Connect with us

CTET

CTET 2021: SST NCERT (HISTORY) परीक्षा हाल में जाने से पहले, जरूर पढ़ लें ये सवाल

Published

on

Advertisement

CTET 2021:(SST History for CTET) केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा (CTET 2021)  के लिए एडमिट कार्ड ऑफिशल वेबसाइट ctet.nic.in पर जारी कर दिए हैं। यह परीक्षा 16 दिसंबर से 13 जनवरी 2022 तक ऑनलाइन सीबीटी मोड में ली जाएगी। परीक्षा दो शिफ्ट में आयोजित होगी पहली शिफ्ट सुबह 9:30 बजे से शुरू होगी और दोपहर 12:00 बजे समाप्त होगी, वहीं दूसरी शिफ्ट दोपहर 2:30 से शाम 5:00 बजे तक चलेगी। यदि आप भी सीटेट परीक्षा देने जा रहे हैं तो इस आर्टिकल में दी गई जानकारी आपके लिए बेहद खास है।

 केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा में अच्छे अंक हासिल करने के लिए अभ्यर्थी को परीक्षा के अंतिम दिनों में रिवीजन पर विशेष ध्यान देना चाहिए। हम रोजाना सीटेट परीक्षा हेतु विभिन्न टॉपिक्स पर मॉडल टेस्ट पेपर/मॉक टेस्ट तथा रिवीजन क्वेश्चन शेयर कर रहे हैं। इसी श्रंखला में आज हम सीटेट पेपर 2 में शामिल होने जा रहे उम्मीदवारों के लिए एसएसटी (SST History for CTET) के कुछ संभावित सवाल लेकर आए हैं जिन्हें अभ्यर्थी को परीक्षा में शामिल होने से पूर्व एक नज़र जरुर पढ़ लेना चाहिए।

एग्ज़ाम पैटर्न पर आधारित CTET HISTORY IMPORTANT MCQ’s- SST NCERT | CTET PAPAER -2

Q1. टीपू सुल्तान के क्षेत्रों में रैयतवाड़ी प्रणाली को पहले छोटे स्तर पर शुरू किसने किया था?

Advertisement

(a) अलेक्जेंडर रीड

(b) वारेन हेस्टिंग्स

(c) होल्ट मैकेंजी

(d) चार्ल्स कॉर्नवॉलिस

Ans:-(a)

Q2. इंडिगो की खेती की दो मुख्य प्रणालियां कौन-कौन सी हैं?

(a) निजी और रैयती

(b) रैयती और महल

(c) निजी और ज़ैद

(d) ज़ैद और रबी

Ans:-(a)

Q3. इंडिगो कमीशन ने किससे दोषी ठहराया था?

(a) रैयत

(b) बागान मालिक

(c) सरकार

Advertisement

(d) जमींदार

Ans:-(b)

Q4. सट्टा क्या था और किस प्रणाली में इसका उपयोग किया गया था?

(a) रैयत खेती में ऋण राशि

(b) अनुबंधन समझौता , निजी खेती में

(c) अनुबंधन समझौता , रैयत खेती में

(d) ऋण राशि , निज खेती में

Ans:-(c)

Q5. ‘खालसा’ की स्थापना करने वाले निम्न में से कौन थे ?

(a) गुरु तेग बहादुर

(b) गुरु गोविंद सिंह

(c) गुरु नानक देव

(d) गुरु अंगद देव

Ans:-(b)

Q6. चोल काल में सामंत किसे कहा जाता था?

(a) जमींदार

(b) वास्तुकार

(c) किसान

Advertisement

(d) मूर्तिकार

Ans:-(a)

Q7. हम्पी के बारे में निम्नलिखित में से कौन सा सही है?

(a) महानवमी उत्सव हम्पी में मनाया जाता है

(b) यह प्रश्न तुंगभद्रा बेसिन में स्थित है

(c) यहां दीवारों के निर्माण में किसी सीमेंट का उपयोग नहीं किया गया था

(d) उपरोक्त सभी

Ans:-(d)

Q8. सूरत के बारे में किसने कहा है कि विभिन्न देशों के औसतन 100 जहाजों को किसी भी समय इस बंदरगाह पर लंगर डालकर जहाज ठहराए जा सकते हैं?

(a) सर थॉमसन मालरी

(b) सैम मिलर

(c) फ्रैंकोइस गौटियर

(d) ओविग्टन

Ans:-(d)

Q9. वर्ण क्या है?

(a) वैदिक पुस्तकों का संग्रह है

(b) विभिन्न प्रकार के कुम्हारों का संग्रह

(c) बंदरों का प्रकार

Advertisement

(d) लोगों के विभिन्न समूह

Ans:-(d)

Q10. वज्जी की राजधानी क्या थी?

(a) राजगृह

(b) पाटलिपुत्र

(c) वैशाली

(d) मगध

Ans:-(c)

Q11. अंतिम गण या संघ पर किसने विजय प्राप्त की?

(a) मगध शासक

(b) गुप्त शासक

(c) गांधार शासक

(d) मौर्य शासक

Ans:-(b)

Q12. मध्यकाल में वाराणसी _____ था?

(a) बंदरगाह शहर

(b) प्रशासनिक केंद्र

(c) वाणिज्यिक शहर

Advertisement

(d) मंदिर शहर

Ans:-(d)

Q13. स्थाई बंदोबस्त में राजस्व एकत्र करने का प्रभार किसको दिया गया था?

(a) ग्राम प्रधान

(b) राजा और तालुकदार

(c) किसान

(d) उपरोक्त में से कोई नहीं

Ans:-(b)

Q14. दिए गए संकेत से बंदोबस्त की पहचान करें –

i. होल्ड मैकेंजी ने इस प्रणाली को पहली बार आजमाया था।

ii. राजस्व एकत्र करने का दायित्व ग्राम प्रधान को स्थानांतरित कर दिया गया।

(a) महलबाड़ी बंदोबस्त

(b) जमींनदारी बंदोबस्त

(c) रैयतवाड़ी बंदोबस्त

(d) स्थाई बंदोबस्त

Ans:-(a)

Q15. नील विद्रोह के बारे में क्या गलत है?

(a) बागान मालिकों के लिए काम करने वालों का सामाजिक बहिष्कार किया गया था।

Advertisement

(b) रैयत के पास जमीदारों का समर्थन था।

(c) रजत ने इंडिगो (नील) उगाने के समर्थन में विद्रोह किया।

(d) उपरोक्त सभी सकते हैं

Ans:-(c)

ये भी पढ़ें…

CTET 2021 SST Pedagogy Quick Revision MCQ: सीटेट परीक्षा देने जा रहे है तो ये प्रश्न जरूर पढ़ लेवें

CTET 2021 SST Pedagogy प्रैक्टिस सेट 2: परीक्षा के शेष दिनो मे इन सवालो से करे, परीक्षा की पक्की तैयारी

सीटीईटी सहित सभी TET परीक्षा की महत्वपूर्ण जानकारी प्राप्त करने के लिए हमारे Social Media Handle को फॉलो जरूर करें-

Advertisement

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *