Connect with us

CTET

CTET 2022: ‘लैब वाइगोत्सकी और जीन पियाजे’ के सिद्धांत पर आधारित परीक्षा में पूछे जाने वाले संभावित प्रश्न यहां पढ़ें!

Published

on

CTET Jean Piaget and Lev Vygotsky Theory MCQ
Advertisement

CTET Jean Piaget and Lev Vygotsky Theory MCQ: टीचिंग के क्षेत्र में रुचि रखने वाले लाखों अभ्यर्थी प्रति वर्ष केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा में सम्मिलित होते हैं। इस वर्ष इस परीक्षा का आयोजन ऑनलाइन मोड में दिसंबर से जनवरी माह में देश भर के विभिन्न परीक्षा केंद्रों पर किया जाना है। अगर आप भी इस परीक्षा में बैठने वाले हैं, तो आपके लिए यहां पर हम मनोवैज्ञानिकों के द्वारा दिए गए सिद्धांत पर आधारित परीक्षा में पूछे जाने वाले संभावित प्रश्न लेकर आए हैं।

इस आर्टिकल में हम जीन पियाजे एवं लेव वाइगोत्सकी के सिद्धांत से संबंधित ऐसे 15 सवाल आपके साथ साझा कर रहे हैं, जो की परीक्षा की दृष्टि से बहुत ही महत्वपूर्ण है इन प्रश्नों को परीक्षा हॉल में जाने से पहले अभ्यर्थियों को एक बार अवश्य पढ़ लेना चाहिए। जिससे कि अच्छे अंकों के साथ सीटेट परीक्षा में सफलता प्राप्त की जा सके।

परीक्षा में हमेशा पूछे जाते हैं वाइगोत्सकी और पियाजे के सिद्धांत से जुड़े ऐसे प्रश्न

1. Fitting new information into existing schemes is known as/प्रचलित योजनाओं में नई जानकारी जोड़ने को किस नाम से जाना जाता हैं?

Advertisement

(A) Equilibration /साम्यधारण

(B) Assimilation/आत्मसात्करण

(C) Organization/ संगठन

(D) Accommodation/ समायोजन

Ans- B

2. पियाजे के सिद्धांत के अनुसार, निम्नलिखित में से कौन-सा व्यक्ति के संज्ञानात्मक विकास का प्रभावित नहीं करेगा?/According to Piaget’s theory, which of the following will not affect the cognitive development of an individual?

(A) समाजिक अनुभव/social experience

(B) परिपक्वन/Maturation

(C) क्रियाकलाप /Activities

(D) भाषा/language

Ans- D

3. वाइगोत्सकी के सामाजिक सांस्कृतिक सिद्धांत के अनुसार/According to Social-cultural theory of Vygotsky 

(A) संस्कृति और भाषा विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। /Culture and language play a crucial role in development

(B) बच्चे अलग क्षेत्र में चिंतन करते हैं और वे पूर्ण परिप्रेक्ष्य नहीं लेते /The child thinks in different domains and does not take a complete perspective

(C) यदि निम्न आयु पर अमूर्त सामग्री को प्रस्तुत किया जाए तो बच्चे अमूर्त तरीके से चिंतन करते है ।/Children think in abstract terms if presented abstract material at a lower age

Advertisement

(D) स्व-निर्देशिन वाक् सहयोग का निम्नतम स्तर है।/Self-directed speech is the lowest stage of the scaffold

Ans- A 

4. intimacy versus isolation occurs at what stage?

 घनिष्ठता बनाम अलगाव कौन सी अवस्था में आता है

(A) शैशवावस्था / infancy 

(B) परिपक्वता / maturity

(C) किशोरावस्था / adolescence

(D) व्यसकावस्था / adulthood

Ans- D

5. Retrieving hidden objects is an evidence that infants have begun to master which of the following cognitive functions?/छिपी हुई वस्तुएँ ढूँढ़ निकालना इस बात का संकेत है कि शिशु निम्नलिखित में से किस संज्ञानात्मक कार्य में दक्षता प्राप्त करने लगा है?

