Connect with us

CTET

CTET Exam: ‘बाल विकास एवं शिक्षाशास्त्र’ के इन बेहद महत्वपूर्ण सवालों को परीक्षा हॉल में जाने से पहले एक बार जरुर पढ़ें!

Published

on

CTET MCQ on Child Development and Pedagogy
Advertisement

CTET MCQ on Child Development and Pedagogy: केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड द्वारा सीटेट परीक्षा का आयोजन 28 दिसंबर 2022 से 7 फरवरी 2023 तक किया जाएगा। जिसमे देशभर से लाखों की संख्या में अभ्यर्थी शामिल होंगे। अगर आप भी शिक्षक के रूप में अपना कैरियर बनाना चाह रखते हैं। और इस परीक्षा में सम्मिलित होने जा रहे है, तो यहां पर हम आपके लिए बाल विकास एवं शिक्षाशास्त्र से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण प्रश्न लेकर आए हैं, जो कि इस प्रकार है।

सीटेट परीक्षा में बेहतर परिणाम के लिए बड़े बाल विकास एवं शिक्षाशास्त्र से जुड़े यह प्रश्न—Child Development and Pedagogy Important MCQ CTET Exam

1. बच्चों की असफलता के संदर्भ में निम्न में से कौन-सा कथन सही है? 

Which of the following statements about children’s ‘failure’ is correct?

Advertisement

1) बच्चे की असफलता का गुणारोपण हमेशा आनुवंशिक दोषों को किया जा सकता है। / Child’s failure can always be attributed to genetic defects. 

2) बच्चों की असफलता का कारण व्यस्था द्वारा बच्चों की व्यक्तिगत ज़रूरतों को अनदेखा करना है। / Child’s failure is a reflection of the system’s inability to cater to her individual needs. 

3) वे बालक जो कभी स्कूल नहीं गए हैं अपने बच्चों की शिक्षा में रुचि नहीं रखते हैं। / Children whose parents have themselves never been to school are not interested in the education of their children.

4) हाशिए पर रहने वाले समुदायों के बच्चे अकादमिक सफलता प्राप्त करने में सक्षम नहीं हैं। / Children belonging to marginalized communities are not capable of achieving academic success.

Ans- 2 

2. अनुपमा अपनी कक्षा में विज्ञान पढ़ाते हुए गणित के संप्रत्ययों के साथ संबंध बनाती है। इस प्रकार का शिक्षा शास्त्र –

Anupama, a science teacher, often makes linkages in her classrooms with the concepts students are studying in Mathematics. This kind of pedagogy –

1) अधिगम के स्थानांतरण और अंतः विषयात्मक अधिगम को बढ़ावा देगा। / would help in transfer of learning and promote inter-disciplinarity. 

2) ज्ञान के अर्जन में रुकावट उत्पन्न करेगा। / would hinder in acquisition of knowledge. 

3) अधिगम में रुकावट उत्पन्न करेगा क्योंकि यह छात्रों के बोझ को बढ़ाएगा। / would hinder learning as it would increase the students burden.

4) छात्रों में भ्रांतियों को बढ़ावा देंगा / would promote misconceptions amongst children.

Ans- 1 

3. एक शिक्षिका अपनी प्राथमिक कक्षा में अर्थपूर्ण अधिगम को कैसे बढ़ावा दे सकती है? 

How can a teacher enhance effective learning in her elementary classroom?

1) प्रशिक्षण तथा अभ्यास द्वारा / By drill and practice

Advertisement

2) प्रतिस्पर्धा को बढ़ावा देकर / By encouraging competition

3) विषयवस्तु का विद्यार्थियों के जीवन के साथ संबंध स्थापित करके By connecting the context to the lives of the students

4) अधिगम की छोटी-छोटी उपलब्धियों के लिए पुरस्कार देकर / By offering rewards at every step in learning

Ans- 3 

4. निम्नलिखित में से कौन-से उपकरण अधिगम की कठिनाई की विशिष्ट प्रकृति के निदान में सहायक नहीं है? /Which of the following tool(s) is/are NOT helpful in diagnosing specific nature of the learning difficulty?

