थी यूपी शिक्षक भर्ती परीक्षा में शामिल हो सकते हैं? 

आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश शिक्षक भर्ती परीक्षा यानी सुपर टेट में शामिल होने के लिए उम्मीदवार को किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से स्नातक डिग्री तथा टीचिंग ट्रेनिंग कोर्स (D.El.Ed, BTC, B.Ed. आदि) पास किया होना चाहिए साथ ही UPBEB द्वारा आयोजित यूपी टेट परीक्षा पास होना जरूरी है. इसके अलावा पेपर -1 के लिए सीटेट पास अभ्यर्थी भी सुपर टेट परीक्षा देने के पात्र होते हैं. 

यदि बात करें आयु सीमा की तो न्यूनतम 21 वर्ष से लेकर अधिकतम 40 वर्ष की आयु वाले अभ्यर्थी सुपर टेट परीक्षा के लिए आवेदन कर सकते हैं हालांकि उत्तर प्रदेश के मूल निवासी अभ्यर्थियों को कैटेगरी वाइज अधिकतम आयु में छूट का प्रावधान है अधिक जानकारी के लिए आधिकारिक नोटिफिकेशन पढ़ें.

इच्छुक उम्मीदवार आधिकारिक वेबसाइट ctet.nic.in पर जाकर अपना आवेदन सबमिट कर सकते हैं. सीटेट परीक्षा पास करने पर उम्मीदवार सुपर टेट के साथ ही केंद्र सरकार द्वारा संचालित केंद्रीय विद्यालय, नवोदय विद्यालय तथा आर्मी पब्लिक स्कूल आदि में निकलने वाली शिक्षकों की भर्ती में भी शामिल हो सकते हैं.

कब आएगा यूपीटीईटी नोटिफ़िकेशन? (UPTET 2023 Notification Update)

उत्तर प्रदेश में शिक्षक बनने की चाह रखने वाले लाखों अभ्यर्थी उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा यानी यूपीटीईटी के नोटिफिकेशन का इंतजार कर रहे हैं नवीनतम मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक यूपीटीईटी परीक्षा का नोटिफिकेशन फ़रवरी 2023 के अंतिम सप्ताह या मार्च के पहले सप्ताह तक जारी किया जा सकता है। नोटिफिकेशन जारी होने के बाद अभ्यर्थी आधिकारिक वेबसाइट updeled.gov.in पर जाकर आवेदन कर पाएंगे. जिसके बाद अप्रैल महीने में ऑनलाइन मोड में UPTET परीक्षा आयोजित की जाएगी.

अधिक जानकारी के लिए अभ्यर्थी लगातार शिक्षा विभाग की वेबसाइट पर विजिट करते रहें बता दें कि यूपीटीईटी परीक्षा में शामिल होने के लिए अभ्यर्थी की उम्र 18 साल या उससे अधिक होनी चाहिए इसके साथ ही बैचलर डिग्री या समकक्ष डिप्लोमा होना जरूरी है।

Read More:

CTET Exam 2023: ‘अल्बर्ट बंडूरा के सिद्धांत’ से जुड़े कुछ ऐसे सवाल ही पूछे जा रहे हैं सीटेट परीक्षा की सभी शिफ्टों में

Advertisement

Continue Reading

CTET

CTET Answer Key 2023: शिक्षक पात्रता परीक्षा की आंसर की करें डाउनलोड, जानें कब तक आयेगा परीक्षा परिणाम 

Published

on

By

Advertisement

CTET Answer Key 2023: केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड याने CBSE द्वारा आयोजित की जाने वाली CTET परीक्षा आज 7 फ़रवरी को पूरी हो चुकी है, यह परीक्षा 28 दिसंबर अग़ल-अलग दिन दो शिफ्ट में आयोजित की जा रही है जिसमें शिक्षक बनने की चाह रखने वाले लाखों अभ्यर्थी शामिल हुए है। अब परीक्षा की समाप्ति के बाद अभ्यर्थी अपनी आंसर की जारी होने का इंतज़ार कर रहे है, बता दें कि परीक्षा समाप्ति के कुछ दिन के भीतर ही CBSE द्वारा आंसर की जारी कर दी जाती है।