(A) Intentional behavior/ साभिप्राय व्यवहार

(B) Object-permanence/वस्तु-स्थायित्व

(C) Problem-solving/ समस्या-समाधान

(D) Experimentation /प्रयोग करना

Ans- B

6. आप एक शिक्षिक / शिक्षक के रूप में रैगिंग और धमकाने के सख्त विरोधी हैं तथा इस संदर्भ में विद्यालय में पोस्टर लगवाते हैं तथा समिति बनवाते हैं। आपसे जुड़ने वाले किशोर जो इस विचार के दृढ़ विश्वासी हैं, निम्नलिखित में से किस स्तर पर होगे?/As a teacher you firmly believe in ‘saying no to ragging and bullying” and put up posters and form committees in schools. The young adolescents who join you with strong beliefs, are at which of the following stages?

(A) पारंपरिक स्तर /The conventional level 

(B) पूर्व- पारंपरिक स्तर/The pre-conventional level

Advertisement

(C) उत्तर-पारंपरिक स्तर/The post-conventional level 

(D) सामाजिक व्यवस्था बनाए रखने वाला स्तर/Social order maintaining level

Ans- C

7. Which of the following stages are involved when infants “THINK” with their eyes, ears and hands?/एक वर्ष तक के शिशु जब आँख, कान व हाथों से “सोचते हैं, तो निम्नलिखित में से कौन-सा स्तर शामिल होता हैं? 

(A) Concrete operational stage/मूर्त संक्रियात्मक स्तर

(B) Pre-operational stage /पूर्व-संक्रियात्मक स्तर 

(C) Sensory motor stage/इंद्रिय गामक स्तर

(D) Formal operational stage /अमूर्त संक्रियात्मक स्तर

Ans-  C

8. In Vygotsky’s theory, which aspect of development gets neglected? /वाइगोत्सकी के सिद्धांत में, विकास के निम्नलिखित में से कौन-से पहलू की उपेक्षा होती है?

(A) Social /सामाजिक

(B) Cultural /सांस्कृतिक

(C) Biological /जैविक

(D) Linguistic /भाषायी

Ans- C 

9. मनोसामाजिक सिद्धांत में कितनी अवस्थाएं हैं? 

How many stages are in the psychosocial theory?

(A) 8

Advertisement

(B) 12

(C) 6

(D) 4

Ans- A 

10. Which of the following implications cannot be derived from Piaget’s theory of cognitive development? /निम्नलिखित में से कौन-सा निहितार्थ पियाजे के संज्ञानात्मक विकास के सिद्धांत से नहीं निकाला जा सकता?

(A) Sensitivity to children’s readiness to learn/बच्चों की अधिगमनात्मक तत्परता के प्रति संवदेनशीलता 

(B) Acceptance of individual differences/वैयक्तिक भेदों की स्वीकृति

(C) Discovery learning /खोजपूर्ण अधिगम 

(D) Need of verbal teaching/ शाब्दिक शिक्षण की आवश्यकता

Ans- D

11. एक शिक्षिका अपनी कक्षा से कहती हैं, “सभी प्रकार के प्रदत्त कार्यों का निर्माण इस प्रकर किया गया है कि प्रत्येक विद्यार्थी अधिक प्रभावशाली ढंग से सीख सकें, अतः सभी विद्यार्थी बिना किसी अन्य की सहायता से अपना कार्य पूर्ण करें।” वह कोहलबर्ग के किस नैतिक विकास के चरण की ओर संकेत दे रही है/A teacher says to her class, “As individual assignments are designed to help individual students learn more effectively, all students should complete assignments prescribed without any assistance.” She is referring to which of the following stages of Kohlberg’s moral development?

