Connect with us

CTET

CTET Exam 2022: ‘गणित पेडागोजी’ के यह सवाल दिलाएंगे आपको सीटेट परीक्षा में बेहतर परिणाम अभी पढ़ें

Published

on

Advertisement

CTET 2021 Math Pedagogy Practice Set 1: केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के द्वारा संचालित होने वाली सीटेट परीक्षा का आयोजन दिसंबर से जनवरी माह में किया जाएगा। लाखों अभ्यर्थियों ने इस परीक्षा के लिए अपना रजिस्ट्रेशन करवाया है। अगर आप भी इस परीक्षा में शामिल होने वाले हैं, तो आपके लिए यहां पर हम परीक्षा सिलेबस के आधार पर गणित पेडागोजी का प्रैक्टिस सेट आपके साथ साझा कर रहे है । जिसका अभ्यास आपको परीक्षा में शामिल होने से पूर्व अवश्य कर लेना चाहिए। ताकि आप जान पाए कि किस लेवल के सवाल सीटेट परीक्षा में पूछे जाते हैं और परीक्षा में बेहतर परिणाम प्राप्त कर सकें।

केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा के लिए गणित शिक्षण शास्त्र के महत्वपूर्ण प्रश्न—Math Pedagogy objective Type Questions For CTET Exam

Q.1 गणित से भयभीत होने और उसमें असफल होने के लिए निम्नलिखित में से किसे एक कारण नहीं माना जा सकता हैं?/Which of the following cannot be considered as a reason for fear and failure in mathematics.

A. प्रतीकात्मक । /Symbolic notations.

Advertisement

B. गणित की संरचना |/Structure of mathematics.

C. लैंगिक भेद । /Gender differences.

D. कक्षा-कक्ष के अनुभव/Classroom experiences.

Ans- C

Q.2 निम्नलिखित में से कौन सा गणितीय प्रक्रम नहीं है?/Which of the following is not a mathematical process.

A. पक्षांतरण।/Transposition.

B. मानसदर्शन |/. Visualisation.

C. कंठस्थ करना ।/Memorisation.

D. आकलन करना/Estimation.

Ans- C

Q. 3 एक बच्चा जिस अवस्था में सभी संख्या सम्बन्धी संक्रियाओं को करने में सक्षम है तथा भिन्नों के संप्रत्यय की व्याख्या करने में सक्षम है, वह अवस्था है?/A child who is able to perform all number operations and is able to explain the concept of fractions is at.

A. संक्रियात्मक अवस्था ।/Operational phase.

B. आरम्भिक अवस्था | /Emergent phase. 

C. परिमाणात्मक अवस्था ।/Quantifying phase.

D. विभाजनात्मक अवस्था ।/Partition phase.

Advertisement

Ans- A

Q.4 राष्ट्रीय पाठ्यचर्या रुपरेखा | 2005 के अनुसार, विद्यालयों में गणित शिक्षण का संकीर्ण उद्देश्य है?/As per NCF 2005, the narrow aim of teaching Mathematics at schools is.

A. संख्यात्मक कौशलों का विकास। /To develop numeracy related skills.

B. बीजगणित पढ़ाना ।/To teach algebra.

C. परिकलन व मापन पढ़ाना। /To teach calculation and measurements.

D. रैखिक बीजगणित से सम्बन्धित दैनिक जीवन की समस्याओं की शिक्षा |/To teach daily life problems related to linear algebra.

Ans- A 

Q.5 ‘आकृतियों’ की इकाई से अध्यापक, विद्यार्थियों से “आकृतियों के उपयोग की सहायता से किसी भी चित्र की रचना करने ” के लिए कहता है? इस क्रियाकलाप से निम्नलिखित में से कौन-सा उद्देश्य प्राप्त किया जा सकता है? /From the unit of ‘figures’ the teacher asks the students to “construct any picture using shapes”? Which of the following objectives can be achieved by this activity? 

A. ज्ञान ।/Knowledge.

B. समझ / बोध |/Understanding

C. रचना / सृजन ।/Creation/Creation 

D. अनुप्रयोग।/Applications.

Ans- C

Q.6 गणित में ‘प्रतिचित्रण’ के लिए निम्नलिखित कथनों में से कौन-सा सत्य नहीं है?/Which of the following statements is not true about ‘mapping’ in mathematics.