इस दिन जारी होगी आंसर की 

CTET परीक्षा में शामिल हुए अभ्यर्थियों का इंतज़ार जल्द ही ख़त्म होने वाला है मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक़ CBSE द्वारा 11 फ़रवरी 2023 को आधिकारिक वेबसाइट ctet.nic.in पर CTET पेपर 1 तथा पेपर 2 की आंसर की जारी कर दी जाएगी। इसके बाद मार्च माह में फाइनल आंसर-की तथा परीक्षा परिणाम जारी किया जा सकता है।

बता दें आंसर की लिंक ऐक्टिव होने के बाद उम्मीदवार अपने रजिस्ट्रेशन नंबर तथा जन्म तारीख़ की सहायता से आधिकारिक वेबसाइट पर लॉगिन कर अपनी उत्तर कुंजी डाउनलोड कर पाएँगें।

Advertisement

परीक्षा में लागू होगा नॉर्मलिज़ेशन

सीबीएसई द्वारा दिसंबर 2021 में पहली बार CTET परीक्षा ऑनलाइन आयोजित की गई थी, तथा इस बार भी यह परीक्षा ऑनलाइन ही आयोजित हुई है। चुकी परीक्षा का आयोजन अलग- अगल दिन कई शिफ़्टों में किया गया है लिहाज़ा परीक्षार्थियों के मध्य समान प्रतिस्पर्द्धा क़ायम रखने के लिए नॉर्मलिज़ेशन व्यवस्था को लागू किया गया है। बता दें कि परीक्षा में नॉर्मलिज़ेशन होने की जानकारी CBSE द्वारा नोटिफिकेशन जारी कर पहले ही दे दी गई थी। 

CTET Exam Cut Off 2023

सीटीएटी परीक्षा में कैटेगरी वाइज कटऑफ़ निर्धारित किया गया है। पेपर 1 तथा पेपर 2 के लिए कट ऑफ अंक समान है। सामान्य वर्ग के अभ्यर्थी को इस परीक्षा में पास होने के लिए 60 प्रतिशत अंक याने 150 नंबर के पेपर में 90 अंक लाना होगा, जबकि आरक्षित वर्ग के अभ्यर्थियों को 55 प्रतिशत अंक यानें 150 अंक के पेपर में 82 अंक लाना होगा।

CategoryMinimum qualifying percentageMinimum qualifying Marks
Schedule Caste (SC)55%82 out of 150
Schedule Tribe (ST)55%82 out of 150

CTET Exam 2023 Important FAQs

क्या सीटीईटी परीक्षा में नेगेटिव मार्किंग होती है?

नहीं, CBSE द्वारा आयोजित सीटीईटी परीक्षा में किसी भी प्रकार की नकारात्मक मार्किंग नहीं की जाती है।

सीटीईटी सर्टिफिकेट की वैद्यता कितने वर्ष होती है?

आजीवन, CTET परीक्षा पास करने वालों अभ्यर्थियों को मिलने वाले सर्टिफिकेट की वैद्यता लाइफ टाइम कर दी गई है जो पहले 7 वर्ष थी।

सीटीईटी परीक्षा में शामिल होने के लिए आयु सीमा क्या है?

इस परीक्षा में शामिल होने के लिए अधिकतम उम्र सीमा निर्धारत नहीं है, हालाकि न्यूनतम आयु 18 वर्ष होना चाहिए।

सीटीईटी परीक्षा कितने बार दे सकते है?

उम्मीदवार जीतने बार चाहे उतने बार सीटीईटी परीक्षा में शामिल हो सकते है, जो अभ्यर्थी इस परीक्षा में पास हो चुके है वे अपने स्कोर को सुधार के लिए दुबारा परीक्षा दे सकते है।

Advertisement

Continue Reading

CTET

CTET 2022-23: लेव वाइगोत्सकी के सिद्धांत से परीक्षा में पूछे जा रहे है ये सवाल, अभी पढ़ें

Published

on

Lev Vygotsky's Theories Based MCQ For CTET
Advertisement

Lev Vygotsky’s Theories Based MCQ For CTET: शिक्षक बनने के लिए जरूरी सीटेट यानी केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा का आयोजन 7 फरवरी 2023 तक ऑनलाइन सीबीटी मोड में किया  जा रहा है.  यह परीक्षा 29 दिसंबर 2023 से शुरू हुई थी तथा अब 3, 4, 6  तथा 7 फरवरी को परीक्षा का आयोजन होना बाकी है.  यदि आप भी आगामी सीटेट परीक्षा में शामिल होने जा रहे हैं तो इस आर्टिकल में दी गई जानकारी आपके लिए बेहद महत्वपूर्ण हैं.