(a) कक्षा का अवलोकन/Classroom observations 

(b) मौखिक प्रतिक्रियाओं का विश्लेषण /Analysis of oral responses

(c) छात्रों का लिखित कार्य/Written work of the students 

(d) संचयी और उपाख्यानात्मक अभिलेख /Cumulative and anecdotal record

(e) योग्यता परीक्षण/Aptitude test

1) केवल (a) और (b) / (a) and (b)

2) केवल (a) और (e) / (a) and (e)

3) केवल (c) और (d) / (c) and (d) 

4) केवल (e) / only (e)

Ans- 4 

5. बहुभाषी कक्षा के लिए निम्नलिखित में से कौन-सा कथन सर्वाधिक उपयुक्त होगा ? 

Which of the following will be the most appropriate statement for a multicultural/multilingual classroom?

1) स्कूल को केवल उन्हीं छात्रों की भरती करनी चाहिए जो स्कूल द्वारा निर्धारित अनुदेश की भाषा में संवाद कर सकते हैं।। School should admit only those students who can communicate in the medium of instruction used in the school.

Advertisement

2) शिक्षक को सभी भाषाओं का सम्मान करना चाहिए और छात्रों को उस भाषा में संवाद करने के लिए प्रोत्साहित करना चाहिए जिनका प्रयोग करने में उन्हें आसानी हो। / Teacher should respect all languages and encourage students to communicate in the language which they are comfortable to speak. 

3) शिक्षक को उन छात्रों को दंडित करना चाहिए जो स्कूल द्वारा निर्धारित अनुदेश की भाषा के अलावा अन्य भाषाओं में संवाद करते हैं। / Teacher should penalize those students who communicate in the language other than the specified medium of instruction. 

4) स्कूल द्वारा निर्धारित अनुदेश की भाषा में ही सभी का मूल्यांकन होना चाहिए। / Assessment should only be done in the medium of instruction specified by school.

Ans- 2 

6. निम्नलिखित में से कौन-सा पूर्णतः अनुवांशिकी द्वारा पूर्व निर्धारित होता है? 

Which of the following is definitely predetermined by genetics/heredity?

1) मित्रों का चयन / Choice of friends

2) आखों का रंग / Colour of the eyes 

3) शैक्षणिक सफलता / Academic success

4) शिक्षा में रुचि / Interest in studies

Ans- 2

7. निम्र में से कौन-सा कथन सार्थक अधिगम की श्रेष्ठ परिभाषा देता है? 

Which of the following statements best defines meaningful learning?

1) अधिगम पाठ्यपुस्तकों में दिए गए तथ्यों को याद करने तक सीमित है। / Learning is limited to remembering facts given in textbooks.

2) अधिगम एक सक्रिय प्रक्रिया है जो बच्चों द्वारा विद्यालय के बाहर ली गई को सम्मिलित करती है। । Learning is an active process that takes into account the information children learn outside of school. 

3) अधिगम को केवल पेपर पेंसिल आधारित मानकीकृत परीक्षाओं द्वारा ही मापा जा सकता है। / Learning is measurable by use of standardized paper pencil tests only. 

4) अधिगम प्रक्रिया में, विद्यार्थियों को केवल शिक्षक द्वारा जानकारी मिलनी चाहिए। / In the process of learning, a student should receive information from the teacher only.

Ans- 2  

Advertisement

8. एक कक्षा में विद्यार्थी छोटे-छोटे समूहों में एक नियत कार्य पर लगे हुए हैं और प्रत्येक समूह का एक सहायक है। किस उपागम का कक्षा में उपयोग हो रहा है?

In a classroom students are working in small groups on a task and teacher facilitates each group. Which approach is being followed in the classroom?

1) व्यावहारवादी / Behaviouristic

2) संरचनावादी / Constructivist 

3) मनोविश्लेषणवादी / Psychoanalytic

4) व्याख्यात्मक / Expository

Ans- 2 

9. निम्न में से कौन-सा कथन मूल्यांकन हेतु मानकीकृत परीक्षणों के संदर्भ में सही है ? 

Standardized tests of assessment –

1) यह छात्रों में अपसारी चिंतन को प्रोत्साहित करते हैं। / prompts divergent thinking in students. 

2) वे मूल्यांकन के सख्त ढांचों/संरचनाओं पर आधारित हैं। / are based on rigid structures of evaluation. 

