Connect with us

CTET

CTET 2022: 28 दिसंबर से शुरू हुई सीटेट परीक्षा में पूछे जा रहे है ‘जीन पियाजे’ के सिद्धांत से जुड़े ऐसे प्रश्न!

Published

on

Psychology MCQ on Jean Piaget Theory For CTET
Advertisement

Jean Piaget Revision MCQ For CTET: सीबीएसई (CBSE) के द्वारा सीटेट परीक्षा के 16 वे संस्करण का आयोजन देशभर के विभिन्न परीक्षा केंद्रों पर ऑनलाइन बोर्ड में 28 दिसंबर 2022 से 7 फरवरी 2023 तक किया जाएगा। इस परीक्षा में क्वालीफाई अभ्यर्थी देशभर के केंद्रीय विद्यालय नवोदय विद्यालय एवं सैनिक स्कूलों सहित तमाम सरकारी विद्यालयों में होने वाली शिक्षकों की नियुक्ति प्रक्रिया में आवेदन करने के पात्र होंगे हैं।

अगर आप भी सीटेट परीक्षा में शामिल होने जा रहे हैं , तो इस आर्टिकल में हम आपके लिए जीन पियाजे के सिद्धांत पर आधारित परीक्षा में पूछे जाने वाले संभावित प्रश्न लेकर आए हैं। इस टॉपिक से परीक्षा में एक से दो प्रश्न पूछे जा रहे हैं , ऐसे में अभ्यर्थियों को इन प्रश्नों का अध्ययन एक बार अवश्य कर लेना चाहिए। जिससे कि परीक्षा में अच्छे अंकों के साथ सफलता प्राप्त हो सके।

जीन पियाजे के सिद्धांत पर आधारित महत्वपूर्ण प्रश्न

1. As per Jean Piaget’s ideas on language and thought, which of the following statements is true?/भाषा एवं चिंतन के सन्दर्भ में जीन पियाजे के अनुसार निम्न में से कौनसा कथन सही है ?

Advertisement

(a) Thought determines language/चिंतन भाषा का निर्धारण करता है ।

(b) Language determines thought/भाषा चिंतन का निर्धारण करता है । 

(c) Language and thoughts are independents processes/भाषा और चिंतन दोनों स्वतंत्र प्रक्रिया हैं ।

(d) Language and thoughts are innate proposition/भाषा और चिंतन दोनों आंतरिक प्रवितियाँ हैं।

Ans-  a 

2. Two glasses hold the same amount of water yet Anu thinks that the taller glass holds more water than the “wider but shorter’ glass. According to Jean Piaget, this reasoning of Anu is due to -/दो गिलासों में समान मात्रा में जल है परन्तु अनु सोचती है कि लम्बे गिलास में ‘छोटे और चौड़े’ गिलास से अधिक जल है। जीन पियाजे के अनुसार, अनु की सोच का आधार क्या है ?

(a) Centration/केन्द्रीयता

(b) Seriation/क्रमबद्धता

(c) Conservation/संरक्षणता

(d) Maturation/परिपक्वता

Ans- a 

3. Reversibility – the ability to reverse actions is a basic accomplishment of which stage as given in the Piagetian theory of Cognitive development?/पियाजे के संज्ञानात्मक विकास सिद्धांत के अनुसार, प्रतिवर्तीयता – किसी क्रिया को उलटे क्रम में कर पाना किस चरण की बुनियादी उपलब्धि है ?

(a) Sensorimotor/संवेदीगामक चरण

(b) Pre operational/पूर्व संक्रियात्मक चरण 

(c) Concrete operational/मूर्त संक्रियात्मक चरण

Advertisement

(d) Formal operationa/औपचारिक संक्रियात्मक चरणl

Ans- c 

4. Seriation in Jean’s Piaget’s theory refers to-/जीन पियाजे के सिद्धांत में ‘क्रमबद्धता’ किस सन्दर्भ में प्रयोग हुआ है-

(a) The ability to order objects based on one dimension, for example ‘length’./वस्तुओं को किसी एक आयाम जैसे- ‘लंबाई’ पर आधारित क्रम देना। 