(A) औपचारिक चरण 4 – कानून और व्यवस्था/Conventional stage 4 – law and order

(B) पर – औपचारिक 5 –  सामाजिक संविदा/ Post-conventional stage 5 – social contract

(C) पूर्व-औपचारिक चरण 1 – दण्ड परिवर्तनPre-conventional stage 1 – punishment avoidance

(D) पूर्व-औपचारिक चरण 2 वैयक्तिकता और विनिमय/ Pre-co-nventional stage 2 – individualism and exchange

Ans- A 

12. Which of the following is based on Vygotsky’s social cultural theory? /निम्नलिखित में से कौन-सा वाइगोत्सकी के सामाजिक-सांस्कृतिक सिद्धांत पर आधारित हैं?

(A) Operant, conditioning/सक्रिय अनुकूलन

Advertisement

(B) Reciprocal teaching/ पारस्परिक शिक्षण

(C) Culture-neutral cognitive development/संस्कृति-निरपेक्ष संज्ञानात्मक विकास 

(D) Insight learning/अन्तर्दृष्टिपूर्ण अधिगम

Ans- B 

13. Karnail Singh does not pay income tax despite legal procedures and expenses. He thinks that he cannot support a corrupt government which spends millions of rupees in building unnecessary dams. He is probably in which state of Kohlberg’s stages of moral development/करनैल सिंह कानूनी कार्यवाही तथा खर्च के बावजूद आयकर नहीं देते। वे सोचते है कि वे एक भ्रष्ट सरकार को समर्थन नहीं दे सकते जो अनावश्यक बाँधों के निर्माण पर लाखों रुपए खर्च करती है। वे संभवतः कोहलबर्ग के नैतिक विकास की किस अवस्था में है?

(A) Conventional/ परंपरागत

(B) Post Conventional/ पश्च-परंपरागत 

(C) Pre Conventional /पूर्व-परंपरागत 

(D) Para Conventional/परा-परंपरागत

Ans- B

14.  the stage that occurs between birth and one year of age is concerned with: 

जन्म से 1 साल तक की अवस्था कौन सी है?

(A) पहल बनाम अपराध बोध | Initiative versus guilt

(B) विश्वास बना म अविश्वास trust vs mistrust

(C) पहचान बनाम भूमिका भ्रांति। Identity vs role confusion

(D) उत्पादकता बनाम स्थिरत Generativity versus stagnation

Ans- B

15. एक शिक्षिका दो एकसमान गिलासों को प्रदर्शित करती है जो जूस की समान मात्रा से भरे हुए हैं। वह उन्हें दो भिन्न गिलासों में खाली करती है जिनमें से एक लंबा है और दूसरा चौड़ा हैं। वह बच्चों को उस गिलास की पहचान करने के लिए कहती है जिसमें जूस ज़्यादा है। बच्चे प्रत्युत्तर देते है कि लंबे गिलास में जूस ज़्यादा हैं। शिक्षिका के बच्चों को ……………….. कठिनाई है।/ A teacher shows two Identical glasses Tilled with an equal amount of juice in them. She empties them in two different glasses one of which is taller and the other one is wider. She asks her class to identify which glass would have more juice in it. Students reply that the taller glass has more juice. Her students have difficulty in dealing with

Advertisement

(A) समायोजन/ Accommodation 

(B) अहमकेंद्रिता/ Egocentrism

(C) विकेंद्रीकरण/ Decentring 

(D) पलटावी/ Reversibility

Ans- C

इन्हे जरूर पढे:-

CTET 2022: ‘पर्यावरण पेडागॉजी’ कि यह 15 सवाल दिला सकते हैं आपको परीक्षा में बेहतर परिणाम अभी पढ़े!

CTET 2022: विगत वर्ष में पूछे गए ‘बाल विकास’ के कुछ चुनिंदा प्रश्न यहां पढ़िए!