A. प्रतिचित्रण, आनुपातिक विवेचन को प्रोत्साहित करता है।/Mapping promotes proportional reasoning. 

B. प्रतिचित्रण, गणित पाठ्यक्रम का भाग नहीं है।/Mapping is not part of mathematics curriculum.

C. प्रतिचित्रण का गणित के कई विषयों से समाकलन किया जा सकता है।/Mapping can be integrated in many topics of mathematics.

D. प्रतिचित्रण, स्थानिक चिंतन को बढ़ाता है।/Mapping strengthens spatial thinking.

Advertisement

Ans- B

Q.7 गणित पढ़ना, तार्किक और सोच क्षमताओं को विकसित करने का एक साधन है।/Mathematics is a means of developing reading, logical and thinking abilities.

A. गुणात्मक./qualitative.

B. आगमनात्मक/inductive

C. निगमनात्मक/deductive

D. मात्रात्मक/Quantitative

Ans- D

Q.8 2005 की अनुशंसा के अनुसार प्राथमिक विद्यालयों का गणित पाठ्यक्रम ?/As per the recommendation of NCF 2005 Primary School mathematics curriculum should.

A. छात्रों के प्रतिदिन के अनुभवों से संबंधित होना चाहिए।/Relate to children’s everyday life.

B. कार्यविधिक ज्ञान पर केंद्रित होना चाहिए।/Focus on procedural knowledge

C. गणितीय संकल्पनाओं में कठोरता देने वाला होना चाहिए। /Provide rigour in mathematical concepts. 

D. छात्रों को प्रगामी गणित के लिए तैयार करने वाला होना चाहिए।/Prepare children for advanced.

Ans- A 

Q.9 निम्नलिखित में से कौन कक्षा में गणित के शिक्षण के उददेश्य की सटीक विशेषता नहीं हैं।/Which of the following is not a precise feature of the purpose of teaching mathematics in the classroom?

A. जीवन से संबंधित होनी चाहिए/must be related to life 

B. व्यवहारिक संदर्भ में होनी चाहिए/should be in practical context

C. परीक्षण योग्य होनी चाहिए /must be testable-

D. विशिष्ट होनी चाहिए/must be unique

Advertisement

Ans- C

Q.10. वॉन हेले के स्तर जिस

विकास की अवस्थाओं का संकेत करते हैं, वह है?/Van Hiele’s levels refers to stages in the development of.

A. संख्या की संकल्पना |/Number concept.

B. स्थानीय मान ।/Place value.

C. ज्यामितीय चिंतन |/Geometrical thinking.

D. भिन्न/Fractions.

Ans- C 

Q.11 समावेशित विदयालय में | आप अपनी कक्षाके दृष्टि बाधित छात्रों की आवश्यकताओं को कैसे पूरा करेंगे?/How will you cater to the needs of visually challenged students of your classroom in an inclusive school.

A. उन्हें उच्च उपलब्धि वाले छात्रों के साथ बैठा कर |/Make them sit with high achievers. 

B. शिक्षण-अधिगम की वैकल्पिक प्रणालियों और साधनों का प्रयोग कर ।/Use alternate teaching-learning methods and resources.

C. उन्हें विशेष शिक्षक के पास भेज कर । /Send them to special educator.

D. उन्हें अभ्यास के लिए अतिरिक्त समय देकर ।/Provide them extra time for practise.

Ans- B

Q.12 गणितीय अध्यापन को प्रभावी बनाने के लिए निम्नलिखित में से कौन-सी विशेषता नहीं है? /Which of the following is not a characteristic of effective mathematics pedagogy.

A. एक ही संकल्पना के लिए विभिन्न शिक्षण-अधिगमों का प्रयोग |/Using various teaching- learning strategies for a single concept.

B. एक नई संकल्पना का परिचय देने के लिए समय के नियम का कठोरता से पालन करना । /Following strict time rules when introducing a new concept.

C. छात्रों की त्रुटियों के प्रतिरूपों पर केंद्रित होना /Focussing patterns of students.

Advertisement

D. कोई नही/none of these

Ans- B

10.13 गणित के कक्षा-कक्ष में दृष्टिबाधितों के लिए निम्नलिखित में से किनका प्रयोग शिक्षा के साधनों के रूप में किया जा सकता है?/Which of the following can be used as learning resources for visually challenged in a mathematics classroom.