(b) The ability to take the perspective of others./दूसरों का परिपेक्ष लेने की क्षमता

(c) A narrative form of thinking as used in story telling./चिंतन का वर्णनात्मक रूप, जैसा कहानी कथन में होता है।

(d) The ability to spatially map places, like ones’ school./स्थानों, जैसे अपने विद्यालय का स्थानकीय मानचित्रण करने की क्षमता

Ans- a 

5. Pushpa, a 5 year old is certain that rolling out a ball of clay into a snake creates more clay. According to Jean Piaget what is the reasoning behind her thinking?/पांच वर्षीय Pushpa को वह लगता है कि चिकनी मिट्टी के गोले को यदि दबा कर एक साथ के रुप में परिवर्तित करें तो चिकनी मिट्टी बढ़ जाती है। जीन पियाजे के अनुसार उनकी इस सोच के पीछे कौनसा तर्क है?

(a) Animistic thinking:/जीववाद

(b) Centration/केन्द्रीयता

(c) Hypothetic deductive reasoning./परिकल्पित निगमनात्मक

(d) Transitive inference/संक्रमक परिणाम निकलना

Ans- b 

6. In a socio- constructivist classroom/एक सामाजिक – रचनात्मकता कक्षा में –

(a) Learning is decontextualized/सीखना गैर प्रासंगिक है

(b) Teachers are in total control of the classroom./शिक्षक कक्षा और विद्यार्थी के सीखने पर पूर्ण नियंत्रण रखते हैं

(c) Students construct knowledge by interacting with each other and the teachers./विद्यार्थी एक- दूसरे और शिक्षकों के साथ बातचीत करके ज्ञान का निर्माण करते हैं

Advertisement

(d) Assessment  is summative and standardized./आकलन योगात्मक और मानकीकृत

Ans- c 

7. Which of the following statements is NOT correct in the context of alternative conceptions of children?/बच्चों में वैकल्पिक अवधारणाओं के सन्दर्भ में कौनसा कथन सही नहीं है ?

(a) Children’s conceptions are based on their social and cultural experiences./बच्चों की अवधारणाएं उनके सामाजिक और सांस्कृतिक अनुभवों पर आधारित होती है

(b) Children are born to make sense of the world and they try to formulate reasons for phenomenon around them./बच्चों में दुनिया की समझ बनाने की क्षमता जन्मजात होती है और वे अपने आस पास की घटनाओं के कारण बनाने की कोशिश करते है

(c) Children are illogical, unintelligent and do not possess the capacity for meaning making./बच्चे तार्किक व बुद्धिमान नहीं होते और उनमें अर्थ बनाने की क्षमता नहीं होती

(d) It is important to understand children’s conceptions and build upon it./बच्चों की अवधारणाओं को समझकर उन पर निर्माण करना महत्वपूर्ण है

Ans- c 

8. In Jean Piaget’s theory of cognitive development, conservation is achieved by the child in the-/जीन पियाजे के संज्ञात्मक विकास केअनुसार बच्चे संरक्षण किस अवस्था में कर पाते हैं ? 

(a) Sensori – motor stage/सामवेदिक पेशीय अवस्था 

(b) Pre-operational stage/पूर्व संक्रियात्मक अवस्था 

(c) Concrete operational stage/मूर्त संक्रियात्मक अवस्था 

(d) Formal operational stage/अमूर्त संक्रियात्मक अवस्था

Ans- c 

9. For children who are in concrete operational stage teachers should NOT-/मूर्त संक्रियात्मक अवस्था के बच्चों को पढ़ते हुए एक शिक्षिका को क्या नहीं करना चाहिए? 

