CTET

CTET Sanskrit Pedagogy: ‘संस्कृत पेडगॉजी’ के इस प्रैक्टिस सेट के माध्यम से चेक करें अपनी तैयारी का स्तर!

Advertisement

Sanskrit Pedagogy Practice Set For CTET: सीटेट परीक्षा के 16 वे संस्करण का आयोजन दिसंबर से जनवरी माह में किया जाएगा केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के द्वारा आयोजित होने देश की सबसे बड़ी शिक्षक पात्रता परीक्षा में एक मानी जाने वाली इस परीक्षा के लिए वर्तमान में आवेदन की प्रक्रिया का क्रम जारी है जो 24 नवंबर तक रहेगा 

यदि आप भी शिक्षक बनने की चाह रखते हैं और इस परीक्षा को देने जा रहे हैं तो इस आर्टिकल में दी गई जानकारी आपके बहुत काम आने वाली है इस आर्टिकल में हम संस्कृत भाषा शिक्षण शास्त्र से संबंधित प्रैक्टिस सेट आपके लिए लेकर आए हैं जिसका अभ्यास आपको परीक्षा में बेहतर परिणाम दिलाने में मददगार साबित हो सकता है।

ये भी पढे:-CTET 2022: सीटेट अभ्यर्थीयो के लिए बड़ी चिंता आई सामने, परीक्षा केंद्रो की सीटे फ़ुल, नही मिलेंगे नज़दीकी परीक्षा केंद्र

Advertisement

संस्कृत भाषा शिक्षण शास्त्र से जुड़े महत्वपूर्ण प्रश्न—CTET Exam Sanskrit Pedagogy objective Questions

1. वाक्कौशलम् इति अस्य साहाय्येन सम्यग् वर्धते

(a) स्थानापत्तिसारणिः

(b) लिखित संभाषणाभ्यासः

(c) अभिनयो गोष्ठीचिन्तना च

(d) समृद्धवाचनसामग्री

Ans- c 

2. कवितापठनस्य उद्देश्यम् अस्ति

(a) अनुभूतीनां विचाराणां च बोधः

(b) धाराप्रवाहस्य शुद्धतायाः च विकासः 

(c) कवितायाः कण्ठस्थीकरणम्

(d) उच्चारणविकासः

Ans-  a

3. उच्च प्राथमिक स्तर पर छात्रों की परीक्षा-प्रणाली उपयुक्त होगी

(a) केवल लिखित

(b) केवल मौखिक

Advertisement

(c) शास्त्रार्थ

(d) लिखित एवं मौखिक दोनों

Ans- d 

4. व्याकरणबोधनस्योपयोगः –

(a) निरर्गलभाषणशक्त्यभिवर्धनम्

(b) साक्षरताभिवर्धनम्

(c) संख्यावृद्धिः

(d) यथार्थताभिवर्धनम्

Ans- d 

5. ‘अन्तर्वैयक्तिक-प्रज्ञा’-विकासार्थम् अतीव महत्वपूर्णम् अस्ति –

(a) काव्यशास्त्रपठनम्

(b) अन्यभाषासु लिखितसाहित्यस्य पठनम्

(c) परस्परं विचार-विमर्शः

(d) नूतनविषयान् अधिकृत्य निबन्धलेखनम्

Ans- c

6. यदा छात्राः व्याकरणाध्ययनस्य भाषास्वरूपस्य च मध्ये सम्बन्धं प्रदर्शयन्ति तदा ते किं दर्शयन्ति?

(a) सम्प्रेषणोद्देश्यं विकासप्रक्रियां च

(b) व्याकरणाध्ययनम् अत्यधिकं महत्त्वपूर्णम्

Advertisement

(c) सम्प्रेषणार्थं व्याकरणज्ञानम् अनिवार्यम्

(d) लेखन-शैली व्याकरणज्ञानेन प्रभाविता भवति

Ans- a 

7. अनेकेभ्यः छात्रेभ्यः लेखनकार्यम् अत्यन्तं जटिलकार्यम् । अतः अस्मिन् सन्दर्भे अध्यापकैः / अध्यापिकाभिः प्रथमं कुत्र अवधानं दातव्यम्?