A. संख्या चार्ट, कम्प्यूटर, जियोबोर्ड |/Number chart, computer, geoboard.

B. टेलर का गिनतारा, कम्प्यूटर, जियोबोर्ड |/Taylor’s abacus, computer, geoboard.

C. कम्प्यूटर, संख्या चार्ट, जियोबोर्ड |/Computer, number chart, geoboard.

D. टेलर का गिनतारा, भिन्न का किट, संख्या चार्ट |/Taylor’s abacus, fraction kit, number chart.

Ans- B

Q. 14 निम्न में से गणित में उपलब्धि कम होने का कारण क्या हो सकता है?/Which of the following could be contributing factor to underachievement in mathematics.

A. लिंग।/Gender.

B. सामाजिक-सांस्कृतिक पृष्ठभूमि।/Socio-cultural backbroud.

C. गणित का स्वरूप।/Nature of Mathematics. 

D. व्यक्ति की स्वाभाविक क्षमता।/Innate ability of person.

Ans- B

Q. 15 गणित की शिक्षा का मुख्य ध्येय है?/The main goal of Mathematics education is.

A. विदयार्थियों को गणित समझने में सहायता करना। /To help the students to understand mathematics.

B. उपयोगी क्षमताओं को | विकसित करना। /To develop useful capabilities.

C. बच्चों की गणितीय प्रतिभाओं का विकास करना । /To develop children’s abilities for mathematization.

Advertisement

D. ज्यामिति के प्रमेयों और उनके प्रमाणों का स्वतंत्र रूप से सृजन करना।/To formulate theorems of Geometry and their proofs independently.

Ans- C

Read More:-

CTET EVS MCQ’s on Shelter: पर्यावरण के अंतर्गत ‘आश्रय’ से जुड़े ऐसे ही सवाल पूछे जाते हैं सीटेट परीक्षा में अभी पढ़ें!

CTET Exam 2022: अपनी तैयारी को विशेष रूप देने के लिए बाल विकास शिक्षा शास्त्र के यह प्रश्न अवश्य पढ़ें!

Advertisement

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

CTET

UP Teacher Vacancy 2023: योगी सरकार का तोहफा, 51 हजार शिक्षक भर्ती जल्द, CTET-UPTET क्वालीफाई को मिलेगी एंट्री

Published

on

By

Advertisement

UP Shikshak Bharti 2023 (UPDATED): उत्तर प्रदेश में लंबे समय से शिक्षक भर्ती परीक्षा का इंतजार कर रहे अभ्यर्थियों के लिए अच्छी खबर है. उत्तर प्रदेश बेसिक शिक्षा परिषद (UPBEB) जल्द ही शिक्षक के 51 हजार से अधिक रिक्त पदों पर बंपर भर्ती निकालने वाला है. नवभारत टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक लोकसभा चुनाव से पहले योगी सरकार प्रदेश में  माध्यमिक व राजकीय विद्यालयों में रिक्त शिक्षकों के पदों पर भर्ती करने जा रही है.

इतने पदों पर होगी भर्ती

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक बेसिक शिक्षा विभाग में टीजीटी/ पीजीटी शिक्षकों के लगभग 51 हजार से अधिक पद रिक्त हैं, इसके अलावा राजकीय विद्यालयों में शिक्षकों के 7 हजार 471 पद रिक्त हैं. तो वही बात करें प्रवक्ता तथा सहायक अध्यापकों के पदों कि तो बताया जा रहा है प्रवक्ता के 2115 जबकि सहायक अध्यापक के 5256 पद खाली हैं जिनपर भर्ती की जानी है.

इन उम्मीदवारों को मिलेगी एंट्री

Advertisement

उत्तर प्रदेश के प्राइमरी तथा अपर प्राइमरी सरकारी स्कूलों में शिक्षकों की भर्ती सुपर टेट परीक्षा (SUPER TET) के माध्यम से की जाती है, जिसका आयोजन उत्तर प्रदेश बेसिक एजुकेशन बोर्ड द्वारा किया जाता है. सुपर टेट परीक्षा में केवल वे अभ्यर्थी ही शामिल हो सकते हैं जिन्होंने यूपी टेट परीक्षा (Uttar Pradesh Teacher Eligibility TestUPTET) पास की हो.  बहुत से अभ्यर्थियों के मन में यह सवाल भी रहता है कि क्या सीटेट परीक्षा क्वालीफाई अभ्यर्थी यूपी शिक्षक भर्ती परीक्षा में शामिल हो सकते हैं? 

आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश शिक्षक भर्ती परीक्षा यानी सुपर टेट में शामिल होने के लिए उम्मीदवार को किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से स्नातक डिग्री तथा टीचिंग ट्रेनिंग कोर्स (D.El.Ed, BTC, B.Ed. आदि) पास किया होना चाहिए साथ ही UPBEB द्वारा आयोजित यूपी टेट परीक्षा पास होना जरूरी है. इसके अलावा पेपर -1 के लिए सीटेट पास अभ्यर्थी भी सुपर टेट परीक्षा देने के पात्र होते हैं. 

यदि बात करें आयु सीमा की तो न्यूनतम 21 वर्ष से लेकर अधिकतम 40 वर्ष की आयु वाले अभ्यर्थी सुपर टेट परीक्षा के लिए आवेदन कर सकते हैं हालांकि उत्तर प्रदेश के मूल निवासी अभ्यर्थियों को कैटेगरी वाइज अधिकतम आयु में छूट का प्रावधान है अधिक जानकारी के लिए आधिकारिक नोटिफिकेशन पढ़ें.

इच्छुक उम्मीदवार आधिकारिक वेबसाइट ctet.nic.in पर जाकर अपना आवेदन सबमिट कर सकते हैं. सीटेट परीक्षा पास करने पर उम्मीदवार सुपर टेट के साथ ही केंद्र सरकार द्वारा संचालित केंद्रीय विद्यालय, नवोदय विद्यालय तथा आर्मी पब्लिक स्कूल आदि में निकलने वाली शिक्षकों की भर्ती में भी शामिल हो सकते हैं.

कब आएगा यूपीटीईटी नोटिफ़िकेशन? (UPTET 2023 Notification Update)

उत्तर प्रदेश में शिक्षक बनने की चाह रखने वाले लाखों अभ्यर्थी उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा यानी यूपीटीईटी के नोटिफिकेशन का इंतजार कर रहे हैं नवीनतम मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक यूपीटीईटी परीक्षा का नोटिफिकेशन फ़रवरी 2023 के अंतिम सप्ताह या मार्च के पहले सप्ताह तक जारी किया जा सकता है। नोटिफिकेशन जारी होने के बाद अभ्यर्थी आधिकारिक वेबसाइट updeled.gov.in पर जाकर आवेदन कर पाएंगे.

अधिक जानकारी के लिए अभ्यर्थी लगातार शिक्षा विभाग की वेबसाइट पर विजिट करते रहें बता दें कि यूपीटीईटी परीक्षा में शामिल होने के लिए अभ्यर्थी की उम्र 18 साल या उससे अधिक होनी चाहिए इसके साथ ही बैचलर डिग्री या समकक्ष डिप्लोमा होना जरूरी है।

Read More:

CTET Exam 2023: ‘अल्बर्ट बंडूरा के सिद्धांत’ से जुड़े कुछ ऐसे सवाल ही पूछे जा रहे हैं सीटेट परीक्षा की सभी शिफ्टों में

Advertisement

Continue Reading

CTET

CTET 2023: ‘पक्षियों’ से जुड़े बेहद रोचक सवाल, जो सीटेट की सभी शिफ्ट में पूछे जा रहे हैं!

Published

on

By

EVS MCQ on Birds For CTET
Advertisement

EVS MCQ on Birds For CTET: शिक्षक के रूप में कैरियर बनाने की चाहत लिए लाखों अभ्यर्थी प्रतिवर्ष सीबीएसई के द्वारा संचालित सिटी परीक्षा में शामिल होते हैं। इस वर्ष किस परीक्षा का आयोजन 28 दिसंबर से किया जा रहा है। अगर आप भी इस परीक्षा में शामिल होने जा रहे हैं, तो यहां पर हम आपके लिए पर्यावरण अध्ययन के अंतर्गत पक्षियों पर आधारित परीक्षा में पूछे जाने वाले संभावित प्रश्न लेकर आए हैं। इस टॉपिक से पेपर में एक से दो प्रश्न पूछे जा रहे हैं अभ्यर्थियों को इन प्रश्नों का अध्ययन एक बार अवश्य कर लेना चाहिए।