(a) Give opportunities for classification./वर्गीकरण के मौके देना 

(b) Give problems that require abstraction./ऐसी समस्याएँ देना जिनमें अमूर्तता की आवश्यकता हो 

(c) Give seriation tasks./क्रमिक करने के कार्य देना

Advertisement

(d) Give concrete resources./मूर्त संसाधन देना

Ans- b 

10. For children who are in concrete operational stage teachers should -/मूर्त-संक्रियात्मक अवस्था के बच्चों के लिए एक शिक्षिका को 

(a) Gove a lot of practice to deal with abstract concepts /अमूर्त संरचनाओं से सरोकार करने के लिए खूब अभ्यास करवाना चाहिए। 

(b) Provide opportunities to classify objects and ideas on increasingly complex levels/वस्तुओं और विचारों को जटिल से वर्गीकृत करने के मौके मौहया कराने चाहिए।

(c) Present problems that require higher order abstract thinking/ऐसी समस्याएँ देनी चाहिए जो उच्च-स्तरीय मूर्त सोच पर आधारित हों

(d) Give problems that require logical and scientific thinking/ऐसी समस्याएँ देनी चाहिए जो तर्कपूर्ण वैज्ञानिक समझ की

Ans- b 

11. According to Jean Piaget, at which stage of cognitive development does the child understand that symbols can be used to represent objects – ‘bicycle’ will generate an image even when absent ? /जीन पियाजे के संज्ञानात्मक विकास के किस चरण पर बच्चा समझ बना लेता है की प्रतीकों का इस्तेमाल वस्तुओं को प्रतिनिधित्त्व करने के लिए किया जा सकता है अगर बच्चे के सामने साइकिल नहीं है तब भी ‘साइकिल’ शब्द सुनकर उसके मस्तिष्क में एक प्रतिबिंब बन जाता है ?

(a) Pre-conventional Stage/पूर्व-परंपरागत अवस्था

(b) Pre-operational Stage/पूर्व संक्रियात्मक अवस्था

(c) Concrete operational Stage/मूर्त संक्रियात्मक अवस्था

(d) Formal operational Stage/अमूर्त संक्रियात्मक अवस्था

Ans- b 

12. Four distinct stages of children’s intellectual development are identified by/बच्चों के बौद्धिक विकास की चार विषिष्ट अवस्थाओं की पहचान की गई। 

(a) Skinner/स्किनर द्वारा

(b) Piaget/पियाजे द्वारा

(c) Kohlberg/कोहलबर्ग द्वारा  

Advertisement

(d) Erikson/एरिकसन द्वारा

Ans- b 

13. The stage in which a child begins to think logically about objects and events is known as/वह अवस्था जब बच्चा तार्किक रूप से वस्तुओं व घटनाओं के विषय में चिंतन प्रारंभ करता है,

(a) Pre-operational stage/पूर्व संक्रियात्मक अवस्था 

(b) Concrete operational stage/मूर्त-संक्रियात्मक अवस्था

(c) Sensori-motor stage/संवेदी-प्रेरक अवस्था 

(d) Formal operational stage/औपचारिक-संक्रियात्मक अवस्था

Ans- b 

14. According to Piaget, at which of the following stages does a child begin to think logically about abstract propositions?/पियाजे के अनुसार, निम्नलिखित में से कौन-सी अवस्था में बच्चा अमूर्त संकल्पनाओं के विषय में चिंतन करना आरंभ करता है ? 

(a) Sensori-motor stage (Birth-02 years )/संवेदी – प्रेरक अवस्था (जन्म से 2 वर्ष)

(b) Pre-operational stage (02-07 years/पूर्व-संक्रियात्मक अवस्था (02-07 वर्ष) 

(c) Concrete operational stage (07-11 years )/मूर्त-संक्रियात्मक अवस्था ( 07 – 11 वर्ष)

(d) Formal operational stage (11- years and up) /औपचारिक-संक्रियात्मक अवस्था ( 11 वर्ष)

Ans- d 

15. According to Piaget, during the first stage of development (birth to about 2 years age), a child learns best/पियाजे के अनुसार विकास की पहली अवस्था (जन्म से लगभग 2 वर्ष आयु) के दौरान बच्चा ………… सबसे बेहतर सीखता है।

(a) By using the senses/इंद्रियों के प्रयोग द्वारा

(b) By comprehending neutral words/निष्क्रिय शब्दों को समझने के द्वारा

(c) By thinking in an abstract fashion/अमूर्त तरीके के चिंतन द्वारा: 

Advertisement

(d) By applying newly acquired knowledge of language/भाषा के नए अर्जित ज्ञान के अनुप्रयोग द्वारा

Ans- a 

Read More:-

CTET EVS NCERT Question: एनसीईआरटी पाठ्यक्रम से जुड़े ऐसे सवाल जहां से सीटेट में 1 से 2 सवाल जरूर पूछे जाते हैं, अभी देखें

CTET 2022-23: सीटेट परीक्षा में पूछे जा सकते हैं ‘संस्कृत पेडागॉजी’ की कुछ ऐसे प्रश्न!