3) वे अधिगमकर्ताओं की आवश्यकताओं और विविधताओं पर आधारित विभिन्न विधियों का प्रयोग करते हैं। / employ multiple methods on needs and diversity of learners. 

4) वे मानते हैं कि प्रत्येक व्यक्ति भिन्न गति से सीखता है। । acknowledge that each individual learns at a different pace.

Ans- 2 

10. समायोजन तब घटित होता है, जब-

Accommodation occurs when –

1) बच्चे अपने अनुभवों को वर्तमान स्कीमाओं में सम्मिलित करने के लिए उनका रूपांतरण करते हैं। / children transforms their experience to fit into existing schemas.

2) बच्चे अपने वर्तमान स्कीमाओं में परिवर्तन करके नए अनुभवों के अभिप्राय को समझते हैं। / the children modify their schemas to make sense of new experiences. 

Advertisement

3) बच्चे अपने स्कीमाओं को असंबद्धित खण्डों में बांट देते हैं। / the children break down their schemas into disconnected chunks.

4) बच्चे अपने मूर्त अनुभवों की जगह अमूर्त विषयों पर ध्यान केंद्रित करते हैं। / the children focuses on abstract things rather than concrete experiences.

Ans- 2 

11. बच्चों के प्राथमिक समाजीकरण के लिए निम्न में से कौन सी संस्था ज़िम्मेदार है ? 

Which of the following is a primary agency of socialization for children?

1) विद्यालय / School

2) धर्म / Religion 

3) परिवार / Family

4) समुदाय / Community

Ans- 3 

12. कक्षा में बच्चों के अधिगम को सहयोग देने के लिए निम्न में से कौन-सी योजना प्रभावशाली नहीं है? 

Which of the following is NOT an effective strategy to support children’s learning in the classroom?

1) संप्रत्यय मानचित्रों के निर्माण में बच्चों की सहायता / Helping students develop concept maps

2) बच्चों को स्मृति सहायक विधियों और खण्डीकरण का उपयोग सीखना / Teaching students the use of mnemonics and chunking

3) बच्चों को प्रश्नों के उत्तर की निष्क्रिय नकल उतारने के लिए कहना  / Asking students to passively copy the solution of question

4) बच्चों को अपने सहयोगियों के साथ बैठकर सीखने के लिए प्रेरित करना / Encouraging children to sit and learn with peers.

Ans- 3 

13. निम्नलिखित में कौन सा/से उद्देश्य खोज आधारित शिक्षण से प्राप्त – होता है?/Which of the following is/are achieved through enquiry based learning?

Advertisement

(a) विद्यार्थियों की जिज्ञासा में वृद्धि होती है। /Enhancement in curiosity of the student 

(b) विद्यार्थियों की सीखने में व्यस्तता/Students’ engagement in learning

(c) छात्रों में परस्पर सामाजिक अंतः क्रिया /Social interaction among students

(d) निम्न स्तरीय संज्ञानात्मक प्रक्रिया का विकास/Developing lower order cognitive process

1) केवल c और d / (c) and (d) only 

2) केवल a और b / (a) and (b) only

3) केवल a, b और d / (a), (b) and (d) only

4) केवल a, b और c / (a), (b) and (c) only

Ans-  4

14.  निम्नलिखित में से कौन सी शैक्षणिक प्रणाली अत्यधिक दृष्टिबाधिता से जूझते हुए विद्यार्थियों के समावेशन हेतु प्रभावशाली नहीं है?

Which is the following is NOT an effective pedagogical strategy for the inclusion of students with severe visual impairment?

1) प्रत्यक्ष और स्पष्ट रूप से बोलना व पढ़ाना / Speaking clearly and explicitly 

2) त्रि-आयामी नक्शे और चार्ट / Three dimensional maps and charts 

3) ऐसी किताबें और बोर्ड जिनको छुआ या महसूस किया जा सकता है / Felt books and felt boards 

4) दृश्यात्मक प्रस्तुतीकरण देने के लिए कम्प्यूटर का उपयोग / Use of computers to give visual presentations

Ans- 4 

15. विकास के चरणों के संदर्भ में 2 से 6 वर्ष तक की अवस्था को क्या कहा जाता है? 