Read More:- UP Teacher Vacancy 2023: योगी सरकार का तोहफा, 51 हजार शिक्षक भर्ती जल्द, CTET-UPTET क्वालीफाई को मिलेगी एंट्री

CTET Environment MCQ on Birds—पर्यावरण अध्ययन के अंतर्गत पक्षियों पर आधारित परीक्षा में पूछे जाने वाले संभावित प्रश्न

1) किस प्रकार के पक्षी की चोंच मीट को काटने और खाने के काम आती है?

Advertisement

1. तिकोने आकार की चोंच

2. सीधी और पतली चोंच

3. हुक जैसी चोंच

4. लम्बी पतली सुई जैसी चोंच

Ans- 3

2) पक्षियों की एक स्पीशीज (प्रजाति) ऐसी है, जिसका नर पक्षी सुन्दर सुन्दर घोंसले बुनता है। मादा पक्षी उन सभी पोसलों को देखती है। उनमें से वह उसे चुनती है जो उसे सबसे अच्छा लगता है और उसी में अंडे देती है। पक्षियों की इस स्पीशीज का नाम है.

1. कोयल

2. वीवर पक्षी

3. शक्कर खोरा

4. वसंत गौरी

Ans- 2

3) अपनी गर्दन को पीछे तक घुमा सकने वाला पक्षी है.

1. कबूतर 

2. तोता

3. उल्लू 

Advertisement

4. मैना

Ans- 3

4) अपनी गर्दन को झटके से आगे पीछे कर सकने वाला पक्षी है.

1. कबूतर (कपोत)

2. तोता

3. उल्लू

4. मैना

Ans- 4

5) तीन पक्षियों का वह समूह जिसका प्रत्येक सदस्य वस्तुओं को हमारी तुलना में, चार गुना अधिक दूरी स्पष्ट देख सकता है, जो वस्तु हमें दो मीटर की दूरी से दिखाई देती है उसे ही ये पक्षी आठ मीटर दूरी से देख लेते हैं) कौन सा है

1 बाज़, कौआ, कबूतर

2 बाज़, चील, गिद्ध

3 कबूतर, तोता, चील 

4 कोआ, चील, बुलबुल

Ans- 2

6) पक्षियों की उस प्रजाति का नाम क्या है जिसमें नर पक्षी अनेक सुन्दर घोंसले बनाते हैं और मादा पक्षी उनमें से केवल एक घोंसला चुनते हैं और उसमें अण्डे देते हैं? 

1. कलचिड़ी

2. शकरखोरा

3. दर्जिन चिड़िया 

Advertisement

4. बया (वीवर)

Ans- 4

7. उस पक्षी का नाम जिसकी आंखें मानवों की तरह सामने की तरफ होती हैं:

1. चील

2. बाज

3. गिद्ध

4. उल्लू

Ans- 4

8) तीन पक्षियों का वह समूह जिसका प्रत्येक सदस्य वस्तुओं को हमारी तुलना में, चार गुना अधिक दूरी स्पष्ट देख सकता है, जो वस्तु हमें दो मीटर की दूरी से दिखाई देती है उसे ही ये पक्षी आठ मीटर दूरी से देख लेते हैं) कौन सा है

1 बाज़, कौआ, कबूतर

2 बाज़, चील, गिद्ध 

3 कबूतर, तोता, चील 

4 कोआ, चील, बुलबुल

Ans- 2

9) निम्नलिखित में से कौन सा सबसे छोटा प्रवासी पक्षी है जो उत्तरध्रुवीय क्षेत्र से भारत आता है:

1. सीखपर बत्तख (पिनटेल डक)

2. छोटी मतस्यकुररी (ऑस्प्रे) 

3. हंसावर (फ्लेमिंगो) 

Advertisement

4. छोटी जलरंक (स्टिंट)

Ans- 4

10) एक छोटे से पेड़ या झाड़ी की शाखा से लटकने वाला घोंसला बनाने वाला पक्षी है। 

1. सूर्यपक्षी / शक्कर खोरा

2. कौवा 

3. बारबेट / बसंतगौरी

4. भारतीय रॉबिन / कलचिड

Ans- 1

Read More:-

CTET 2023: ‘बाल विकास एवं शिक्षाशास्त्र’ के इस लेवल के सवाल पूछे जा सकते हैं आने वाली शिफ्ट में अभी पढ़ें!