यहां पर हम नियमित रूप से सीटेट परीक्षा के लिए प्रैक्टिस सेट शेयर करते रहे हैं। इसी श्रृंखला में आज हम लेव वाइगोत्सकी के सिद्धांत पर आधारित कुछ ऐसे सवाल लेकर आए हैं, जो की परीक्षा में पूछे जा सकते हैं। तो लिए जाने इन महत्वपूर्ण सवालों को जो की इस प्रकार हैं।

Read More: CTET 2023: हर शिफ्ट में पूछे जा रहे है ‘जीन पियाजे’ के सिध्दांत से ये सवाल, इन्हें पढ़ कर पक्के करे नंबर

Advertisement

 लेव वाइगोत्सकी के सिद्धांत से जुड़े संभावित प्रश्न—CTET Exam Lev Vygotsky’s Theories Related Questions

1. लेव वाइगोत्स्की के अनुसार, निम्न में से किसके लिए “समीपस्थ विकास क्षेत्र” का इस्तेमाल करना चाहिए?

1. अध्यापन और मूल्याँकन

2. केवल अध्यापन

3. केवल मूल्यांकन

4. प्रवाही बौद्धिकता की पहचान

Ans- 1 

2. एक विशिष्ट संप्रत्यय को पढ़ाने हेतु एक अध्यापिका बच्चे को आधा हल किया हुआ उदाहरण देती है। लेव वायगोत्सकी के अनुसार अध्यापिका किस रणनीति का इस्तेमाल कर रही है?

1. अवलोकन अधिगम

2. पाड़

3. द्वंद्वात्मक अधिगम

4. अनुकूलन

Ans- 2 

3. ‘समीपस्थ विकास के क्षेत्र का संप्रत्यय किसने प्रतिपादित किया है?

1. जेरोम ब्रूनर

2. डेविड ऑसबेल

Advertisement

3. रोबर्ट एम. गायने

4 लेव व्यागोत्सकी

Ans- 4

4. रश्मि अपनी कक्षा में विद्यार्थियों के सीखने की क्षमता को ध्यान में रखकर विभिन्न प्रकार के कार्यकलापों का उपयोग करती है और सहपाठियों द्वारा अधिगम को बढ़ावा देने के लिए समूह भी बनाती है। निम्नलिखित में से कौन-सा इसका समर्थन करता है?

1. सिग्मंड फ्रॉयड का मनो यौनिक सिद्धांत

2. लेव वायगोत्सकी का सामाजिक सांस्कृतिक सिद्धांत

3. लॉरेंस कोहलबर्ग का नैतिक विकास का सिद्धांत

4. बी. एफ. स्किनर का व्यवहारवादी सिद्धांत

Ans- 2 

5. वायोगात्सकी के सिद्धांत के अनुसार ‘निजी संवाद’ 

1. बच्चों के आत्मकेंद्रीयता का घोतक है।

2. बच्चों के क्रियाकलापों और व्यवहार का अवरोधक है।

3. जटिल कार्य करते समय बच्चे को उसके व्यवहार संचालन में सहायता देता है।

4. यह संकेत देता है कि संज्ञान कभी भी आंतरिक नहीं होता।

Ans- 3 

6. कौन सा कथन लेव व्यागोत्सकी के मूल सिद्धांत को सही मायने में दर्शाता है?

1. अधिगम एक अन्तमन प्रक्रिया है।

2. अधिगम एक सामाजिक क्रिया है।

Advertisement

3. अधिगम उत्पतिमूलक क्रमादेश है। 

4. अधिगम एक अक्रमबद्ध प्रक्रिया है जिसके चार चरण है।

Ans- 2 

7. इनमें से कौन-सा अध्यापक द्वारा पाड़ का उदाहरण नहीं है?