यहाँ हमने आगामी सीटीईटी परीक्षा की तैयारी कर रहे अभ्यर्थीयो के लिए ‘जीन पियाजे’ के सिद्धांत से जुड़े महत्वपूर्ण सवाल (Jean Piaget Revision MCQ For CTET) विषय के महत्वपूर्ण सवालों का अध्ययन किया है CTET सहित सभी शिक्षक पात्रता परीक्षा की बेहतर तैयारी के लिए आप हारे TELEGRAM CHANNEL के सदस्य जरूर बने Join Link नीचे दी गई है?

Advertisement

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

CTET

UP Teacher Vacancy 2023: योगी सरकार का तोहफा, 51 हजार शिक्षक भर्ती जल्द, CTET-UPTET क्वालीफाई को मिलेगी एंट्री

Published

on

By

Advertisement

UP Shikshak Bharti 2023 (UPDATED): उत्तर प्रदेश में लंबे समय से शिक्षक भर्ती परीक्षा का इंतजार कर रहे अभ्यर्थियों के लिए अच्छी खबर है. उत्तर प्रदेश बेसिक शिक्षा परिषद (UPBEB) जल्द ही शिक्षक के 51 हजार से अधिक रिक्त पदों पर बंपर भर्ती निकालने वाला है. नवभारत टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक लोकसभा चुनाव से पहले योगी सरकार प्रदेश में  माध्यमिक व राजकीय विद्यालयों में रिक्त शिक्षकों के पदों पर भर्ती करने जा रही है.

इतने पदों पर होगी भर्ती

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक बेसिक शिक्षा विभाग में टीजीटी/ पीजीटी शिक्षकों के लगभग 51 हजार से अधिक पद रिक्त हैं, इसके अलावा राजकीय विद्यालयों में शिक्षकों के 7 हजार 471 पद रिक्त हैं. तो वही बात करें प्रवक्ता तथा सहायक अध्यापकों के पदों कि तो बताया जा रहा है प्रवक्ता के 2115 जबकि सहायक अध्यापक के 5256 पद खाली हैं जिनपर भर्ती की जानी है.

CTET-UPTET पास कर सकेंगें आवेदन

Advertisement

उत्तर प्रदेश के प्राइमरी तथा अपर प्राइमरी सरकारी स्कूलों में शिक्षकों की भर्ती सुपर टेट परीक्षा (SUPER TET) के माध्यम से की जाती है, जिसका आयोजन उत्तर प्रदेश बेसिक एजुकेशन बोर्ड द्वारा किया जाता है. सुपर टेट परीक्षा में केवल वे अभ्यर्थी ही शामिल हो सकते हैं जिन्होंने यूपी टेट परीक्षा (Uttar Pradesh Teacher Eligibility TestUPTET) पास की हो.  बहुत से अभ्यर्थियों के मन में यह सवाल भी रहता है कि क्या सीटेट परीक्षा क्वालीफाई अभ्यर्थी यूपी शिक्षक भर्ती परीक्षा में शामिल हो सकते हैं? 

आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश शिक्षक भर्ती परीक्षा यानी सुपर टेट में शामिल होने के लिए उम्मीदवार को किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से स्नातक डिग्री तथा टीचिंग ट्रेनिंग कोर्स (D.El.Ed, BTC, B.Ed. आदि) पास किया होना चाहिए साथ ही UPBEB द्वारा आयोजित यूपी टेट परीक्षा पास होना जरूरी है. इसके अलावा पेपर -1 के लिए सीटेट पास अभ्यर्थी भी सुपर टेट परीक्षा देने के पात्र होते हैं. 