CTET Exam: परीक्षा हॉल में बहुत काम आने वाले हैं ‘हिंदी पेडागॉजी’ के यह प्रश्न!

यहाँ हमने आगामी सीटीईटी परीक्षा की तैयारी कर रहे अभ्यर्थीयो के लिए ”पक्षियों” से जुड़े महत्वपूर्ण सवाल (EVS MCQ on Birds For CTET) विषय के महत्वपूर्ण सवालों का अध्ययन किया है CTET सहित सभी शिक्षक पात्रता परीक्षा की बेहतर तैयारी के लिए आप हारे TELEGRAM CHANNEL के सदस्य जरूर बने Join Link नीचे दी गई है?

Advertisement

Continue Reading

CTET

CTET Exam 2023: ‘अल्बर्ट बंडूरा के सिद्धांत’ से जुड़े कुछ ऐसे सवाल ही पूछे जा रहे हैं सीटेट परीक्षा की सभी शिफ्टों में

Published

on

By

Albert Bandura's Social Learning Theory for CTET AND TET Exams
Advertisement

Albert Bandura Theory Based Questions CTET: केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा का आयोजन सीबीएसई बोर्ड के द्वारा 28 दिसंबर 2022 से किया जा रहा है। परीक्षा वर्तमान समय में जारी है, जो कि 7 फरवरी 2023 तक जारी रहेगी। अगर आप भी इस परीक्षा में शामिल होने वाले हैं, तो यहां पर हम आपके लिए अल्बर्ट बंडूरा के द्वारा दिए गए सिद्धांत पर आधारित परीक्षा में पूछे जाने वाले संभावित प्रश्न लेकर आए हैं। जो कि आपको परीक्षा में बेहद काम आने वाले हैं। विगत शिफ्ट में इस टॉपिक से प्रश्न पूछे जा रहे हैं। ऐसे में आगामी चरण में भी यहां से प्रश्न पूछे जाने की प्रबल संभावना है।

केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा के लिए अल्बर्ट बंडूरा के सिद्धांत से जुड़े महत्वपूर्ण प्रश्न—MCQ on Albert Bandura Social Learning Theory For CTET Exam

1. अल्बर्ट बंडूरा ने प्रयोग किया?

A- कुत्ते पर

Advertisement

B-गुड़िया पर

C-जोकर पर

D-B और C दोनों पर

Ans- D 

2. सामाजिक अधिगम का सिद्धांत किसने दिया?

A- वाइगोत्सकी

B-जीन पियाजे

C- अल्बर्ट बंडूरा

D-कोहलबर्ग

Ans- C 

3. बंडूरा के अनुसार अनुकरण की प्रक्रिया के कितने चरण हैं?

A- पांच

B- सात

C- चार

D-दस

Advertisement

Ans- C 

4. अल्बर्ट बंडूरा ने अपना सिद्धान्त कब दिया?

A-1994

B-1977

C-1897

D-1920

Ans- B 

5. जिस माध्यम से बच्चा अनुकरण के द्वारा सीखता है उसे अल्बर्ट बंडूरा ने क्या कहा?

A-उत्पाद

B-मॉडल

C-स्की मा

D- पुनर्बलन

Ans- B

6. Social Foundations of Thought and Action पुस्तक किसकी है

A- जीन पियाजे

B-अरस्तू

C- अल्बर्ट बंडूरा

D-कोहलबर्ग

Advertisement

Ans- C 

7. …………… के अनुसार, बच्चों के चिंतन के बारे में सामाजिक प्रक्रियाओं तथा सांस्कृतिक संदर्भ के प्रभाव को समझना आवश्यक है।

A-लॉरेंस कोलबर्ग

B-जीन पियाजे

C-लेब वायगोट्स्की

D-अलबर्ट बैन्डुरा

Ans- C 

8. – बच्चों को संकेत देना तथा आवश्यकता पड़ने पर सहयोग प्रदान करना निम्नलिखित में से किसका उदाहरण है?