Advertisement

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

CTET

UP Teacher Vacancy 2023: योगी सरकार का तोहफा, 51 हजार शिक्षक भर्ती जल्द, CTET-UPTET क्वालीफाई को मिलेगी एंट्री

Published

on

By

Advertisement

UP Shikshak Bharti 2023 (UPDATED): उत्तर प्रदेश में लंबे समय से शिक्षक भर्ती परीक्षा का इंतजार कर रहे अभ्यर्थियों के लिए अच्छी खबर है. उत्तर प्रदेश बेसिक शिक्षा परिषद (UPBEB) जल्द ही शिक्षक के 51 हजार से अधिक रिक्त पदों पर बंपर भर्ती निकालने वाला है. नवभारत टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक लोकसभा चुनाव से पहले योगी सरकार प्रदेश में  माध्यमिक व राजकीय विद्यालयों में रिक्त शिक्षकों के पदों पर भर्ती करने जा रही है.

इतने पदों पर होगी भर्ती

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक बेसिक शिक्षा विभाग में टीजीटी/ पीजीटी शिक्षकों के लगभग 51 हजार से अधिक पद रिक्त हैं, इसके अलावा राजकीय विद्यालयों में शिक्षकों के 7 हजार 471 पद रिक्त हैं. तो वही बात करें प्रवक्ता तथा सहायक अध्यापकों के पदों कि तो बताया जा रहा है प्रवक्ता के 2115 जबकि सहायक अध्यापक के 5256 पद खाली हैं जिनपर भर्ती की जानी है.

CTET-UPTET पास कर सकेंगें आवेदन

Advertisement

उत्तर प्रदेश के प्राइमरी तथा अपर प्राइमरी सरकारी स्कूलों में शिक्षकों की भर्ती सुपर टेट परीक्षा (SUPER TET) के माध्यम से की जाती है, जिसका आयोजन उत्तर प्रदेश बेसिक एजुकेशन बोर्ड द्वारा किया जाता है. सुपर टेट परीक्षा में केवल वे अभ्यर्थी ही शामिल हो सकते हैं जिन्होंने यूपी टेट परीक्षा (Uttar Pradesh Teacher Eligibility TestUPTET) पास की हो.  बहुत से अभ्यर्थियों के मन में यह सवाल भी रहता है कि क्या सीटेट परीक्षा क्वालीफाई अभ्यर्थी यूपी शिक्षक भर्ती परीक्षा में शामिल हो सकते हैं? 

आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश शिक्षक भर्ती परीक्षा यानी सुपर टेट में शामिल होने के लिए उम्मीदवार को किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से स्नातक डिग्री तथा टीचिंग ट्रेनिंग कोर्स (D.El.Ed, BTC, B.Ed. आदि) पास किया होना चाहिए साथ ही UPBEB द्वारा आयोजित यूपी टेट परीक्षा पास होना जरूरी है. इसके अलावा पेपर -1 के लिए सीटेट पास अभ्यर्थी भी सुपर टेट परीक्षा देने के पात्र होते हैं. 

यदि बात करें आयु सीमा की तो न्यूनतम 21 वर्ष से लेकर अधिकतम 40 वर्ष की आयु वाले अभ्यर्थी सुपर टेट परीक्षा के लिए आवेदन कर सकते हैं हालांकि उत्तर प्रदेश के मूल निवासी अभ्यर्थियों को कैटेगरी वाइज अधिकतम आयु में छूट का प्रावधान है अधिक जानकारी के लिए आधिकारिक नोटिफिकेशन पढ़ें.

इच्छुक उम्मीदवार आधिकारिक वेबसाइट ctet.nic.in पर जाकर अपना आवेदन सबमिट कर सकते हैं. सीटेट परीक्षा पास करने पर उम्मीदवार सुपर टेट के साथ ही केंद्र सरकार द्वारा संचालित केंद्रीय विद्यालय, नवोदय विद्यालय तथा आर्मी पब्लिक स्कूल आदि में निकलने वाली शिक्षकों की भर्ती में भी शामिल हो सकते हैं.

कब आएगा यूपीटीईटी नोटिफ़िकेशन? (UPTET 2023 Notification Update)

उत्तर प्रदेश में शिक्षक बनने की चाह रखने वाले लाखों अभ्यर्थी उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा यानी यूपीटीईटी के नोटिफिकेशन का इंतजार कर रहे हैं नवीनतम मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक यूपीटीईटी परीक्षा का नोटिफिकेशन फ़रवरी 2023 के अंतिम सप्ताह या मार्च के पहले सप्ताह तक जारी किया जा सकता है। नोटिफिकेशन जारी होने के बाद अभ्यर्थी आधिकारिक वेबसाइट updeled.gov.in पर जाकर आवेदन कर पाएंगे. जिसके बाद अप्रैल महीने में ऑनलाइन मोड में UPTET परीक्षा आयोजित की जाएगी.

अधिक जानकारी के लिए अभ्यर्थी लगातार शिक्षा विभाग की वेबसाइट पर विजिट करते रहें बता दें कि यूपीटीईटी परीक्षा में शामिल होने के लिए अभ्यर्थी की उम्र 18 साल या उससे अधिक होनी चाहिए इसके साथ ही बैचलर डिग्री या समकक्ष डिप्लोमा होना जरूरी है।

Read More:

CTET Exam 2023: ‘अल्बर्ट बंडूरा के सिद्धांत’ से जुड़े कुछ ऐसे सवाल ही पूछे जा रहे हैं सीटेट परीक्षा की सभी शिफ्टों में

Advertisement

Continue Reading

CTET

CTET Answer Key 2023: शिक्षक पात्रता परीक्षा की आंसर की करें डाउनलोड, जानें कब तक आयेगा परीक्षा परिणाम 

Published

on

By

Advertisement

CTET Answer Key 2023: केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड याने CBSE द्वारा आयोजित की जाने वाली CTET परीक्षा आज 7 फ़रवरी को पूरी हो चुकी है, यह परीक्षा 28 दिसंबर अग़ल-अलग दिन दो शिफ्ट में आयोजित की जा रही है जिसमें शिक्षक बनने की चाह रखने वाले लाखों अभ्यर्थी शामिल हुए है। अब परीक्षा की समाप्ति के बाद अभ्यर्थी अपनी आंसर की जारी होने का इंतज़ार कर रहे है, बता दें कि परीक्षा समाप्ति के कुछ दिन के भीतर ही CBSE द्वारा आंसर की जारी कर दी जाती है।

इस दिन जारी होगी आंसर की 

CTET परीक्षा में शामिल हुए अभ्यर्थियों का इंतज़ार जल्द ही ख़त्म होने वाला है मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक़ CBSE द्वारा 11 फ़रवरी 2023 को आधिकारिक वेबसाइट ctet.nic.in पर CTET पेपर 1 तथा पेपर 2 की आंसर की जारी कर दी जाएगी। इसके बाद मार्च माह में फाइनल आंसर-की तथा परीक्षा परिणाम जारी किया जा सकता है।

बता दें आंसर की लिंक ऐक्टिव होने के बाद उम्मीदवार अपने रजिस्ट्रेशन नंबर तथा जन्म तारीख़ की सहायता से आधिकारिक वेबसाइट पर लॉगिन कर अपनी उत्तर कुंजी डाउनलोड कर पाएँगें।

Advertisement

परीक्षा में लागू होगा नॉर्मलिज़ेशन

सीबीएसई द्वारा दिसंबर 2021 में पहली बार CTET परीक्षा ऑनलाइन आयोजित की गई थी, तथा इस बार भी यह परीक्षा ऑनलाइन ही आयोजित हुई है। चुकी परीक्षा का आयोजन अलग- अगल दिन कई शिफ़्टों में किया गया है लिहाज़ा परीक्षार्थियों के मध्य समान प्रतिस्पर्द्धा क़ायम रखने के लिए नॉर्मलिज़ेशन व्यवस्था को लागू किया गया है। बता दें कि परीक्षा में नॉर्मलिज़ेशन होने की जानकारी CBSE द्वारा नोटिफिकेशन जारी कर पहले ही दे दी गई थी। 