In context of stages of development, what is the stage from 2 to 6 years called?

Advertisement

1) प्रारंभिक बाल्यावस्था / Early childhood 

2) मध्य बाल्यावस्था / Middle childhood

3) शैशवावस्था / Infancy

4) किशोरावस्था / Adolescence

Ans- 1 

Read More:-

CTET 2022-23: सीटीईटी पेपर 2 में पूछे जाने वाले SST से जुड़े कुछ 15 रोचक सवाल, यहां पढ़िए

CTET 2022-23: सीटेट परीक्षा में श्रेष्ठ परिणाम प्राप्त करने के लिए ‘पर्यावरण’ के इन सवालों का अध्ययन जरूर करें!

यहाँ हमने आगामी सीटीईटी परीक्षा की तैयारी कर रहे अभ्यर्थीयो के लिए ‘बाल विकास एवं शिक्षाशास्त्र’ से जुड़े महत्वपूर्ण सवाल (CTET MCQ on Child Development and Pedagogy) विषय के महत्वपूर्ण सवालों का अध्ययन किया है CTET सहित सभी शिक्षक पात्रता परीक्षा की बेहतर तैयारी के लिए आप हारे TELEGRAM CHANNEL के सदस्य जरूर बने Join Link नीचे दी गई है?

Advertisement

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

CTET

UP Teacher Vacancy 2023: योगी सरकार का तोहफा, 51 हजार शिक्षक भर्ती जल्द, CTET-UPTET क्वालीफाई को मिलेगी एंट्री

Published

on

By

Advertisement

UP Shikshak Bharti 2023 (UPDATED): उत्तर प्रदेश में लंबे समय से शिक्षक भर्ती परीक्षा का इंतजार कर रहे अभ्यर्थियों के लिए अच्छी खबर है. उत्तर प्रदेश बेसिक शिक्षा परिषद (UPBEB) जल्द ही शिक्षक के 51 हजार से अधिक रिक्त पदों पर बंपर भर्ती निकालने वाला है. नवभारत टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक लोकसभा चुनाव से पहले योगी सरकार प्रदेश में  माध्यमिक व राजकीय विद्यालयों में रिक्त शिक्षकों के पदों पर भर्ती करने जा रही है.

इतने पदों पर होगी भर्ती

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक बेसिक शिक्षा विभाग में टीजीटी/ पीजीटी शिक्षकों के लगभग 51 हजार से अधिक पद रिक्त हैं, इसके अलावा राजकीय विद्यालयों में शिक्षकों के 7 हजार 471 पद रिक्त हैं. तो वही बात करें प्रवक्ता तथा सहायक अध्यापकों के पदों कि तो बताया जा रहा है प्रवक्ता के 2115 जबकि सहायक अध्यापक के 5256 पद खाली हैं जिनपर भर्ती की जानी है.

CTET-UPTET पास कर सकेंगें आवेदन

Advertisement

उत्तर प्रदेश के प्राइमरी तथा अपर प्राइमरी सरकारी स्कूलों में शिक्षकों की भर्ती सुपर टेट परीक्षा (SUPER TET) के माध्यम से की जाती है, जिसका आयोजन उत्तर प्रदेश बेसिक एजुकेशन बोर्ड द्वारा किया जाता है. सुपर टेट परीक्षा में केवल वे अभ्यर्थी ही शामिल हो सकते हैं जिन्होंने यूपी टेट परीक्षा (Uttar Pradesh Teacher Eligibility TestUPTET) पास की हो.  बहुत से अभ्यर्थियों के मन में यह सवाल भी रहता है कि क्या सीटेट परीक्षा क्वालीफाई अभ्यर्थी यूपी शिक्षक भर्ती परीक्षा में शामिल हो सकते हैं? 

आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश शिक्षक भर्ती परीक्षा यानी सुपर टेट में शामिल होने के लिए उम्मीदवार को किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से स्नातक डिग्री तथा टीचिंग ट्रेनिंग कोर्स (D.El.Ed, BTC, B.Ed. आदि) पास किया होना चाहिए साथ ही UPBEB द्वारा आयोजित यूपी टेट परीक्षा पास होना जरूरी है. इसके अलावा पेपर -1 के लिए सीटेट पास अभ्यर्थी भी सुपर टेट परीक्षा देने के पात्र होते हैं. 