यदि बात करें आयु सीमा की तो न्यूनतम 21 वर्ष से लेकर अधिकतम 40 वर्ष की आयु वाले अभ्यर्थी सुपर टेट परीक्षा के लिए आवेदन कर सकते हैं हालांकि उत्तर प्रदेश के मूल निवासी अभ्यर्थियों को कैटेगरी वाइज अधिकतम आयु में छूट का प्रावधान है अधिक जानकारी के लिए आधिकारिक नोटिफिकेशन पढ़ें.

इच्छुक उम्मीदवार आधिकारिक वेबसाइट ctet.nic.in पर जाकर अपना आवेदन सबमिट कर सकते हैं. सीटेट परीक्षा पास करने पर उम्मीदवार सुपर टेट के साथ ही केंद्र सरकार द्वारा संचालित केंद्रीय विद्यालय, नवोदय विद्यालय तथा आर्मी पब्लिक स्कूल आदि में निकलने वाली शिक्षकों की भर्ती में भी शामिल हो सकते हैं.

कब आएगा यूपीटीईटी नोटिफ़िकेशन? (UPTET 2023 Notification Update)

उत्तर प्रदेश में शिक्षक बनने की चाह रखने वाले लाखों अभ्यर्थी उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा यानी यूपीटीईटी के नोटिफिकेशन का इंतजार कर रहे हैं नवीनतम मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक यूपीटीईटी परीक्षा का नोटिफिकेशन फ़रवरी 2023 के अंतिम सप्ताह या मार्च के पहले सप्ताह तक जारी किया जा सकता है। नोटिफिकेशन जारी होने के बाद अभ्यर्थी आधिकारिक वेबसाइट updeled.gov.in पर जाकर आवेदन कर पाएंगे. जिसके बाद अप्रैल महीने में ऑनलाइन मोड में UPTET परीक्षा आयोजित की जाएगी.

अधिक जानकारी के लिए अभ्यर्थी लगातार शिक्षा विभाग की वेबसाइट पर विजिट करते रहें बता दें कि यूपीटीईटी परीक्षा में शामिल होने के लिए अभ्यर्थी की उम्र 18 साल या उससे अधिक होनी चाहिए इसके साथ ही बैचलर डिग्री या समकक्ष डिप्लोमा होना जरूरी है।

Read More:

CTET Exam 2023: ‘अल्बर्ट बंडूरा के सिद्धांत’ से जुड़े कुछ ऐसे सवाल ही पूछे जा रहे हैं सीटेट परीक्षा की सभी शिफ्टों में

Advertisement

Continue Reading

CTET

CTET Answer Key 2023: शिक्षक पात्रता परीक्षा की आंसर की करें डाउनलोड, जानें कब तक आयेगा परीक्षा परिणाम 

Published

on

By

Advertisement

CTET Answer Key 2023: केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड याने CBSE द्वारा आयोजित की जाने वाली CTET परीक्षा आज 7 फ़रवरी को पूरी हो चुकी है, यह परीक्षा 28 दिसंबर अग़ल-अलग दिन दो शिफ्ट में आयोजित की जा रही है जिसमें शिक्षक बनने की चाह रखने वाले लाखों अभ्यर्थी शामिल हुए है। अब परीक्षा की समाप्ति के बाद अभ्यर्थी अपनी आंसर की जारी होने का इंतज़ार कर रहे है, बता दें कि परीक्षा समाप्ति के कुछ दिन के भीतर ही CBSE द्वारा आंसर की जारी कर दी जाती है।

इस दिन जारी होगी आंसर की 

CTET परीक्षा में शामिल हुए अभ्यर्थियों का इंतज़ार जल्द ही ख़त्म होने वाला है मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक़ CBSE द्वारा 11 फ़रवरी 2023 को आधिकारिक वेबसाइट ctet.nic.in पर CTET पेपर 1 तथा पेपर 2 की आंसर की जारी कर दी जाएगी। इसके बाद मार्च माह में फाइनल आंसर-की तथा परीक्षा परिणाम जारी किया जा सकता है।

बता दें आंसर की लिंक ऐक्टिव होने के बाद उम्मीदवार अपने रजिस्ट्रेशन नंबर तथा जन्म तारीख़ की सहायता से आधिकारिक वेबसाइट पर लॉगिन कर अपनी उत्तर कुंजी डाउनलोड कर पाएँगें।