(a) रुचि-वर्धनार्थं सरलकार्य प्रति

(b) स्पष्ट सम्प्रेषण क्षमता विकास सन्दर्भे आवश्यक-व्याकरण- तत्व-अभ्यासं प्रति

(c) व्याकरण सम्बद्ध-अभ्यासान् प्रति

(d) आत्मविश्वासम् उत्पादयितुं लक्ष्यभाषा मातृभाषा प्रयोगं प्रति

Ans- b 

8. लिखितानुच्छेदस्य आकलनार्थं प्रथमं सोपानम् अस्ति

(a) शब्दसमृद्धिः

(b) व्याकरणम्

(c) शब्दसीमा

(d) विषयवस्तु सार्थक्यं विचाराभिव्यक्तिः च

Ans- d

9. मानवस्य विचाराणां प्रभावि-सम्प्रेषणस्य (लिखितमौखिक -रूपेण) च मध्ये परस्परं सम्बन्धस्य आधारभूतम् अथवा प्रमुखं तत्त्वं किम् ? 

(a) व्याकरणात्मक संरचना

(b) उच्चारणम्

Advertisement

(c) बृहद्-अक्षरीकरणं लेखन-चिह्नाङ्कनं च

(d) स्वरीकरणं बलाघातः च

Ans- a

10. ‘अर्थज्ञानद्वारा सम्प्रेषणक्षमता विकासः’ इत्यनेन अभिप्रायः अस्ति-

(a) व्याकरणात्मकी संरचना

(b) शङ्का-निवारणार्थं शिक्षकैः सह वार्ता पाठ्यक्रमस्य च स्पष्टीकरणम्

(c) शब्दार्थन् प्रयोगान् च ज्ञातुं शब्दकोशस्य उपयोगः

(d) अवबोधनार्थं सूचनायाः आदान प्रदानञ्च, स्पष्टीकरणं पुनर्रचना च

Ans-  d 

11. ‘अनुवाद विधि’ भाषा शिक्षण में उपयोगी है क्योंकि इसमें

(a) विषय का ज्ञान सुगमता से हो जाता है 

(b) ‘ज्ञात से अज्ञात’, ‘सरल से कठिन’ आदि शिक्षण सूत्र के सिद्धान्तों का अनुशरण होता है

(c) अनुवाद द्वारा वाक्य रचना ठीक से समझी जा सकती है। 

(d) इनमें से  सभी सही हैं।

Ans- d 

12. संस्कृत में कथा (कहानी) शिक्षण का उद्देश्य नहीं है –

(a) छात्रों की कल्पना शक्ति का विकास करना ।

(b) छात्रों को संस्कृत ध्वनि-विज्ञान से परिचित कराना ।

Advertisement

(c) छात्रों की तर्कशक्ति को विकसित करना।

(d) छात्रों का उत्तम चरित्र-निर्माण करना।

Ans- b 

13. पहले नियम बताकर उदाहरण दिया जाता है

(a) आगमन शिक्षण विधि में

(b) निगमन शिक्षण विधि में

(c) व्याख्यान विधि में

(d) प्रश्नोत्तर विधि में

Ans- b 

14. ‘हितोपदेश’ का सम्बन्ध किस विधि से है?

(a) सूत्र विधि

(b) कहानी कथन विधि

(c) भाषण विधि

(d) उपर्युक्त सभी

Ans- b 

15. संस्कृत का अध्यापक एक-एक शब्द का अर्थ स्पष्ट करता है?

(a) प्रत्यक्ष विधि में

(b) व्याख्या विधि में 

Advertisement

(c) मूल्यांकन विधि में

(d) समवाय विधि में

Ans- b 

Read More:-

CTET 2022: ‘अपसारी और अभिसारी चिंतन’ से जुड़े परीक्षा में पूछे जाने वाले संभावित प्रश्न जरूर पढ़ें!

CTET 2022: ‘पर्यावरण NCERT’ पर आधारित परीक्षा में पूछे जाने वाले संभावित प्रश्न!

यहां पर हमने दिसंबर में आयोजित होने वाली केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा के लिए ”संस्कृत पेडगॉजी” से संबंधित महत्वपूर्ण सवालों (Sanskrit Pedagogy Practice Set For CTET) का अध्ययन किया। केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा (CTET) से जुड़ी नवीनतम अपडेट और प्रैक्टिस सेट प्राप्त करने के लिए आप हमारे टेलीग्राम चैनल के सदस्य बने, जॉइन लिंक नीचे दी गई है

Advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button