यदि बात करें आयु सीमा की तो न्यूनतम 21 वर्ष से लेकर अधिकतम 40 वर्ष की आयु वाले अभ्यर्थी सुपर टेट परीक्षा के लिए आवेदन कर सकते हैं हालांकि उत्तर प्रदेश के मूल निवासी अभ्यर्थियों को कैटेगरी वाइज अधिकतम आयु में छूट का प्रावधान है अधिक जानकारी के लिए आधिकारिक नोटिफिकेशन पढ़ें.

इच्छुक उम्मीदवार आधिकारिक वेबसाइट ctet.nic.in पर जाकर अपना आवेदन सबमिट कर सकते हैं. सीटेट परीक्षा पास करने पर उम्मीदवार सुपर टेट के साथ ही केंद्र सरकार द्वारा संचालित केंद्रीय विद्यालय, नवोदय विद्यालय तथा आर्मी पब्लिक स्कूल आदि में निकलने वाली शिक्षकों की भर्ती में भी शामिल हो सकते हैं.

कब आएगा यूपीटीईटी नोटिफ़िकेशन? (UPTET 2023 Notification Update)

उत्तर प्रदेश में शिक्षक बनने की चाह रखने वाले लाखों अभ्यर्थी उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा यानी यूपीटीईटी के नोटिफिकेशन का इंतजार कर रहे हैं नवीनतम मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक यूपीटीईटी परीक्षा का नोटिफिकेशन फ़रवरी 2023 के अंतिम सप्ताह या मार्च के पहले सप्ताह तक जारी किया जा सकता है। नोटिफिकेशन जारी होने के बाद अभ्यर्थी आधिकारिक वेबसाइट updeled.gov.in पर जाकर आवेदन कर पाएंगे. जिसके बाद अप्रैल महीने में ऑनलाइन मोड में UPTET परीक्षा आयोजित की जाएगी.

अधिक जानकारी के लिए अभ्यर्थी लगातार शिक्षा विभाग की वेबसाइट पर विजिट करते रहें बता दें कि यूपीटीईटी परीक्षा में शामिल होने के लिए अभ्यर्थी की उम्र 18 साल या उससे अधिक होनी चाहिए इसके साथ ही बैचलर डिग्री या समकक्ष डिप्लोमा होना जरूरी है।

Read More:

CTET Exam 2023: ‘अल्बर्ट बंडूरा के सिद्धांत’ से जुड़े कुछ ऐसे सवाल ही पूछे जा रहे हैं सीटेट परीक्षा की सभी शिफ्टों में

Advertisement

Continue Reading

CTET

CTET Answer Key 2023: शिक्षक पात्रता परीक्षा की आंसर की करें डाउनलोड, जानें कब तक आयेगा परीक्षा परिणाम 

Published

on

By

Advertisement

CTET Answer Key 2023: केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड याने CBSE द्वारा आयोजित की जाने वाली CTET परीक्षा आज 7 फ़रवरी को पूरी हो चुकी है, यह परीक्षा 28 दिसंबर अग़ल-अलग दिन दो शिफ्ट में आयोजित की जा रही है जिसमें शिक्षक बनने की चाह रखने वाले लाखों अभ्यर्थी शामिल हुए है। अब परीक्षा की समाप्ति के बाद अभ्यर्थी अपनी आंसर की जारी होने का इंतज़ार कर रहे है, बता दें कि परीक्षा समाप्ति के कुछ दिन के भीतर ही CBSE द्वारा आंसर की जारी कर दी जाती है।

इस दिन जारी होगी आंसर की 

CTET परीक्षा में शामिल हुए अभ्यर्थियों का इंतज़ार जल्द ही ख़त्म होने वाला है मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक़ CBSE द्वारा 11 फ़रवरी 2023 को आधिकारिक वेबसाइट ctet.nic.in पर CTET पेपर 1 तथा पेपर 2 की आंसर की जारी कर दी जाएगी। इसके बाद मार्च माह में फाइनल आंसर-की तथा परीक्षा परिणाम जारी किया जा सकता है।

बता दें आंसर की लिंक ऐक्टिव होने के बाद उम्मीदवार अपने रजिस्ट्रेशन नंबर तथा जन्म तारीख़ की सहायता से आधिकारिक वेबसाइट पर लॉगिन कर अपनी उत्तर कुंजी डाउनलोड कर पाएँगें।

Advertisement

परीक्षा में लागू होगा नॉर्मलिज़ेशन

सीबीएसई द्वारा दिसंबर 2021 में पहली बार CTET परीक्षा ऑनलाइन आयोजित की गई थी, तथा इस बार भी यह परीक्षा ऑनलाइन ही आयोजित हुई है। चुकी परीक्षा का आयोजन अलग- अगल दिन कई शिफ़्टों में किया गया है लिहाज़ा परीक्षार्थियों के मध्य समान प्रतिस्पर्द्धा क़ायम रखने के लिए नॉर्मलिज़ेशन व्यवस्था को लागू किया गया है। बता दें कि परीक्षा में नॉर्मलिज़ेशन होने की जानकारी CBSE द्वारा नोटिफिकेशन जारी कर पहले ही दे दी गई थी। 

CTET Exam Cut Off 2023

सीटीएटी परीक्षा में कैटेगरी वाइज कटऑफ़ निर्धारित किया गया है। पेपर 1 तथा पेपर 2 के लिए कट ऑफ अंक समान है। सामान्य वर्ग के अभ्यर्थी को इस परीक्षा में पास होने के लिए 60 प्रतिशत अंक याने 150 नंबर के पेपर में 90 अंक लाना होगा, जबकि आरक्षित वर्ग के अभ्यर्थियों को 55 प्रतिशत अंक यानें 150 अंक के पेपर में 82 अंक लाना होगा।

CategoryMinimum qualifying percentageMinimum qualifying Marks
Schedule Caste (SC)55%82 out of 150
Schedule Tribe (ST)55%82 out of 150

CTET Exam 2023 Important FAQs

क्या सीटीईटी परीक्षा में नेगेटिव मार्किंग होती है?

नहीं, CBSE द्वारा आयोजित सीटीईटी परीक्षा में किसी भी प्रकार की नकारात्मक मार्किंग नहीं की जाती है।

सीटीईटी सर्टिफिकेट की वैद्यता कितने वर्ष होती है?

आजीवन, CTET परीक्षा पास करने वालों अभ्यर्थियों को मिलने वाले सर्टिफिकेट की वैद्यता लाइफ टाइम कर दी गई है जो पहले 7 वर्ष थी।

सीटीईटी परीक्षा में शामिल होने के लिए आयु सीमा क्या है?

इस परीक्षा में शामिल होने के लिए अधिकतम उम्र सीमा निर्धारत नहीं है, हालाकि न्यूनतम आयु 18 वर्ष होना चाहिए।

सीटीईटी परीक्षा कितने बार दे सकते है?

उम्मीदवार जीतने बार चाहे उतने बार सीटीईटी परीक्षा में शामिल हो सकते है, जो अभ्यर्थी इस परीक्षा में पास हो चुके है वे अपने स्कोर को सुधार के लिए दुबारा परीक्षा दे सकते है।

Advertisement

Continue Reading

CTET

CTET 2022-23: लेव वाइगोत्सकी के सिद्धांत से परीक्षा में पूछे जा रहे है ये सवाल, अभी पढ़ें

Published

on

Lev Vygotsky's Theories Based MCQ For CTET
Advertisement

Lev Vygotsky’s Theories Based MCQ For CTET: शिक्षक बनने के लिए जरूरी सीटेट यानी केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा का आयोजन 7 फरवरी 2023 तक ऑनलाइन सीबीटी मोड में किया  जा रहा है.  यह परीक्षा 29 दिसंबर 2023 से शुरू हुई थी तथा अब 3, 4, 6  तथा 7 फरवरी को परीक्षा का आयोजन होना बाकी है.  यदि आप भी आगामी सीटेट परीक्षा में शामिल होने जा रहे हैं तो इस आर्टिकल में दी गई जानकारी आपके लिए बेहद महत्वपूर्ण हैं.