Advertisement

परीक्षा में लागू होगा नॉर्मलिज़ेशन

सीबीएसई द्वारा दिसंबर 2021 में पहली बार CTET परीक्षा ऑनलाइन आयोजित की गई थी, तथा इस बार भी यह परीक्षा ऑनलाइन ही आयोजित हुई है। चुकी परीक्षा का आयोजन अलग- अगल दिन कई शिफ़्टों में किया गया है लिहाज़ा परीक्षार्थियों के मध्य समान प्रतिस्पर्द्धा क़ायम रखने के लिए नॉर्मलिज़ेशन व्यवस्था को लागू किया गया है। बता दें कि परीक्षा में नॉर्मलिज़ेशन होने की जानकारी CBSE द्वारा नोटिफिकेशन जारी कर पहले ही दे दी गई थी। 

CTET Exam Cut Off 2023

सीटीएटी परीक्षा में कैटेगरी वाइज कटऑफ़ निर्धारित किया गया है। पेपर 1 तथा पेपर 2 के लिए कट ऑफ अंक समान है। सामान्य वर्ग के अभ्यर्थी को इस परीक्षा में पास होने के लिए 60 प्रतिशत अंक याने 150 नंबर के पेपर में 90 अंक लाना होगा, जबकि आरक्षित वर्ग के अभ्यर्थियों को 55 प्रतिशत अंक यानें 150 अंक के पेपर में 82 अंक लाना होगा।

CategoryMinimum qualifying percentageMinimum qualifying Marks
Schedule Caste (SC)55%82 out of 150
Schedule Tribe (ST)55%82 out of 150

CTET Exam 2023 Important FAQs

क्या सीटीईटी परीक्षा में नेगेटिव मार्किंग होती है?

नहीं, CBSE द्वारा आयोजित सीटीईटी परीक्षा में किसी भी प्रकार की नकारात्मक मार्किंग नहीं की जाती है।

सीटीईटी सर्टिफिकेट की वैद्यता कितने वर्ष होती है?

आजीवन, CTET परीक्षा पास करने वालों अभ्यर्थियों को मिलने वाले सर्टिफिकेट की वैद्यता लाइफ टाइम कर दी गई है जो पहले 7 वर्ष थी।

सीटीईटी परीक्षा में शामिल होने के लिए आयु सीमा क्या है?

इस परीक्षा में शामिल होने के लिए अधिकतम उम्र सीमा निर्धारत नहीं है, हालाकि न्यूनतम आयु 18 वर्ष होना चाहिए।

सीटीईटी परीक्षा कितने बार दे सकते है?

उम्मीदवार जीतने बार चाहे उतने बार सीटीईटी परीक्षा में शामिल हो सकते है, जो अभ्यर्थी इस परीक्षा में पास हो चुके है वे अपने स्कोर को सुधार के लिए दुबारा परीक्षा दे सकते है।

Advertisement

Continue Reading

CTET

CTET 2022-23: लेव वाइगोत्सकी के सिद्धांत से परीक्षा में पूछे जा रहे है ये सवाल, अभी पढ़ें

Published

on

Lev Vygotsky's Theories Based MCQ For CTET
Advertisement

Lev Vygotsky’s Theories Based MCQ For CTET: शिक्षक बनने के लिए जरूरी सीटेट यानी केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा का आयोजन 7 फरवरी 2023 तक ऑनलाइन सीबीटी मोड में किया  जा रहा है.  यह परीक्षा 29 दिसंबर 2023 से शुरू हुई थी तथा अब 3, 4, 6  तथा 7 फरवरी को परीक्षा का आयोजन होना बाकी है.  यदि आप भी आगामी सीटेट परीक्षा में शामिल होने जा रहे हैं तो इस आर्टिकल में दी गई जानकारी आपके लिए बेहद महत्वपूर्ण हैं.