1. अनुकरण के लिए कौशलों का प्रदर्शन करना

2. रटना

3. इशारे एवं संकेत

4. सहपाठियों संग साझा शिक्षण

Ans- 2 

8. लेव वायगोत्सकी के संज्ञानात्मक विकास के सिद्धांत को ……….. कहा जाता है क्योंकि वे तर्क देते हैं कि बच्चों का सीखना संदर्भ में होता है।

1. मनोगतिशील

2. मनोलैंगिक

3. सामाजिक सांस्कृतिक

4. व्यवहारात्मक

Ans- 3 

9. जब कोई अध्यापिका किसी विद्यार्थी को उसके विकास के निकटस्थ क्षेत्र पर पहुंचाने के लिए सहायता को उसके निष्पादन के वर्तमान स्तर के अनुरूप है, तो अध्यापिका किस नीति का प्रयोग कर रही है। कर रही है।

1. सहयोगात्मक अधिगम का प्रयोग

2. अंतर पक्षता का प्रदर्शन

Advertisement

3. पाड़

4. विद्यार्थी में संज्ञानात्मक द्वंद पैदा करना

Ans- 3

10. लेव वायगोत्सकी द्वारा दिए बच्चों के विकास का सिद्धांत किस पर आधारित है ?

1. भाषा और संस्कृति

2. भाषा और परिपक्वता

3. भाषा और भौतिक जगत

4. परिपक्वता और संस्कृति

Ans- 1

11.समीपस्थ विकास के क्षेत्र’ की संरचना किसने प्रतिपादित की थी?

1. लॉरेंस कोहल

2. लेव वायगोत्स्की

3. ज़ोरोंन ब्रूनर

4. जीन पियाजे

Ans- 2 

12. निम्न में से कौन-सा कथन बच्चों के संज्ञानात्मक विकास के विषय में जीन पियाजे और लेव वायगोत्सकी के विचारों के बीच मुख्य अंतर दर्शाता है?

1. पियाजे बच्चों के स्वतंत्र प्रयासों द्वारा जगत को अनुभव करने पर जोर देते हैं, जबकि वायगोत्स्की संज्ञानात्मक विकास को सामाजिक मध्यस्थ प्रक्रिया के रूप में देखते हैं। 

2. पियाजे बच्चों को सक्रिय स्वतंत्र जीव के रूप में देखते हैं, जबकि वायगोत्स्की उन्हें मुख्यतः वातावरण द्वारा नियंत्रित जीव के रूप में देखते हैं।

Advertisement

3. पियाजे भाषा को बच्चों के संज्ञानात्मक विकास के लिए महत्वपूर्ण मानते हैं, जबकि विकास पर बल देते हैं।

4. पियाजे के अनुसार बच्चे अपने मार्गदर्शन के लिए स्वयं से बात कर सकते हैं, जबकि वायगोत्सकी के लिए बच्चों की बात आत्मकेन्द्रीयता का द्योतक है।

Ans- 1 

13. एक अध्यापिका शिक्षण-अधिगम प्रक्रिया में विद्यार्थियों को सहपाठियों से अंतः क्रिया कराकर एवं सहारा देकर अध्यापन करती है। यह शिक्षण अधिगम की प्रक्रिया किस पर आधारित है ?

1. लॉरेंस कोहलबर्ग के नैतिक विकास सिद्धांत पर 

2. जीन पियाजे के संज्ञानात्मक विकास सिद्धांत पर

3. लेव वायगोत्स्की के सामाजिक-सांस्कृतिक सिद्धांत पर

4. हावर्ड गार्डनर के बहुआयामी बुद्धि सिद्धांत पर

Ans- 3 

14. वायगोत्स्की के सिद्धान्त के अनुसार ‘सहायक खोज’ किस में सहायक है।

1. संज्ञानात्मक द्वंद्व

2. उत्प्रेरक-प्रतिक्रिया सहचर्य

3. पुनर्बलन

4. सहपाठी- सहयोग

Ans- 4 

15. कक्षा में विद्यार्थियों को त्यौहारों को मनाने के अपने अनुभवों को साझा करने के देना और उसके आधार पर सूचना निर्मित करने को बढ़ावा देना किसका उदाहरण है। ?

1. व्यवहारवाद

2. पाठ्यपुस्तक आधारित अध्यापन

Advertisement

3. सामाजिक संरचनावाद

4. प्रत्यक्ष निर्देशन

Ans- 3

ये भी पढे:-

CTET 2022: सीटेट परीक्षा के लिए बुद्धि परीक्षण पर आधारित इन सवालों से करे अपनी अंतिम तैयारी!

CTET 2022: हिन्दी भाषा शिक्षण के इन सवालों से करे अपनी बेहतर तैयारी

Advertisement

Continue Reading

Trending