यहां पर हम नियमित रूप से सीटेट परीक्षा के लिए प्रैक्टिस सेट शेयर करते रहे हैं। इसी श्रृंखला में आज हम लेव वाइगोत्सकी के सिद्धांत पर आधारित कुछ ऐसे सवाल लेकर आए हैं, जो की परीक्षा में पूछे जा सकते हैं। तो लिए जाने इन महत्वपूर्ण सवालों को जो की इस प्रकार हैं।

Read More: CTET 2023: हर शिफ्ट में पूछे जा रहे है ‘जीन पियाजे’ के सिध्दांत से ये सवाल, इन्हें पढ़ कर पक्के करे नंबर

Advertisement

 लेव वाइगोत्सकी के सिद्धांत से जुड़े संभावित प्रश्न—CTET Exam Lev Vygotsky’s Theories Related Questions

1. लेव वाइगोत्स्की के अनुसार, निम्न में से किसके लिए “समीपस्थ विकास क्षेत्र” का इस्तेमाल करना चाहिए?

1. अध्यापन और मूल्याँकन

2. केवल अध्यापन

3. केवल मूल्यांकन

4. प्रवाही बौद्धिकता की पहचान

Ans- 1 

2. एक विशिष्ट संप्रत्यय को पढ़ाने हेतु एक अध्यापिका बच्चे को आधा हल किया हुआ उदाहरण देती है। लेव वायगोत्सकी के अनुसार अध्यापिका किस रणनीति का इस्तेमाल कर रही है?

1. अवलोकन अधिगम

2. पाड़

3. द्वंद्वात्मक अधिगम

4. अनुकूलन

Ans- 2 

3. ‘समीपस्थ विकास के क्षेत्र का संप्रत्यय किसने प्रतिपादित किया है?

1. जेरोम ब्रूनर

2. डेविड ऑसबेल

Advertisement

3. रोबर्ट एम. गायने

4 लेव व्यागोत्सकी

Ans- 4

4. रश्मि अपनी कक्षा में विद्यार्थियों के सीखने की क्षमता को ध्यान में रखकर विभिन्न प्रकार के कार्यकलापों का उपयोग करती है और सहपाठियों द्वारा अधिगम को बढ़ावा देने के लिए समूह भी बनाती है। निम्नलिखित में से कौन-सा इसका समर्थन करता है?

1. सिग्मंड फ्रॉयड का मनो यौनिक सिद्धांत

2. लेव वायगोत्सकी का सामाजिक सांस्कृतिक सिद्धांत

3. लॉरेंस कोहलबर्ग का नैतिक विकास का सिद्धांत

4. बी. एफ. स्किनर का व्यवहारवादी सिद्धांत

Ans- 2 

5. वायोगात्सकी के सिद्धांत के अनुसार ‘निजी संवाद’ 

1. बच्चों के आत्मकेंद्रीयता का घोतक है।

2. बच्चों के क्रियाकलापों और व्यवहार का अवरोधक है।

3. जटिल कार्य करते समय बच्चे को उसके व्यवहार संचालन में सहायता देता है।

4. यह संकेत देता है कि संज्ञान कभी भी आंतरिक नहीं होता।

Ans- 3 

6. कौन सा कथन लेव व्यागोत्सकी के मूल सिद्धांत को सही मायने में दर्शाता है?

1. अधिगम एक अन्तमन प्रक्रिया है।

2. अधिगम एक सामाजिक क्रिया है।

Advertisement

3. अधिगम उत्पतिमूलक क्रमादेश है। 

4. अधिगम एक अक्रमबद्ध प्रक्रिया है जिसके चार चरण है।

Ans- 2 

7. इनमें से कौन-सा अध्यापक द्वारा पाड़ का उदाहरण नहीं है?