CTET Exam Cut Off 2023

सीटीएटी परीक्षा में कैटेगरी वाइज कटऑफ़ निर्धारित किया गया है। पेपर 1 तथा पेपर 2 के लिए कट ऑफ अंक समान है। सामान्य वर्ग के अभ्यर्थी को इस परीक्षा में पास होने के लिए 60 प्रतिशत अंक याने 150 नंबर के पेपर में 90 अंक लाना होगा, जबकि आरक्षित वर्ग के अभ्यर्थियों को 55 प्रतिशत अंक यानें 150 अंक के पेपर में 82 अंक लाना होगा।

CategoryMinimum qualifying percentageMinimum qualifying Marks
Schedule Caste (SC)55%82 out of 150
Schedule Tribe (ST)55%82 out of 150

CTET Exam 2023 Important FAQs

क्या सीटीईटी परीक्षा में नेगेटिव मार्किंग होती है?

नहीं, CBSE द्वारा आयोजित सीटीईटी परीक्षा में किसी भी प्रकार की नकारात्मक मार्किंग नहीं की जाती है।

सीटीईटी सर्टिफिकेट की वैद्यता कितने वर्ष होती है?

आजीवन, CTET परीक्षा पास करने वालों अभ्यर्थियों को मिलने वाले सर्टिफिकेट की वैद्यता लाइफ टाइम कर दी गई है जो पहले 7 वर्ष थी।

सीटीईटी परीक्षा में शामिल होने के लिए आयु सीमा क्या है?

इस परीक्षा में शामिल होने के लिए अधिकतम उम्र सीमा निर्धारत नहीं है, हालाकि न्यूनतम आयु 18 वर्ष होना चाहिए।

सीटीईटी परीक्षा कितने बार दे सकते है?

उम्मीदवार जीतने बार चाहे उतने बार सीटीईटी परीक्षा में शामिल हो सकते है, जो अभ्यर्थी इस परीक्षा में पास हो चुके है वे अपने स्कोर को सुधार के लिए दुबारा परीक्षा दे सकते है।

Advertisement

Continue Reading

CTET

CTET 2022-23: लेव वाइगोत्सकी के सिद्धांत से परीक्षा में पूछे जा रहे है ये सवाल, अभी पढ़ें

Published

on

Lev Vygotsky's Theories Based MCQ For CTET
Advertisement

Lev Vygotsky’s Theories Based MCQ For CTET: शिक्षक बनने के लिए जरूरी सीटेट यानी केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा का आयोजन 7 फरवरी 2023 तक ऑनलाइन सीबीटी मोड में किया  जा रहा है.  यह परीक्षा 29 दिसंबर 2023 से शुरू हुई थी तथा अब 3, 4, 6  तथा 7 फरवरी को परीक्षा का आयोजन होना बाकी है.  यदि आप भी आगामी सीटेट परीक्षा में शामिल होने जा रहे हैं तो इस आर्टिकल में दी गई जानकारी आपके लिए बेहद महत्वपूर्ण हैं.

यहां पर हम नियमित रूप से सीटेट परीक्षा के लिए प्रैक्टिस सेट शेयर करते रहे हैं। इसी श्रृंखला में आज हम लेव वाइगोत्सकी के सिद्धांत पर आधारित कुछ ऐसे सवाल लेकर आए हैं, जो की परीक्षा में पूछे जा सकते हैं। तो लिए जाने इन महत्वपूर्ण सवालों को जो की इस प्रकार हैं।

Read More: CTET 2023: हर शिफ्ट में पूछे जा रहे है ‘जीन पियाजे’ के सिध्दांत से ये सवाल, इन्हें पढ़ कर पक्के करे नंबर

Advertisement

 लेव वाइगोत्सकी के सिद्धांत से जुड़े संभावित प्रश्न—CTET Exam Lev Vygotsky’s Theories Related Questions

1. लेव वाइगोत्स्की के अनुसार, निम्न में से किसके लिए “समीपस्थ विकास क्षेत्र” का इस्तेमाल करना चाहिए?