यहां पर हम नियमित रूप से सीटेट परीक्षा के लिए प्रैक्टिस सेट शेयर करते रहे हैं। इसी श्रृंखला में आज हम लेव वाइगोत्सकी के सिद्धांत पर आधारित कुछ ऐसे सवाल लेकर आए हैं, जो की परीक्षा में पूछे जा सकते हैं। तो लिए जाने इन महत्वपूर्ण सवालों को जो की इस प्रकार हैं।

Read More: CTET 2023: हर शिफ्ट में पूछे जा रहे है ‘जीन पियाजे’ के सिध्दांत से ये सवाल, इन्हें पढ़ कर पक्के करे नंबर

Advertisement

 लेव वाइगोत्सकी के सिद्धांत से जुड़े संभावित प्रश्न—CTET Exam Lev Vygotsky’s Theories Related Questions

1. लेव वाइगोत्स्की के अनुसार, निम्न में से किसके लिए “समीपस्थ विकास क्षेत्र” का इस्तेमाल करना चाहिए?

1. अध्यापन और मूल्याँकन

2. केवल अध्यापन

3. केवल मूल्यांकन

4. प्रवाही बौद्धिकता की पहचान

Ans- 1 

2. एक विशिष्ट संप्रत्यय को पढ़ाने हेतु एक अध्यापिका बच्चे को आधा हल किया हुआ उदाहरण देती है। लेव वायगोत्सकी के अनुसार अध्यापिका किस रणनीति का इस्तेमाल कर रही है?

1. अवलोकन अधिगम

2. पाड़

3. द्वंद्वात्मक अधिगम

4. अनुकूलन

Ans- 2 

3. ‘समीपस्थ विकास के क्षेत्र का संप्रत्यय किसने प्रतिपादित किया है?

1. जेरोम ब्रूनर

2. डेविड ऑसबेल

Advertisement

3. रोबर्ट एम. गायने

4 लेव व्यागोत्सकी

Ans- 4

4. रश्मि अपनी कक्षा में विद्यार्थियों के सीखने की क्षमता को ध्यान में रखकर विभिन्न प्रकार के कार्यकलापों का उपयोग करती है और सहपाठियों द्वारा अधिगम को बढ़ावा देने के लिए समूह भी बनाती है। निम्नलिखित में से कौन-सा इसका समर्थन करता है?

1. सिग्मंड फ्रॉयड का मनो यौनिक सिद्धांत

2. लेव वायगोत्सकी का सामाजिक सांस्कृतिक सिद्धांत

3. लॉरेंस कोहलबर्ग का नैतिक विकास का सिद्धांत

4. बी. एफ. स्किनर का व्यवहारवादी सिद्धांत

Ans- 2 

5. वायोगात्सकी के सिद्धांत के अनुसार ‘निजी संवाद’ 

1. बच्चों के आत्मकेंद्रीयता का घोतक है।

2. बच्चों के क्रियाकलापों और व्यवहार का अवरोधक है।

3. जटिल कार्य करते समय बच्चे को उसके व्यवहार संचालन में सहायता देता है।

4. यह संकेत देता है कि संज्ञान कभी भी आंतरिक नहीं होता।

Ans- 3 

6. कौन सा कथन लेव व्यागोत्सकी के मूल सिद्धांत को सही मायने में दर्शाता है?

1. अधिगम एक अन्तमन प्रक्रिया है।

2. अधिगम एक सामाजिक क्रिया है।

Advertisement

3. अधिगम उत्पतिमूलक क्रमादेश है। 

4. अधिगम एक अक्रमबद्ध प्रक्रिया है जिसके चार चरण है।

Ans- 2 

7. इनमें से कौन-सा अध्यापक द्वारा पाड़ का उदाहरण नहीं है?

1. अनुकरण के लिए कौशलों का प्रदर्शन करना

2. रटना

3. इशारे एवं संकेत

4. सहपाठियों संग साझा शिक्षण

Ans- 2 

8. लेव वायगोत्सकी के संज्ञानात्मक विकास के सिद्धांत को ……….. कहा जाता है क्योंकि वे तर्क देते हैं कि बच्चों का सीखना संदर्भ में होता है।

1. मनोगतिशील

2. मनोलैंगिक

3. सामाजिक सांस्कृतिक

4. व्यवहारात्मक

Ans- 3 

9. जब कोई अध्यापिका किसी विद्यार्थी को उसके विकास के निकटस्थ क्षेत्र पर पहुंचाने के लिए सहायता को उसके निष्पादन के वर्तमान स्तर के अनुरूप है, तो अध्यापिका किस नीति का प्रयोग कर रही है। कर रही है।

1. सहयोगात्मक अधिगम का प्रयोग

2. अंतर पक्षता का प्रदर्शन

Advertisement

3. पाड़

4. विद्यार्थी में संज्ञानात्मक द्वंद पैदा करना

Ans- 3

10. लेव वायगोत्सकी द्वारा दिए बच्चों के विकास का सिद्धांत किस पर आधारित है ?

1. भाषा और संस्कृति

2. भाषा और परिपक्वता

3. भाषा और भौतिक जगत

4. परिपक्वता और संस्कृति

Ans- 1

11.समीपस्थ विकास के क्षेत्र’ की संरचना किसने प्रतिपादित की थी?

1. लॉरेंस कोहल

2. लेव वायगोत्स्की

3. ज़ोरोंन ब्रूनर

4. जीन पियाजे

Ans- 2 

12. निम्न में से कौन-सा कथन बच्चों के संज्ञानात्मक विकास के विषय में जीन पियाजे और लेव वायगोत्सकी के विचारों के बीच मुख्य अंतर दर्शाता है?

1. पियाजे बच्चों के स्वतंत्र प्रयासों द्वारा जगत को अनुभव करने पर जोर देते हैं, जबकि वायगोत्स्की संज्ञानात्मक विकास को सामाजिक मध्यस्थ प्रक्रिया के रूप में देखते हैं। 

2. पियाजे बच्चों को सक्रिय स्वतंत्र जीव के रूप में देखते हैं, जबकि वायगोत्स्की उन्हें मुख्यतः वातावरण द्वारा नियंत्रित जीव के रूप में देखते हैं।

Advertisement

3. पियाजे भाषा को बच्चों के संज्ञानात्मक विकास के लिए महत्वपूर्ण मानते हैं, जबकि विकास पर बल देते हैं।

4. पियाजे के अनुसार बच्चे अपने मार्गदर्शन के लिए स्वयं से बात कर सकते हैं, जबकि वायगोत्सकी के लिए बच्चों की बात आत्मकेन्द्रीयता का द्योतक है।

Ans- 1 

13. एक अध्यापिका शिक्षण-अधिगम प्रक्रिया में विद्यार्थियों को सहपाठियों से अंतः क्रिया कराकर एवं सहारा देकर अध्यापन करती है। यह शिक्षण अधिगम की प्रक्रिया किस पर आधारित है ?

1. लॉरेंस कोहलबर्ग के नैतिक विकास सिद्धांत पर 

2. जीन पियाजे के संज्ञानात्मक विकास सिद्धांत पर

3. लेव वायगोत्स्की के सामाजिक-सांस्कृतिक सिद्धांत पर

4. हावर्ड गार्डनर के बहुआयामी बुद्धि सिद्धांत पर

Ans- 3 

14. वायगोत्स्की के सिद्धान्त के अनुसार ‘सहायक खोज’ किस में सहायक है।

1. संज्ञानात्मक द्वंद्व

2. उत्प्रेरक-प्रतिक्रिया सहचर्य

3. पुनर्बलन

4. सहपाठी- सहयोग

Ans- 4 

15. कक्षा में विद्यार्थियों को त्यौहारों को मनाने के अपने अनुभवों को साझा करने के देना और उसके आधार पर सूचना निर्मित करने को बढ़ावा देना किसका उदाहरण है। ?

1. व्यवहारवाद

2. पाठ्यपुस्तक आधारित अध्यापन

Advertisement

3. सामाजिक संरचनावाद

4. प्रत्यक्ष निर्देशन

Ans- 3

ये भी पढे:-

CTET 2022: सीटेट परीक्षा के लिए बुद्धि परीक्षण पर आधारित इन सवालों से करे अपनी अंतिम तैयारी!

CTET 2022: हिन्दी भाषा शिक्षण के इन सवालों से करे अपनी बेहतर तैयारी

Advertisement

Continue Reading

Trending