1. अनुकरण के लिए कौशलों का प्रदर्शन करना

2. रटना

3. इशारे एवं संकेत

4. सहपाठियों संग साझा शिक्षण

Ans- 2 

8. लेव वायगोत्सकी के संज्ञानात्मक विकास के सिद्धांत को ……….. कहा जाता है क्योंकि वे तर्क देते हैं कि बच्चों का सीखना संदर्भ में होता है।

1. मनोगतिशील

2. मनोलैंगिक

3. सामाजिक सांस्कृतिक

4. व्यवहारात्मक

Ans- 3 

9. जब कोई अध्यापिका किसी विद्यार्थी को उसके विकास के निकटस्थ क्षेत्र पर पहुंचाने के लिए सहायता को उसके निष्पादन के वर्तमान स्तर के अनुरूप है, तो अध्यापिका किस नीति का प्रयोग कर रही है। कर रही है।

1. सहयोगात्मक अधिगम का प्रयोग

2. अंतर पक्षता का प्रदर्शन

Advertisement

3. पाड़

4. विद्यार्थी में संज्ञानात्मक द्वंद पैदा करना

Ans- 3

10. लेव वायगोत्सकी द्वारा दिए बच्चों के विकास का सिद्धांत किस पर आधारित है ?

1. भाषा और संस्कृति

2. भाषा और परिपक्वता

3. भाषा और भौतिक जगत

4. परिपक्वता और संस्कृति

Ans- 1

11.समीपस्थ विकास के क्षेत्र’ की संरचना किसने प्रतिपादित की थी?

1. लॉरेंस कोहल

2. लेव वायगोत्स्की

3. ज़ोरोंन ब्रूनर

4. जीन पियाजे

Ans- 2 

12. निम्न में से कौन-सा कथन बच्चों के संज्ञानात्मक विकास के विषय में जीन पियाजे और लेव वायगोत्सकी के विचारों के बीच मुख्य अंतर दर्शाता है?

1. पियाजे बच्चों के स्वतंत्र प्रयासों द्वारा जगत को अनुभव करने पर जोर देते हैं, जबकि वायगोत्स्की संज्ञानात्मक विकास को सामाजिक मध्यस्थ प्रक्रिया के रूप में देखते हैं। 

2. पियाजे बच्चों को सक्रिय स्वतंत्र जीव के रूप में देखते हैं, जबकि वायगोत्स्की उन्हें मुख्यतः वातावरण द्वारा नियंत्रित जीव के रूप में देखते हैं।

Advertisement

3. पियाजे भाषा को बच्चों के संज्ञानात्मक विकास के लिए महत्वपूर्ण मानते हैं, जबकि विकास पर बल देते हैं।

4. पियाजे के अनुसार बच्चे अपने मार्गदर्शन के लिए स्वयं से बात कर सकते हैं, जबकि वायगोत्सकी के लिए बच्चों की बात आत्मकेन्द्रीयता का द्योतक है।

Ans- 1 

13. एक अध्यापिका शिक्षण-अधिगम प्रक्रिया में विद्यार्थियों को सहपाठियों से अंतः क्रिया कराकर एवं सहारा देकर अध्यापन करती है। यह शिक्षण अधिगम की प्रक्रिया किस पर आधारित है ?

1. लॉरेंस कोहलबर्ग के नैतिक विकास सिद्धांत पर 

2. जीन पियाजे के संज्ञानात्मक विकास सिद्धांत पर

3. लेव वायगोत्स्की के सामाजिक-सांस्कृतिक सिद्धांत पर

4. हावर्ड गार्डनर के बहुआयामी बुद्धि सिद्धांत पर

Ans- 3 

14. वायगोत्स्की के सिद्धान्त के अनुसार ‘सहायक खोज’ किस में सहायक है।

1. संज्ञानात्मक द्वंद्व

2. उत्प्रेरक-प्रतिक्रिया सहचर्य

3. पुनर्बलन

4. सहपाठी- सहयोग

Ans- 4 

15. कक्षा में विद्यार्थियों को त्यौहारों को मनाने के अपने अनुभवों को साझा करने के देना और उसके आधार पर सूचना निर्मित करने को बढ़ावा देना किसका उदाहरण है। ?

1. व्यवहारवाद

2. पाठ्यपुस्तक आधारित अध्यापन

Advertisement

3. सामाजिक संरचनावाद

4. प्रत्यक्ष निर्देशन

Ans- 3

ये भी पढे:-

CTET 2022: सीटेट परीक्षा के लिए बुद्धि परीक्षण पर आधारित इन सवालों से करे अपनी अंतिम तैयारी!

CTET 2022: हिन्दी भाषा शिक्षण के इन सवालों से करे अपनी बेहतर तैयारी

Advertisement

Continue Reading

Trending