1. अध्यापन और मूल्याँकन

2. केवल अध्यापन

3. केवल मूल्यांकन

4. प्रवाही बौद्धिकता की पहचान

Ans- 1 

2. एक विशिष्ट संप्रत्यय को पढ़ाने हेतु एक अध्यापिका बच्चे को आधा हल किया हुआ उदाहरण देती है। लेव वायगोत्सकी के अनुसार अध्यापिका किस रणनीति का इस्तेमाल कर रही है?

1. अवलोकन अधिगम

2. पाड़

3. द्वंद्वात्मक अधिगम

4. अनुकूलन

Ans- 2 

3. ‘समीपस्थ विकास के क्षेत्र का संप्रत्यय किसने प्रतिपादित किया है?

1. जेरोम ब्रूनर

2. डेविड ऑसबेल

Advertisement

3. रोबर्ट एम. गायने

4 लेव व्यागोत्सकी

Ans- 4

4. रश्मि अपनी कक्षा में विद्यार्थियों के सीखने की क्षमता को ध्यान में रखकर विभिन्न प्रकार के कार्यकलापों का उपयोग करती है और सहपाठियों द्वारा अधिगम को बढ़ावा देने के लिए समूह भी बनाती है। निम्नलिखित में से कौन-सा इसका समर्थन करता है?

1. सिग्मंड फ्रॉयड का मनो यौनिक सिद्धांत

2. लेव वायगोत्सकी का सामाजिक सांस्कृतिक सिद्धांत

3. लॉरेंस कोहलबर्ग का नैतिक विकास का सिद्धांत

4. बी. एफ. स्किनर का व्यवहारवादी सिद्धांत

Ans- 2 

5. वायोगात्सकी के सिद्धांत के अनुसार ‘निजी संवाद’ 

1. बच्चों के आत्मकेंद्रीयता का घोतक है।

2. बच्चों के क्रियाकलापों और व्यवहार का अवरोधक है।

3. जटिल कार्य करते समय बच्चे को उसके व्यवहार संचालन में सहायता देता है।

4. यह संकेत देता है कि संज्ञान कभी भी आंतरिक नहीं होता।

Ans- 3 

6. कौन सा कथन लेव व्यागोत्सकी के मूल सिद्धांत को सही मायने में दर्शाता है?

1. अधिगम एक अन्तमन प्रक्रिया है।

2. अधिगम एक सामाजिक क्रिया है।

Advertisement

3. अधिगम उत्पतिमूलक क्रमादेश है। 

4. अधिगम एक अक्रमबद्ध प्रक्रिया है जिसके चार चरण है।

Ans- 2 

7. इनमें से कौन-सा अध्यापक द्वारा पाड़ का उदाहरण नहीं है?

1. अनुकरण के लिए कौशलों का प्रदर्शन करना

2. रटना

3. इशारे एवं संकेत

4. सहपाठियों संग साझा शिक्षण

Ans- 2 

8. लेव वायगोत्सकी के संज्ञानात्मक विकास के सिद्धांत को ……….. कहा जाता है क्योंकि वे तर्क देते हैं कि बच्चों का सीखना संदर्भ में होता है।

1. मनोगतिशील

2. मनोलैंगिक

3. सामाजिक सांस्कृतिक

4. व्यवहारात्मक

Ans- 3 

9. जब कोई अध्यापिका किसी विद्यार्थी को उसके विकास के निकटस्थ क्षेत्र पर पहुंचाने के लिए सहायता को उसके निष्पादन के वर्तमान स्तर के अनुरूप है, तो अध्यापिका किस नीति का प्रयोग कर रही है। कर रही है।

1. सहयोगात्मक अधिगम का प्रयोग

2. अंतर पक्षता का प्रदर्शन

Advertisement

3. पाड़

4. विद्यार्थी में संज्ञानात्मक द्वंद पैदा करना

Ans- 3

10. लेव वायगोत्सकी द्वारा दिए बच्चों के विकास का सिद्धांत किस पर आधारित है ?