A-प्रबलन

B-अनुबंधन

C-मॉडलिंग

D-पाड़ (ढाँचा)

Ans- D

9. अल्बर्ट बैन्ड्यूरा के सामाजिक अधिगम सिद्धांत के अनुसार निम्न में से कौन-सा सही है?

A-बच्चों के सीखने के लिए प्रतिरूपण (मॉडलिंग) एक मुख्य तरीका है

B-अनसुलझा संकट बच्चे को नुकसान पहुंचा सकता है

C-संज्ञानात्मक विकास सामाजिक विकास से स्वतंत्र है

D-खेल अनिवार्य है और उसे विद्यालय में प्राथमिकता दी जानी चाहिए

Advertisement

Ans- A 

10. कोहलबर्ग के अनुसार, शिक्षक बच्चों में नैतिक मूल्य का विकास कर सकता है-

A-” कैसे व्यवहार किया जाना चाहिए ” इस पर कठोर निर्देश देकर

B-धार्मिक शिक्षा को महत्त्व देकर

C- व्यवहार के स्पष्ट नियम बनाकर

D-नैतिक मुद्दों पर आधारित चर्चाओं में उन्हें शामिल करके

Ans- D

11. लारिंस कोहलबर्ग विकास के क्षेत्र में शोध के लिए जाने जाते हैं।

A-संज्ञानात्मक

B-शारीरिक

C-नैतिक

D- गामक

Ans- C 

12. कोहलबर्ग के अनुसार सही और गलत प्रश्नों के बारे में निर्णय लेने में शामिल चिंतन प्रक्रिया को कहा जाता है

A-सहयोग की नैतिकता

B-नैतिक तर्कणा

C-नैतिक यथार्थवाद

D-नैतिक दुविधा

Advertisement

Ans- B

13. लॉरेंस कोहलबर्ग के द्वारा प्रस्तावित निम्नलिखित चरणों में से प्राथमिक विद्यालयों के बच्चे किन चरणों का अनुसरण करते हैं?

(1) आज्ञापालन और दंड – – उन्मुखीकरण

(2) वैयक्तिकता और विनिमय

(3) अच्छे अंत : वैयक्तिक संबंध

(4) सामाजिक अनुबंध और व्यक्तिगत अधिकार

A-2 और 1

B-2 और 4

C-1 और 4

D-1 और 3

Ans- A 

14. करनैल सिंह कानूनी कार्यवाही तथा खर्चों के बावजूद आय कर नहीं देते। वे सोचते हैं कि वे एक भ्रष्ट सरकार को समर्थन नहीं दे सकते, जो अनावश्यक बाँधों के निर्माण पर लाखों रुपये खर्च करती हैं । वे संभवतः कोहलबर्ग के नैतिक विकास की किस अवस्था में हैं?

A-परंपरागत

B-पश्च परंपरागत

C-पूर्व परंपरातगत

D-परा-परंपरागत

Ans- B

15. एक शिक्षिका अपनी कक्षा से कहती है, ‘सभी प्रकार के प्रदत्त’ कार्यों का निर्माण इस प्रकार किया गया है कि प्रत्येक विद्यार्थी अधिक प्रभावशाली ढंग से सीख सके, अतः सभी विद्यार्थी बिना किसी अन्य की सहायता से अपना कार्य पूर्ण करें। वह कोहलबर्ग के किस नैतिक विकास के चरण की ओर संकेत दे रही है?

Advertisement

A-पूर्व औपचारिक चरण 2 वैयक्तिकता और विनिमय

B-औपचारिक चरण 4 कानून और व्यवस्था

C-पर – औपचारिक चरण 5 सामाजिक संविदा

D- पूर्व – औपचारिक चरण 1 दंड परिवर्जन

Ans- B

Read More:-

CTET 2023: ‘बाल विकास एवं शिक्षाशास्त्र’ के इस लेवल के सवाल पूछे जा सकते हैं आने वाली शिफ्ट में अभी पढ़ें!

CTET Exam 2023: ‘पर्यावरण’ के इन सवालों को परीक्षा हॉल में जाने से पहले एक बार जरूर पढ़ें!

Advertisement

Continue Reading

Trending