1. भाषा और संस्कृति

2. भाषा और परिपक्वता

3. भाषा और भौतिक जगत

4. परिपक्वता और संस्कृति

Ans- 1

11.समीपस्थ विकास के क्षेत्र’ की संरचना किसने प्रतिपादित की थी?

1. लॉरेंस कोहल

2. लेव वायगोत्स्की

3. ज़ोरोंन ब्रूनर

4. जीन पियाजे

Ans- 2 

12. निम्न में से कौन-सा कथन बच्चों के संज्ञानात्मक विकास के विषय में जीन पियाजे और लेव वायगोत्सकी के विचारों के बीच मुख्य अंतर दर्शाता है?

1. पियाजे बच्चों के स्वतंत्र प्रयासों द्वारा जगत को अनुभव करने पर जोर देते हैं, जबकि वायगोत्स्की संज्ञानात्मक विकास को सामाजिक मध्यस्थ प्रक्रिया के रूप में देखते हैं। 

2. पियाजे बच्चों को सक्रिय स्वतंत्र जीव के रूप में देखते हैं, जबकि वायगोत्स्की उन्हें मुख्यतः वातावरण द्वारा नियंत्रित जीव के रूप में देखते हैं।

Advertisement

3. पियाजे भाषा को बच्चों के संज्ञानात्मक विकास के लिए महत्वपूर्ण मानते हैं, जबकि विकास पर बल देते हैं।

4. पियाजे के अनुसार बच्चे अपने मार्गदर्शन के लिए स्वयं से बात कर सकते हैं, जबकि वायगोत्सकी के लिए बच्चों की बात आत्मकेन्द्रीयता का द्योतक है।

Ans- 1 

13. एक अध्यापिका शिक्षण-अधिगम प्रक्रिया में विद्यार्थियों को सहपाठियों से अंतः क्रिया कराकर एवं सहारा देकर अध्यापन करती है। यह शिक्षण अधिगम की प्रक्रिया किस पर आधारित है ?

1. लॉरेंस कोहलबर्ग के नैतिक विकास सिद्धांत पर 

2. जीन पियाजे के संज्ञानात्मक विकास सिद्धांत पर

3. लेव वायगोत्स्की के सामाजिक-सांस्कृतिक सिद्धांत पर

4. हावर्ड गार्डनर के बहुआयामी बुद्धि सिद्धांत पर

Ans- 3 

14. वायगोत्स्की के सिद्धान्त के अनुसार ‘सहायक खोज’ किस में सहायक है।

1. संज्ञानात्मक द्वंद्व

2. उत्प्रेरक-प्रतिक्रिया सहचर्य

3. पुनर्बलन

4. सहपाठी- सहयोग

Ans- 4 

15. कक्षा में विद्यार्थियों को त्यौहारों को मनाने के अपने अनुभवों को साझा करने के देना और उसके आधार पर सूचना निर्मित करने को बढ़ावा देना किसका उदाहरण है। ?

1. व्यवहारवाद

2. पाठ्यपुस्तक आधारित अध्यापन

Advertisement

3. सामाजिक संरचनावाद

4. प्रत्यक्ष निर्देशन

Ans- 3

ये भी पढे:-

CTET 2022: सीटेट परीक्षा के लिए बुद्धि परीक्षण पर आधारित इन सवालों से करे अपनी अंतिम तैयारी!

CTET 2022: हिन्दी भाषा शिक्षण के इन सवालों से करे अपनी बेहतर तैयारी

Advertisement

Continue Reading

Trending